| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
FaceBook Twitter You Tube
पिछला पृष्ठ

View in English Download Kruti News Download Chanakya News

भगवान श्रीराम भारत की पहचान है - मुख्यमंत्री श्री चौहान

रामायण मानवता ग्रंथ है - श्रीमती सुषमा स्वराज
कंबोडिया के कलादल द्वारा रामायण की सम्मोहक प्रस्तुति
 

भोपाल : शनिवार, फरवरी 28, 2015, 21:59 IST
 

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भगवान राम भारत की प्राण शक्ति है। भगवान राम भारत की सांस्कृतिक पहचान है। उन्होंने कहा कि आज भी भारत के आम जन रामायण से ही नैतिक शिक्षा लेते है। लोगों को रामायण की चौपाईयां कंठस्थ हैं। श्री चौहान ने कहा कि रामायण का न सिर्फ भारतीय बल्कि पूरे विश्व विशेष रूप से दक्षिण एशिया के जनमानस पर गहरा प्रभाव है। श्री चौहान आज यहाँ भारत भवन में अंतर्राष्ट्रीय रामायण मेले की श्रृंखला में कम्बोडिया देश के कलादल की प्रस्तुति के पूर्व रामायण प्रेमी दर्शकों को संबोधित कर रहे थे। इस श्रंखला का आयोजन भारतीय सांस्कृतिक सम्बन्ध परिषद् द्वारा किया गया है।

श्री चौहान ने अंतर्राष्ट्रीय रामायण मेला आयोजित करने की पहल के लिये परिषद सराहना की। उन्होंने बताया कि कम्बोडिया में अंकोर वाट मंदिर में भारतीय संस्कृति की विराटता के दर्शन करने जाने वालो को प्रदेश सरकार यात्रा का आधा खर्च वहन करती है। उल्लेखनीय है की अंकोर वाट के विश्व प्रसिद्ध मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है। इनकी भीतरी दीवारो पर रामायण के प्रसंगों को उकेरा गया है। उन्होने कहा कि अब भारत भवन में विदेशी कलाकारों की भी प्रस्तुतियां होंगी।

केंद्रीय विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज ने कहा कि रामायण मानवता का ग्रन्थ है। उन्होंने कहा की रामायण दुनिया के देशो को जोड़ने वाला ग्रन्थ है। यह सम्पूर्ण मानवता का मार्गदर्शक है। उन्होंने कहा की कम्बोडिया में अंकोर वाट के मंदिर परिसर पर आधारित प्रदर्शनी भोपाल में लगाई जायेगी। भोपाल को देश की सांस्कृतिक राजधानी बताते हुए उन्होने विभिन्न देशों में रामयण की व्यापकता और विस्तार की चर्चा की। उन्होने बताया कि दक्षिण कोरिया में आठ लाख लोगों की आबादी मानती है कि उनके पुरखे अयोध्या के रहने वाले थे। मारीशस में सेंटर आफ रामायण बनाया जा गया है।

परिषद के अध्यक्ष श्री सतीश चंद्र मेहता ने आयोजित अंतर्राष्ट्रीय रामायण मेले की श्रंखला के आयोजन के सम्बन्ध में जानकारी देते हुए बताया कि परिषद् ने दिल्ली मे  23 से 27 फरवरी तक आयोजित किया था। परिषद् ने सांस्कृतिक आयोजनों का विकेंद्रीकरण किया है। देश के बारह शहरों में सात देशों की रामायण प्रस्तुतियां हो रही हैं। इस श्रंखला में भोपाल को चुना गया है। कंबोडिया के कलाकारों ने रामायण के प्रसंगों की भावनात्मक प्रस्तुति दी।

इस अवसर पर राजस्व मंत्री श्री राम पाल सिंह प्रमुख सचिव श्री मनोज श्रीवास्तव और बड़ी संख्या में संस्कृतिप्रेमी उपस्थित थे।

FaceBook Twitter Youtube
 
समाचारो की सूची
भगवान श्रीराम भारत की पहचान है - मुख्यमंत्री श्री चौहान
संतुलित, विकास, जनोन्मुखी और राज्यों को मजबूत बनाने वाला बजट
मुख्य सचिव ने प्राप्त की सिंहस्थ कार्यो की जानकारी
अल्लामा इकबाल की स्मृति में कव्वाली समारोह जबलपुर में 3 मार्च से
मतदाताओं के नाम आज से आधार लिंक होंगे
पीडीएस में त्यौहार के कारण मिलेगी एक किलो अतिरिक्त शक्कर
व्यापम पीआरटी परीक्षा 01 मार्च को
नवमी, ग्यारहवीं परीक्षाओं के संचालन और मूल्यांकन के निर्देश
पल्स पोलियो अभियान आज
विमानतल प्रबंधन समिति की बैठक 9 मार्च को
समाधान आन लाईन कार्यक्रम 3 मार्च को
विज्ञान को बढ़ावा और डिजिटल इंडिया निर्माण में मध्यप्रदेश रहेगा आगे
देश की आर्थिक व्यवस्था तथा हर क्षेत्र के विकास को मजबूत करने वाला बजट
अस्थाई डिपो पर मिलेगी होलिका दहन की लकड़ी
एक करोड़ से अधिक बच्चों को पिलाई जायेगी पोलियो दवा
जिला पंचायत सदस्यों का परिणाम घोषित
रविवार को आर.आई. पल्स पोलियो अभियान
स्कूल शिक्षा मंत्री और राज्य मंत्री ने दी 10वीं-12वीं के परीक्षार्थियों को शुभकामनाएँ
भोपाल में तीन दिवसीय जैविक हाट 2 मार्च से
भारतीय प्रशासनिक सेवा के दो अधिकारी की नई पद-स्थापना
मोदी सरकार का पहला बजट सर्वव्यापी, सर्वस्पर्शी
मार्च माह में अवकाश दिनों में बिल भुगतान केन्द्र खुलेंगे
1