| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

View in EnglishDownload Kruti News Download Chanakya News

"जल-चौपाल की बदौलत 152 परिवारों को मिल रहा है स्वच्छ पेयजल

भोपाल : बुधवार, अगस्त 30, 2017, 13:05 IST
 

अनुसूचित-जाति बहुल रतलाम जिले के जावरा विकासखण्ड के ग्राम बानीखेड़ी में 'जल-चौपाल'' से 152 परिवारों को स्वच्छ एवं शुद्ध पेयजल मिलने लगा है। इस ग्राम में लगभग 1100 व्यक्ति रह रहे हैं, जिनमें से 400 अनुसूचित-जाति वर्ग के हैं।

ग्राम में स्थापित 5 हैण्ड-पम्प ही पेयजल की पूर्ति करते आ रहे थे। इनमें से 3 हैण्ड-पम्प जल की कठोरता अधिक होने के कारण अनुपयोगी हो गये थे। इन हैण्ड-पम्प के पानी का उपयोग निस्तार के अन्य कार्यों में किया जाने लगा था। स्वच्छ पेयजल की अनुपलब्धता के कारण महिलाओं को अनेक कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था। कभी-कभी विवाद की स्थिति भी निर्मित होने लगी थी।

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की पहल पर 'जल-चौपाल'' आयोजित कर ग्रामवासियों की पेयजल समिति का गठन किया गया। समिति में 5 पुरुष और 6 महिलाओं को सदस्य बनाया गया। समिति ने 'जल-चौपाल'' में पेयजल समस्या के समाधान के लिये विस्तृत चर्चा की। समिति की बैठक में निर्णय लिया गया कि ग्राम में पाइप-लाइन के जरिये सभी घरों में निजी नल कनेक्शन दिये जायेंगे।

नल कनेक्शन का धरोहर शुल्क अत्यंत कम एक हजार रुपये तथा प्रति कनेक्शन 75 रुपये निर्धारित किया गया है। समिति ने पेयजल योजना का निर्माण कार्य विभाग द्वारा निर्धारित संविदाकार से गुणवत्तापूर्ण करवाया। प्रत्येक घर से सभी आवश्यक दस्तावेज की पूर्ति भी करवायी गयी। ग्राम के सभी 152 परिवारों द्वारा निजी नल कनेक्शन लिये गये।

परिणाम-स्वरूप शुद्ध एवं स्वच्छ पेयजल के लिये ग्रामवासियों को घरेलू नल कनेक्शन दिया गया। अब ग्राम के 152 परिवार मात्र 2 हैण्ड-पम्प के भरोसे न रहकर निजी नल कनेक्शन के माध्यम से शुद्ध एवं स्वच्छ पेयजल प्राप्त कर रहे हैं। 'जल-चौपाल'' का एक महत्वपूर्ण पक्ष यह भी रहा कि ऐसे परिवार जो नल कनेक्शन लेने में सक्षम नहीं थे, उन्हें नि:शुल्क नल कनेक्शन दिया गया।

 
विभागीय समाचार

नवीनतम समाचार 

पीने के पानी की कमी से मुक्त हुआ धनुपुरा
पीएचई ने कार्यों में पारदर्शिता और गति लाने के लिये अपनाया तकनीकी नवाचार
जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने जाना रोगी का हालचाल
नदियों के संरक्षण की अभिनव पहल है वृक्षारोपण महाअभियान - सुश्री कुसुम महदेले
सुश्री कुसुम महदेले और पारस जैन द्वारा श्री अग्रवाल को श्रद्धांजलि
बंद नल-जल योजनाओं को चालू करने की हो रही मॉनीटरिंग
पीएचई मंत्री सुश्री कुसुम महदेले ने बजट को लोक कल्याणकारी और जनहितैषी बताया
नेचुरोपैथी, योग और आयुर्वेद जीवन में महत्वपूर्ण : श्री रुस्तम सिंह
एक लाख से अधिक ग्रामीण बसाहट में मिल रहा 55 लीटर प्रति व्यक्ति पेयजल
पेयजल की गुणवत्ता का स्तर बेहतर रखें
मध्यप्रदेश का नया घोषित मेडिकल कॉलेज टीकमगढ़ में ही बनेगा
कायाकल्प अभियान में टीकमगढ़ और भिंड के जिला अस्पताल प्रदेश में प्रथम
श्री पटवा ने मध्यप्रदेश में महिला सशक्तिकरण को नये आयाम दिये-सुश्री कुसुम महदेले
बंद नल-जल योजनाएँ ग्राम पंचायतों के माध्यम से शुरू की जाए
गंभीर बीमारी चिन्हित करने लगेंगे 8 दिसम्बर से 27 जनवरी तक शिविर
विश्व मधुमेह दिवस-14 नवम्बर
मंत्री सुश्री कुसुम महदेले द्वारा श्रीमती जयंती बेन मेहता के निधन पर शोक व्यक्त
मंत्रीगण ने दतिया में पार्थिव शिवलिंग निर्माण अनुष्ठान में हिस्सा लिया
रचनात्मक कार्यों को बढ़ावा देकर जेल बंदियों के जीवन में लाया जायेगा सुधार
पेयजल परीक्षण रिपोर्ट की समीक्षा संभाग एवं राज्य स्तर पर होगी