social media accounts

आज के समाचार

पिछला पृष्ठ

मतगणना के दिन सुबह 8 बजे तक ही स्वीकार होंगे डाक-मतपत्र

दूसरे राज्यों में मतगणना प्रेक्षक बनकर जाने वाले आईएफएस अधिकारियों की ब्रीफिंग 

भोपाल : मंगलवार, मई 13, 2014, 18:02 IST
 

लोकसभा चुनाव के लिए 16 मई को होने वाली मतगणना में डाक-मतपत्र सुबह 8 बजे तक ही स्वीकार किये जायेंगे। मतगणना प्रारंभ होने के बाद डाक-मतपत्रों को शामिल नहीं किया जायेगा। यह जानकारी दूसरे अन्य राज्यों में मतगणना प्रेक्षक बनकर जाने वाले मध्यप्रदेश में पदस्थ अखिल भारतीय वन सेवा के अधिकारियों को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय द्वारा मतगणना प्रक्रिया से अवगत करवाने की गई ब्रीफिंग में दी गई। ब्रीफिंग सेशन में अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री व्ही.एल. कान्ता राव और संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री एस.एस. बंसल भी उपस्थित थे।

ब्रीफ्रिंग में अधिकारियों को भारत निर्वाचन आयोग द्वारा मतगणना संबंधी विस्तृत जानकारी प्रस्तुतिकरण द्वारा दी गई। उन्हें आयोग के निर्देशों एवं चुनाव संबंधी कानून की भी जानकारी दी गई। अधिकारियों को मतगणना संबंधी प्रक्रिया को अपनी देख-रेख में सावधानीपूर्वक सम्पन्न करवाने को कहा गया। उन्हें बताया गया कि डाक-मतपत्रों की गणना आरओ के कक्ष में होगी। सभी मतगणना प्रेक्षक संबंधित राज्य के सीईओ और चुनाव आयोग के सम्पर्क में रहकर कार्य करेंगे। मतगणना केन्द्रों में त्रि-स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था के इंतजाम पूर्व से ही किये गये हैं। प्रेक्षकों से कहा गया कि वे मतगणना वाले जिले में पहुँचकर सबसे पहले आरओ/डीआरओ से मतगणना की तैयारियों की जानकारी लें। साथ ही मतगणना केन्द्र का भ्रमण भी करें। वे उम्मीदवार और राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों के साथ भी बैठकें कर सकते है। प्रेक्षक स्ट्राँग रूम की ओ.के. रिपोर्ट भी चुनाव आयोग को भेजें। उन्हें बताया गया कि मतगणना हॉल में पुलिस अधिकारी या अन्य सुरक्षा कर्मी का प्रवेश निषेध रहेगा। मंत्री, राज्य मंत्री, सांसद, विधायक, महापौर भी काउंटिंग एजेन्ट नहीं बन सकेंगे। उनके उम्मीदवार होने पर ही उन्हें प्रवेश की अनुमति होगी।

श्री व्ही.एल. कान्ता राव ने अधिकारियों को निरस्त हुए डाक-मतपत्रों का ध्यानपूर्वक अवलोकन कर निरस्त होने के कारणों की जानकारी लेने को कहा। उन्होंने कहा कि प्रेक्षक तथा उनके निर्देश पर माइक्रो आब्जर्वर किसी भी हॉल/कक्ष की 2 ईवीएम को रेण्डमली चेक कर सकेंगे। प्रेक्षकों को ईवीएम में रिकार्ड/गणना किये गये वोट को भी चेक करना होगा। श्री कान्ता राव ने अधिकारियों से कहा कि वे मतगणना संबंधी प्रक्रिया का अध्ययन अवश्य कर लें तथा कार्यस्थल पर पहुँचने पर अपने ठहरने के स्थान एवं फोन नंबर को अवश्य प्रचारित करवाएं। जेनेसिस सॉफ्टवेयर में प्रविष्टि करवाये जाने वाले पत्रकों की हस्ताक्षरित प्रति अपने पास भी रखें। अधिकारियों को बताया गया कि टेबुलेशन शीट की प्रति काउंटिंग एजेंट एवं उम्मीदवार को भी देने के निर्देश आयोग द्वारा दिये गये हैं।

ब्रीफिंग में उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री एस.एस. रावत ने प्रस्तुतिकरण द्वारा मतगणना प्रक्रिया की विस्तृत जानकारी दी। मतगणना के लिए नियुक्त मास्टर ट्रेनर श्री संतोष भार्गव एवं डॉ. हरिकृष्ण गर्ग ने मतगणना में प्रयुक्त होने वाली ईवीएम से वोटों की गिनती की संचालन प्रक्रिया से अवगत करवाया।

भारतीय वन सेवा के जो अधिकारी अन्य राज्यों में मतगणना प्रेक्षक बनकर जायेंगे, उनमें सर्वश्री भागवत सिंह, अरूण कुमार, धीरेन्द्र भार्गव, ए. गोतमी, एच.यू. खान, एस.डी. पटेरिया, राजेश श्रीवास्तव, यू.के. सुबुधली, सुदीप सिंह, विभास ठाकुर, आनंद कुमार, ए.के. बिसारिया, हेमवती बर्मन, मृदुल पाठक, विवेक जैन, महेन्द्र सिंह धाकड़, एन.एस. दुनगिरयाल, बी.पी.एस. परिहार, अजय शंकर, सुश्री अर्चना शुक्ला, सर्वश्री जी.पी. वर्मा, एस.एस. राजपूत, शमशेर सिंह, आशीष कुमार वर्मा, आलोकदास, सत्येन्द्र बहादुर और रमेश कुमार गुप्ता शामिल हैं।


प्रलय श्रीवास्तव
राज्य महिला आयोग में प्रकरणों की सुनवाई
बीड़ी मजदूरों की बेहतरी के लिए मंत्रि-परिषद् समिति गठित
मतगणना के दिन सुबह 8 बजे तक ही स्वीकार होंगे डाक-मतपत्र
श्री रामकुमार बेनीवाल विदिशा उप चुनाव के मतगणना प्रेक्षक
मध्यप्रदेश के लिए 59 मतगणना प्रेक्षक नियुक्त
केवल बेहतर नतीजों में ही विश्वास करूंगा - कमिश्नर श्री सिंह
सोलहवीं लोकसभा के निर्वाचित होने वाले सदस्यों के लिये संसद भवन में हुई तैयारियाँ
चुनाव आयोग ने दसवीं-बारहवीं बोर्ड परीक्षा परिणाम घोषणा की सशर्त अनुमति दी
राज्यपाल द्वारा बुद्ध पूर्णिमा पर बधाई और शुभकामनाएँ
स्कूल चलें हम अभियान को कामयाब बनाएंगे प्रेरक
लंबित पेंशन प्रकरण की तत्काल भेजें जानकारी
प्रदेश में 61 लाख मीट्रिक टन गेहूँ उपार्जित
1