| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

विश्वविद्यालयों की स्वायत्तता जरूरी, संस्कार आधारित उच्च शिक्षा पर दें ध्यान 

विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के सम्मेलन में मुख्यमंत्री श्री चौहान

भोपाल : मंगलवार, दिसम्बर 12, 2017, 13:59 IST
 

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि विश्वविद्यालयों की स्वायत्तता बरकरार रखते हुए आवश्यकतानुसार उनका विस्तार करने की परिस्थितियां बनाई जाएंगी। श्री चौहान आज यहां राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में देश के मध्य क्षेत्र के सात विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

श्री चौहान ने कहा कि विश्वविद्यालयों को ज्ञान और कौशल देने के अलावा नागरिकता की शिक्षा देने पर भी ध्यान देना होगा। उन्होंने कहा कि शिक्षित होने और संस्कारित होने में अंतर है। संस्कार के बिना प्रतिभा का दुरुपयोग भी हो सकता है। उन्होंने आदि शंकराचार्य और स्वामी विवेकानंद की चर्चा करते हुए कहा कि संस्कारों की शिक्षा देने के तरीकों पर भी विचार करने की आवश्यकता है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत में नालंदा और तक्षशिला जैसे विश्वविद्यालय रहे हैं जो पूरे विश्व में विख्यात थे। आज सोचना पड़ेगा कि भारत के विश्वविद्यालय दुनिया के सौ शीर्ष विश्वविद्यालयों में कैसे शामिल हों। उन्होंने कहा कि संकल्प और प्रतिबद्धता के साथ यह संभव है। समाज और सरकार दोनों को साथ-साथ प्रयास करना होंगे। उन्होंने कहा कि उच्च शिक्षा की गुणवत्ता और स्वायत्तता की दिशा में ठोस प्रयास करने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी गंभीरता से विचार कर रहे है। 

श्री चौहान ने कहा कि उच्च शिक्षा रोज़गार देने वाली होना चाहिए। युवा सशक्तिकरण मिशन की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि युवाओं को रोजगार योग्य बनाने के लिए उन्हें आवश्यक प्रशिक्षण देने के प्रयास किये जा रहे है। मुख्यमंत्री ने मेधावी विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना की चर्चा करते हुए कहा कि प्रदेश में 75 प्रतिशत अंक लाने वाले मेधावी विद्यार्थियों का चयन राष्ट्रीय संस्थानों में होने पर उनकी पढ़ाई का खर्चा सरकार उठाएगी। उन्होंने कहा कि प्रतिभा की कमी नही है लेकिन अवसरों के अभाव में उनका पलायन होता है। इस स्थिति को रोकना होगा। 

श्री चौहान ने दोहरी शिक्षा प्रणाली को घातक बताते हुए कहा कि सबको शिक्षा के सामान अवसर मिलने चाहिए, कुलपतियों की यह सबसे बड़ी जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि प्राथमिक और उच्च शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने के लिए हर संभव प्रयास किये जा रहे हैं। आज सरकारी स्कूलों के विद्यार्थी अच्छे अंको से पास हो रहे हैं। 

राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के कुलपति श्री सुनील कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालयों को सामाजिक सरोकारों से भी संपर्क रखने की आवश्यकता है। उद्योग क्षेत्र से भी निरन्तर संपर्क जरूरी है। इस अवसर पर तकनीकी शिक्षा राज्यमंत्री श्री दीपक जोशी, एसोसिएशन ऑफ यूनिवर्सिटीज के अध्यक्ष प्रो. पी.बी. शर्मा, जनरल सेक्रेटरी श्री कमर और विश्वविद्यालयों के कुलपति, वरिष्ठ शिक्षाविद् अधिकारी उपस्थित थे।  मुख्यमंत्री ने यूनिवर्सिटी न्यूज़ के विशेष संस्करण और 'आरजीपीवी न्यूज़' लेटर का विमोचन किया।

 
विभागीय समाचार

नवीनतम समाचार 

नर्मदा नदी में मल-जल की एक बूंद भी नहीं मिलने देंगे
नर्मदा कैचमेंट क्षेत्र में 2 जुलाई को 8 करोड़ पौधे लगाए जाएंगे - मुख्यमंत्री श्री चौहान
मुख्यमंत्री श्री चौहान से विश्व चैम्पियन दि ग्रेट खली की सौजन्य भेंट
मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना का लाभ अब कक्षा बारहवीं में 70 प्रतिशत अंक पर मिलेगा, आय सीमा 8 लाख होगी
पुरुषार्थ और परिश्रम से आगे बढ़ा कल्चुरी समाज : मुख्यमंत्री श्री चौहान
अंतर्राष्ट्रीय पदक विजेताओं को भी मिलेगी सरकारी नौकरी
कोलारस में विकास की गति को और तेज किया जाएगा
सहरिया जनजाति की कला, संस्कृति को बढ़ावा देने माँ सबरी का भव्य मंदिर बनेगा
प्रदेश में ग्रीष्मऋतु में पेयजल आपूर्ति की अग्रिम योजना बनायें
महिला स्व-सहायता समूहों का 16 दिसम्बर को वृहद सम्मेलन
प्रदेश के सभी गांव वर्ष 2018 तक सड़कों से जुड़ेंगे
बदरवास में मिनी स्टेडियम बनेगा : मुख्यमंत्री श्री चौहान
अंतर्राष्ट्रीय पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को नौकरी में मिलेगी सीधी नियुक्ति
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बदरवास में किया नगर भ्रमण
किसानों को हरसंभव मदद और हर संकट में सरकार साथ - मुख्यमंत्री श्री चौहान
मुख्यमंत्री ने गांवों में पहुँचकर सुनी ग्रामीणों की समस्याएँ
खेल जिन्दगी का अहम हिस्सा हैं- मुख्यमंत्री श्री चौहान
प्रदेश में बाघों और तेंदुओं की संख्या बढ़ाने की दीर्घकालीन योजना बनेगी
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने एनीमिया उन्मूलन के लिये लालिमा रथों को रवाना किया
लोकतंत्र का भला सच कहने में : मुख्यमंत्री श्री चौहान