social media accounts

आज के समाचार

पिछला पृष्ठ

केन्द्र और राज्य के मंत्री नहीं बन सकेंगे काउंटिंग एजेन्ट

मतगणनाकर्मी और काउंटिंग एजेन्ट की नियुक्ति के लिये जिलों को निर्देश 

भोपाल : गुरूवार, मई 1, 2014, 18:57 IST
 

मध्यप्रदेश के 29 संसदीय क्षेत्र के रिटर्निंग ऑफिसर, कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारियों को 16 मई को होने वाली मतगणना संबंधी समस्त तैयारियाँ भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार करने को कहा गया है। निर्वाचन अधिकारियों को मतगणना केन्द्र का चयन, मतगणनाकर्मी तथा मतगणना अभिकर्ता की नियुक्ति के संबंध में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय द्वारा निर्देश जारी किये गये हैं।

जिलों को निर्वाचन आयोग द्वारा जारी निर्देशों का अक्षरश: पालन सुनिश्चित करवाने को कहा गया है। निर्देशों में मुख्य रूप से जिन बिन्दुओं पर ध्यान दिया जाना है, उनमें काउंटिंग स्टाफ की व्यवस्था प्रमुख है। जिलों को काउंटिंग स्टाफ का प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय रेण्डमाइजेशन और माइक्रो आब्जर्वर की व्यवस्था करना होगी। माइक्रो आब्जर्वर की कमी होने पर संभागीय आयुक्त को माँग भेजकर उसकी पूर्ति करवाना होगी। आयोग के निर्देश एवं नियम के अनुसार काउंटिंग एजेन्ट की नियुक्ति निर्धारित फार्म नंबर-18 में आवेदन लेकर ही की जा सकेगी। काउंटिंग एजेन्ट को फोटो आई कार्ड एवं बैजेस और काउंटिंग की व्यवस्था की पूरी जानकारी दी जायेगी। उन्हें प्रशिक्षण भी देने को कहा गया है। काउंटिंग हाल में प्रवेश करने के लिये अधिकृत पदाधिकारियों के अलावा अन्य कोई प्रवेश न कर सके, इसको सुनिश्चित करने को कहा गया है। उम्मीदवारों को इस बात से अवगत करवाने को कहा गया है कि केन्द्र अथवा राज्य के मंत्री, राज्य मंत्री, उप मंत्री आदि काउंटिंग एजेन्ट नहीं बन सकेंगे। अत: उनके नाम प्रस्तावित न किये जायें।

जिलों को गणना परिसर में अभ्यर्थियों को काउंटिंग एजेन्ट तथा काउंटिंग टेबिल की व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा गया है। सुरक्षा कर्मी तथा काउंटिंग स्टाफ का प्रशिक्षण समय पर करने को कहा गया है। एक काउंटिंग हाल/विधानसभा क्षेत्र के लिये अधिकतम 14 टेबिल लगाई जाएं तथा टेबिल की संख्या बढ़ाने के लिये आयोग से अनुमति ली जाए। चक्रवार गणना की जानकारी कम्प्युटर में फीड करने के लिये कम्प्युटर की टेबिल भी आरओ की टेबिल के साथ लगाने के निर्देश दिये गये हैं। किसी भी स्थिति में अलग कमरे में यह कार्य नहीं किया जायेगा।

चक्रवार गणना का परिणाम प्रदर्शित करने के लिये ब्लेक बोर्ड/व्हाइट बोर्ड की व्यवस्था रखने को कहा गया है। चक्रवार गणना प्रदर्शित करने के लिये उम्मीदवारों का नाम तथा चक्र का प्लान तैयार कर पहले से बोर्ड पर अंकित किया जाये ताकि प्रेक्षक द्वारा चक्रवार परिणाम सत्यापित करने पर उसे ब्लेक बोर्ड पर निर्धारित स्थान पर अंकित किया जा सके। प्रेक्षक द्वारा गणना स्थल एवं काउंटिंग हाल तैयार होने पर उसकी रिपोर्ट 15 मई तक अनिवार्य रूप से आयोग को भेजने के निर्देश दिये गये हैं। जिलों को काउंटिंग हाल का आदर्श ले-आउट भी भेजा गया है, जिसके अनुसार व्यवस्था करने को कहा गया है। मतगणना परिसर में पार्किंग, फायर फाइटिंग, निर्बाध विद्युत प्रदाय, जनरेटर/इनवर्टर, टायलेट तथा सुरक्षा आदि की पूरी व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये गये है।

मीडिया सेन्टर

मतगणना स्थल पर कम्युनिकेशन रूम/मीडिया सेन्टर/पब्लिक कम्युनिकेशन रूम की व्यवस्था तथा उसके लिये वरिष्ठ अधिकारी को प्रभारी अधिकारी बनाने को कहा गया है। अधिकारी का नाम एवं मोबाइल नंबर सीईओ कार्यालय को भेजने के निर्देश दिये गये है। मीडिया सेन्टर में टेबिल, कुर्सी, फेक्स, टेलीफोन, नेटवर्क, डाटा कम्युनिकेशन, मोबाइल आदि को रखने की पर्याप्त व्यवस्था आवश्यक रूप से करने के निर्देश दिये गये हैं। सूचना विभाग के वरिष्ठ अधिकारी को मीडिया सेन्टर का नोडल अधिकारी नियुक्त करने को कहा गया है। मीडिया को कोई कठिनाई न हो इसके लिये मीडिया सेन्टर के प्रभारी को उसका कार्य बताने के निर्देश दिये गये है। थ्री-टियर की सुरक्षा के साथ ही पर्याप्त स्टेशनरी की व्यवस्था रखने तथा प्रत्येक घटना की वीडियोग्राफी तथा उसकी सीडी सभी उम्मीदवारों को देने को कहा गया है। आयोग के निर्देश पर उक्त सीडी को सुरक्षित रखने को भी कहा गया है।


प्रलय श्रीवास्तव