| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

Download Kruti News Download Chanakya News

दुष्कर्मियो को फांसी की सजा के प्रावधान से राहत महसूस कर रही बेटियाँ-महिलाएँ

भोपाल : गुरूवार, दिसम्बर 14, 2017, 15:09 IST
 

मध्यप्रदेश विधानसभा में सर्वसम्मति से दण्ड विधि (म.प्र. संशोधन) विधेयक पारित होने से प्रदेश की महिलाएँ और बेटियाँ राहत महसूस कर रही हैं। महिलाओं और बेटियों ने शासन के इस ऐतिहासिक कदम का स्वागत किया है। सरकार के इस फैसले से बेटियों को संबल मिला है। महिलाओं के सम्मान की रक्षा के लिये ऐसा कानून बनाने वाला देश का पहला राज्य बन गया है मध्यप्रदेश।

विधानसभा में अभी नवम्बर 2017 में ही नया कानून दण्ड विधि (म.प्र. संशोधन) विधेयक-2017 पारित किया गया है। यह विधेयक राष्ट्रपति के पास भेजा जायेगा। राष्ट्रपति के मंजूरी के बाद यह विधेयक कानून की शक्ल लेगा। इस संशोधन विधेयक के द्वारा दुष्कर्म से संबंधित आईपीसी की धारा-376 में नई धाराएं जोड़ी गई हैं जिसमें मृत्युदंड का प्रावधान किया गया है। इसमें 12 वर्ष की कम उम्र की बच्ची के साथ दुष्कर्म या सामूहिक दुष्कर्म के मामले में फाँसी की सजा का प्रावधान है। छात्राओं, युवतियों और महिलाओं से अभद्रता करना, उन्हें घूरने या पीछाकर छेड़-छाड करने वालों तथा सोशल नेटवर्किंग साइट पर अश्लील टिप्पणी करने वालों पर कारावास की सजा के साथ एक लाख रुपये तक के अर्थदण्ड का प्रावधान किया गया है। इसके अलावा, इस संशोधन विधेयक में विवाह का प्रलोभन देकर ज्यादती करने वाले आरोपी को तीन साल की सजा का प्रावधान नई धारा में जोड़कर किया जा रहा है।

पन्ना जिले के शासकीय महिला महाविद्यालय की प्रभारी प्राचार्य डॉ. सरिता खरे कानून में इस बदलाव के प्रयासों का स्वागत करते हुए कहा है कि ऐसे जघन्य अपराधियों के लिए फाँसी की सजा ही उपयुक्त है, लेकिन कानूनी प्रक्रिया पूर्णत: निष्पक्ष होना चाहिये ताकि कोई निर्दोष इस सजा से प्रताड़ित नहीं हो। महाविद्यालय में प्रथम वर्ष की छात्राएँ भारती कुशवाहा, शिल्पा विश्वकर्मा, रोशनी खान, जाशमीन खान एवं प्रियंका कोरी शासन के इस निर्णय को सही बताते हुए अब उन्हें राहत महसूस कर रही हैं।

मॉर्डन आफिस मेनेजमेंट का कोर्स कर रहीं श्रीमती प्रियंका सिंह, सुरभि खरैया और ज्योति राठौर के मुताबिक कानून में यह बदलाव बेहद जरूरी हो गया था। सरकार की यह पहल सराहनीय है। शिक्षिकाएँ रोशनी गुप्ता, आशिया निशा, प्रियंका केसरवानी एवं श्रीमती बबीता यादव का तो साफ कहना है कि महिलाओं की गरिमा, आबरू और आत्म-सम्मान को चोट पहुँचाने वाले और दूषित मानसिकता के ऐसे अपराधियों के लिए फाँसी की सजा ही उपयुक्त है ताकि कोई दूसरा ऐसा करने की कल्पना भी न कर सके।

 
विभागीय समाचार

नवीनतम समाचार 

नई राशन दुकान आवंटन में महिलाओं को मिलेगी प्राथमिकता
महिलाओं के लिए समानता का आशय पुरुषों जैसा होना नहीं : मंत्री श्रीमती चिटनिस
महिला बाल विकास मंत्री श्रीमती चिटनिस ने मध्यप्रदेश दण्ड विधि विधेयक-2017 का किया स्वागत
चार दिसंबर को प्रदेश में मनाया जाएगा लालिमा दिवस
महिलाओं को त्वरित न्याय सुलभ कराने आईपीसी की धारा में संशोधन - विधि मंत्री श्री रामपाल सिंह
खेती भारतीयों के जीवन का आधार : मंत्री श्रीमती चिटनिस
बुरहानपुर ने फिर रचा इतिहास : मंत्री श्रीमती चिटनिस
भारत भवन में आरंभ हुआ तीन दिवसीय बुरहानपुर उत्सव
"सुरक्षा छतरी" मध्यप्रदेश दूसरे राज्यों में भी हो रही लोकप्रिय
महिला बाल विकास मंत्री श्रीमती चिटनिस ने बाल दिवस से आरंभ किया "मिशन पालना"
महिला स्व-सहायता समूहों ने ग्रामीणों को साहूकारों से दिलाई मुक्ति
मंत्री श्रीमती चिटनिस ने पीड़ित बालिका के स्वास्थ्य की जानकारी ली
बारह वर्षीय पीड़ित बालिका प्रकरण
सघन मिशन इन्द्रधनुष के द्वितीय चरण का आज से आगाज
ऐतिहासिक बुरहानपुर ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ हस्ताक्षर महा-अभियान में रचा इतिहास
बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ हस्ताक्षर महा-अभियान सम्पन्न
स्वीमिंग पूल में महिला प्रशिक्षक और कन्या छात्रावास में महिला होमगार्ड जरूरी
महिला आयोग की संयुक्त बैंच आयोजित
भाईदूज से "आओ भैया तुम्हें सैर कराऊँ" पिंक ड्रायविंग लायसेंस अभियान
लाड़ली शिक्षा पर्व 12 अक्टूबर को