| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

Download Kruti News Download Chanakya News
"नमामि देवि नर्मदे"-सेवा यात्रा

प्रदेश में नशामुक्ति का आंदोलन चलेगा - मुख्यमंत्री श्री चौहान

नर्मदा कोष स्थापित होगा
नदियों, वृक्षों और पहाड़ों से प्रेम करें - राष्ट्र संत श्री मुरारी बापू
यात्रा के 100वें दिन ग्राम जैत में जन-संवाद

भोपाल : सोमवार, मार्च 27, 2017, 21:53 IST
 

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में नशामुक्ति का आंदोलन चलेगा। इसके प्रथम चरण में नर्मदा नदी के दोनों तटों पर पाँच-पाँच किलोमीटर की शराब की दुकानें आगामी एक अप्रैल से बंद कर दी जायेगी। उन्होंने कहा कि नदियाँ बचेंगी तो मानव सभ्यता और संस्कृति बचेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज नर्मदा सेवा यात्रा के 100 वें दिन ग्राम जैत में आयोजित जन-संवाद को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में राष्ट्र संत श्री मुरारी बापू और संत श्री कमल किशोर नागर विशेष रूप से उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आगामी दो जुलाई को अमरकंटक से बड़वानी तक नर्मदा के तट पर लाखों लोग करोड़ों पेड़ लगायेंगे। नर्मदा मध्यप्रदेश की जीवनदायिनी है। यह मध्यप्रदेश की समृद्धि का आधार है। प्रदेश के दर्जनों शहरों को पेयजल उपलब्ध कराती है। इसकी कृपा से मध्यप्रदेश को चार बार कृषि कर्मण अवार्ड मिला है। यह प्रदेश को सिंचाई के लिए जल और बिजली उपलब्ध कराती है। नर्मदा सेवा यात्रा नर्मदा को बचाने और उसका कर्ज उतारने की यात्रा है। उन्होंने कहा कि नर्मदा के दोनों तटों के शहरों में ट्रीटमेंट प्लांट बनाये जाएंगे। उन्होंने संकल्प दिलाया कि नर्मदा के तटों पर पेड़ लगायें, इसके किनारे के गाँवों में हर घर में शौचालय बनायें, पूजन-सामग्री पूजन कुण्ड में डालें। नर्मदा के किनारे चेंजिंग रूम और मुक्तिधाम बनाये जायें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बेटियों के साथ दुराचार करने वालों को फाँसी की सजा देने का कानून बनाया जायेगा। उन्होंने कहा कि बेटियों को बचायें, हर बच्चे को स्कूल भेंजे। उन्होंने कहा कि नर्मदा के लिये नर्मदा कोष की स्थापना की जायेगी। इस कोष की शुरूआत में संत मुरारी बापू ने 11 हजार रूपये का योगदान दिया। संत कमल किशोर नागर ने ओंकारेश्वर के नर्मदा घाटों के जीर्णोद्धार के लिये एक करोड़ एक लाख रूपये की राशि देने की घोषणा की।

राष्ट्र संत श्री मुरारी बापू ने कहा कि नदियों, वृक्षों और पहाड़ों को प्रेम करें क्योंकि जिससे हम प्रेम करेंगे उसे प्रदूषित नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान एक अनुष्ठान के रूप में शासन चला रहे हैं। अनुष्ठान के रूप में शासन से अद्भुत परिणाम मिलते हैं। ऐसा मानव होना चाहिए जो सर्वभूतों के कल्याण में रत हो। सबके कल्याण का संकल्प लें। सरकार के साथ जन-जन जुड़े। स्वच्छता अभियान से जुड़ें। मुरारी बापू ने प्रदेश सरकार को आगामी एक अप्रैल से नर्मदा तट की शराब की दुकानें बंद करने के लिए बधाई दी। उन्होंने कहा कि वे स्वयं पाँच पेड़ लगायेंगे।

संत श्री कमल किशोर नागर ने कहा कि माँ नर्मदा का जल भगवान महादेव के शरीर से निकला हुआ परम तत्व है। नदी के इस पवित्र जल को पूजन सामग्री एवं गंदगी डालकर गंदा नहीं करें। नर्मदा का प्रवाह अगर कमजोर हुआ, तो भावी पीढ़ियाँ प्रभावित होंगी। उन्होंने बेटियों के मान-सम्मान की रक्षा करने की अपील की। उन्होंने कहा कि अच्छे कार्य को सदैव प्रोत्साहित और बुरे कार्य को हतोत्साहित करना चाहिए।

यूनिसेफ के भारत प्रमुख श्री ल्यूस जार्ज ने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा विश्व का अनूठा अभियान है। जिसमें नदी के संरक्षण के लिए समाज और सरकार मिलकर काम कर रहे हैं। सिक्ख धर्मगुरू श्री ज्ञानी दिलीप सिंह ने कहा कि पानी जीवन है। नर्मदा सेवा यात्रा जीवन को बचाने का अभियान है। भोपाल शहर काजी ने कहा कि सभी धर्मों में पानी को साफ रखने और पेड़ लगाने की बात कही गयी है। पूरे देश में यह अभियान चलना चाहिए इससे आने वाली पीढ़ियों को फायदा होगा। स्वागत भाषण मुख्यमंत्री के पुत्र श्री कार्तिकेय ने दिया।

कार्यक्रम में विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीताशरण शर्मा, वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, जल संसाधन एवं जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह, खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया, श्रम मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य, सांसद श्री नंदकुमार सिंह चौहान, यूनिसेफ के प्रदेश प्रमुख श्री माइकल जूमा, प्रदेश भाजपा के संगठन मंत्री श्री सुहास भगत, स्वामी कापरी, संत श्री अखिलेश्वरानन्द जी सहित साधु-संतगण, मुख्यमंत्री की पत्नी श्रीमती साधना सिंह और बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने अपने ग्राम जैत में नर्मदा सेवा यात्रा की अगवानी की

नर्मदा सेवा यात्रा का आज ग्राम जैत आगमन पर भारी उत्साह से स्वागत किया गया। यात्रा के स्वागत के लिये ग्रामीणों ने ग्राम जैत में जगह-जगह स्वागत द्वार बनायें। मुख्यमंत्री श्री चौहान एवं श्रीमती साधना सिंह ने ग्रामीणों के साथ यात्रा की अगवानी की। श्री चौहान यात्रा का ध्वज लेकर और श्रीमती साधना सिंह सिर पर कलश लेकर यात्रा के साथ चलें। मुख्यमंत्री ने सपत्निक कन्या-पूजन और संतों का सम्मान किया।

यात्रा के पहुँचने पर ग्रामीणों ने भारी उत्साह-उमंग, आस्था और श्रद्धाभाव के साथ बैण्ड बाजा और महिलाओं ने सिर पर कलश लिए यात्रियों का स्वागत किया। यात्रा में बच्चे, बुजुर्ग, महिलाओं सहित हर वर्ग के लोग शामिल हुए। यात्रा में हुए हर-हर नर्मदे के उद्घोष से आसमान गूँज उठा। यहाँ पर यात्रा में विभिन्न जिलों से उपयात्रा के रूप में आये हुए लोग भी शामिल हुए।

इसके बाद माँ नर्मदा की भव्य महाआरती की गई। इस मौके पर प्रसिद्ध गायिका अनुराधा पौडवाल और गायक श्री कैलाश खेर ने अपनी मनभावन प्रस्तुति भी दी।

 
विभागीय समाचार

नवीनतम समाचार 

विश्व कल्याण और प्राणियों में सदभावना की कामना विश्व को वेदों की देन
नर्मदा तट के दोनों ओर जितने सघन वन लगेंगे प्रवाह उतना ही अविरल होगा
नर्मदा सेवा यात्रा जैसा नदी बचाने का अभियान पूरे देश में चलाने प्रधानमंत्री से चर्चा की जायेगी -सदगुरू जग्गी वासुदेव
मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा श्री सदगुरु जग्गी वासुदेव महाराज का स्वागत
मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा शासकीय विद्यालयों को एलसीडी मय सोलर पेनल वितरण का शुभारंभ
भौतिक विकास के साथ पर्यावरण संरक्षण भी जरूरी : मुख्यमंत्री श्री चौहान
नदी संरक्षण का विश्व में सबसे बडा अभियान है नर्मदा सेवा यात्रा : मुख्यमंत्री श्री चौहान
नदी को स्वच्छ बनाने का उदाहरण बनेगी नर्मदा सेवा यात्रा
मुख्यमंत्री श्री चौहान को लेखकों ने पुस्तकें भेंट की
प्रोजेरिया बीमारी के इलाज का पूरा खर्च उठायेगी सरकार
पोषण आहार व्यवस्था में सुधार के समन्वित प्रयास करें : मुख्यमंत्री श्री चौहान
रियल स्टेट व्यवसायियों की होगी पंचायत
नर्मदा ने हमें सब कुछ दिया, हम भी नर्मदा को प्रदूषणमुक्त बनाने का संकल्प लें
90 वर्षीय भूरियाबाई की आँखों की जाँच कराकर दिलाये अच्छा चश्मा
निवेश के माध्यम से रोजगार बढ़ाने के प्रयास
रोजगार की संभावनाओं को खोजने होगा वैश्विक समिट
नर्मदा नदी में जलकुंभी के फैलाव को रोकने के स्थायी उपाय करें
दो जुलाई को नर्मदा किनारे 10 करोड़ पौधे रोपे जायेंगे
स्वर्गीय श्री गुरूचरण सिंह का जीवन प्रेरणादायी -मुख्यमंत्री श्री चौहान
विश्व जल दिवस और नमामि देवि नर्मदे सेवा यात्रा का महत्व - शिवराजसिंह चौहान