| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

Download Kruti News Download Chanakya News

राज्य निर्वाचन आयोग बना सॉफ्टवेयर डेव्हलपमेंट लाइफ साइकल का सर्वश्रेष्ठ उदाहरण

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री गुप्ता ने दिया अवार्ड

भोपाल : बुधवार, जून 7, 2017, 16:37 IST
 

मध्यप्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग ने सॉफ्टवेयर डेव्हलपमेंट लाइफ साइकल का सर्वश्रेष्ठ उदाहरण प्रस्तुत किया है। आयोग ने आई.टी. के बेहतर उपयोग से पूरी निर्वाचन प्रक्रिया को पारदर्शी एवं गतिशील बनाया है। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने आयोग के उप सचिव श्री दीपक सक्सेना और श्री गिरीश शर्मा को 'बेस्ट प्रेक्टिस ऑफ सॉफ्टवेयर डेव्हलपमेंट लाइफ साइकल'' केटेगरी में प्रथम पुरस्कार दिया।

आयोग ने एमपीएसईसी आई.टी. परियोजना में विभिन्न एप्लीकेशन का निर्माण, निर्वाचन प्रबंधन, उम्मीदवारों के नामांकन, फोटोयुक्त मतदाता-सूची, ईव्हीएम एवं डीएमएम की ट्रेकिंग एवं प्रबंधन और प्रभावी संवाद एवं नियंत्रण के लिये एमआईएस के एप्लीकेशन बनाये गये हैं। मतदाता-सूची की ऑनलाइन उपलब्धता सुनिश्चित की गयी है।

 
विभागीय समाचार

नवीनतम समाचार 

"अभिशासन और विकास में अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी की भूमिका" पर अधिवेशन प्रशासन अकादमी में 24 अप्रैल को
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री द्वारा न्यूज पोर्टल साइबर न्यूज बुलेटिन्स का विमोचन
म.प्र. युवा वैज्ञानिक कांग्रेस में महिला वैज्ञानिकों का वर्चस्व
मध्यप्रदेश युवा वैज्ञानिक कांग्रेस में 206 रिसर्च पेपर प्रस्तुत
भेल दशहरा मैदान में विज्ञान मेला 3 मार्च से
नई दिल्ली में केन्द्रीय मंत्री श्री रविशंकर प्रसाद ने दिया अवार्ड
युवा वैज्ञानिक कांग्रेस भोपाल में 28 फरवरी से एक मार्च तक
ग्राम पंचायत तक पहुँचाये नेट कनेक्टिविटी
प्रदेश के 3000 से अधिक जन शिक्षा केन्द्र में हेड स्टार्ट
भोपाल, इंदौर और जबलपुर में निर्माणाधीन आई.टी. पार्क के कार्य शीघ्र पूरा करें
रिसर्च प्रोजेक्ट के विषय परिषद् तय करे
मेपकास्ट में होगी विज्ञान-अध्यात्म अध्ययन एवं शोध केन्द्र की स्थापना
राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस के लिये 10 सितम्बर तक करवाये जा सकेंगे रजिस्ट्रेशन
सभी पटवारियों को टेबलेट उपलब्ध करवाये
मेपकास्ट कल्चरल एक्सचेंज का कार्यक्रम बनाये
नॉलेज टूरिज्म के प्रति विश्व में लोगों की रुचि-रुझान बढ़ा
स्कूल स्तर से ही बच्चों में वैज्ञानिक दृष्टिकोण विकसित किया जाये