| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

View in English Download Kruti News Download Chanakya News

अयूब खां ने प्लास्टिक मल्चिंग विधि अपनाकर खेती को बनाया लाभ का धंधा

 

भोपाल : मंगलवार, नवम्बर 14, 2017, 14:51 IST
 

वैज्ञानिक तकनीक से टमाटर और मिर्च का रिकॉर्ड उत्पादन कर देवास जिले के किसान अयूब खां ने उन्नत खेती की मिसाल कायम की है। कन्नौद विकासखंड की ग्राम पंचायत डाबरी बुजुर्ग के किसान अयूब खां पिता रसूल खां ने म.प्र. शासन के ध्येय वाक्य 'खेती को बनाए लाभ का धंधा' को यथार्थ के रूप में स्थापित किया है। उद्यानिकी विभाग से तकनीकी सहायता और प्रशिक्षण प्राप्त कर इन्होंने पारम्परिक खेती के साथ ही वैज्ञानिक खेती को भी आजमाया और कम समय में ही टमाटर और मिर्च से ही अच्छा खासा लाभ अर्जित किया है।

वर्ष 2012-13 तक अयूब खां पारंपरिक खेती ही करते थे। रबी और खरीफ की फसलों पर ही निर्भर रहते थे। इन्हें इन फसलों से औसतन 1.75 लाख रुपए वार्षिक आय ही होती थी। जब उन्हें उद्यानिकी विभाग की सब्जी क्षेत्र विस्तार योजना का पता लगा तो इन्होंने उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों से संपर्क कर सब्जी क्षेत्र में वैज्ञानिक तकनीकों को जाना एवं समझा। साथ ही प्रशिक्षण प्राप्त कर वर्ष 2014-15 में इन्होंने प्लास्टिक मल्चिंग से एक हैक्टेयर में टमाटर और एक हैक्टेयर में मिर्च की खेती की। इसके लिए इन्हें 57 हजार रुपए अनुदान भी मिला।

अयूब खां के पास नलकूप और कुएं की सुविधा पहले से थी। मल्चिंग अपनाने से कम पानी और कम दवा का उपयोग हुआ। इससे खेती की लागत में कमी आई और मेहनत तथा पानी दोनों की बचत भी हुई।

वर्ष 2015-16 के मध्य तक अयूब खां ने लगभग 22 टन टमाटर और 29 टन मिर्च का रिकॉर्ड उत्पादन प्राप्त किया। इन्हे टमाटर को 7 रुपए प्रति किलो की दर से बेचने से 1 लाख 54 हजार रुपए की कमाई हुई। लागत व्यय 54 हजार रुपए घटाकर इन्हें एक लाख रुपए का शुद्ध लाभ हुआ। इसी प्रकार, मिर्च में इन्होंने 18 रुपए प्रति किलो की औसत से बिक्री कर 5 लाख 22 हजार रुपए की कमाई की। इसमें से 1,25,000 रुपए का लागत व्यय घटाकर 3,97,000 रुपए का शुद्ध लाभ अर्जित किया।

इस तरह अयूब खां ने 4,97,000 रुपए का शुद्ध वार्षिक लाभ प्राप्त किया। इस बड़ी रकम से अयूब खां का जीवन खुशहाल हो गया है। इस रकम से अयूब खां ने अपने कच्चे मकान को पक्का बनवा लिया है। अपने लिये और बच्चों के लिए दो मोटर साइकिल भी खरीद ली है। गांव के आवागमन के साधनों में अब इनकी टाटा मैजिक भी शामिल हो गई है। इस मैजिक के आने से न केवल ग्रामीणों को आने-जाने की अतिरिक्त सुविधा मिली है बल्कि जरुरत अनुसार अयूब खां इसी मैजिक से अपनी सब्जियां भी मंडी तक आसानी से पहुंचाते हैं। इसी बीच इन्होंने अपनी बेटी की शादी भी धूमधाम से संपन्न कराई है। आज अयूब खां पूरे डाबरी बुजुर्ग में प्रेरणा की मिसाल बन गये हैं। ग्रामवासियों से अब अयूब खां कहते है 'आगे आएँ, लाभ उठाएँ'।

सफलता की कहानी (देवास)

Youtube
 
समाचारो की सूची
जनजातीय कार्य विभाग द्वारा संचालित छात्रावासों का युक्तियुक्तकरण करने की मंजूरी
प्रदेश में नई रेत खनन नीति 2017 लागू करने का निर्णय
ग्रामीण क्षेत्रों में विदयुत राजस्व संग्रहण की जिम्मेदारी महिला स्व-सहायता समूहों को देने पर विचार
सभी जिलों और तहसीलों में समाधान-एक दिन व्यवस्था लागू होगी
समाज के साथ नैतिक आंदोलन चलाने की आवश्यकता
स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में भोपाल को देश का नम्बर एक शहर बनाने में योगदान दें - मुख्यमंत्री श्री चौहान
"बिल्डिंग टूमॉरोस चैम्पियन" कार्यक्रम में खेल मंत्री श्रीमती सिंधिया होंगी मुख्य अतिथि
अयूब खां ने प्लास्टिक मल्चिंग विधि अपनाकर खेती को बनाया लाभ का धंधा
प्रदेश में टी.बी. के मरीजों को रोजाना दवा मिलना शुरू : स्वास्थ्य मंत्री श्री सिंह
महिला बाल विकास मंत्री श्रीमती चिटनिस ने बाल दिवस से आरंभ किया "मिशन पालना"
बच्चों को निर्भीक बनाएं : राज्य मंत्री श्रीमती ललिता यादव
राजस्व मंत्री द्वारा कोटरा में पेबिंग ब्लॉक का भूमि-पूजन
राजस्व मंत्री ने बाल दिवस पर विद्यार्थियों को किया पुरस्कृत
मुख्य सचिव ने केंद्रीय दल को प्रदेश में सूखे की स्थिति की दी जानकारी
अध्यापक संवर्ग के 4607 आवेदकों का हुआ अंतर-निकाय संविलियन
मुख्यमत्री बाल श्रवण योजना से लब्धि को मिली बोलने-सुनने की शक्ति
आयुर्वेद चिकित्सालय में हर माह दूसरे सोमवार को होगा नि:शुल्क मधुमेह परीक्षण
विश्व मधुमेह दिवस पर जे.पी. अस्पताल में हुई जागरूकता रैली
रेत खनन नीति - 2017 के प्रमुख बिन्दु
प्रत्येक पंचायत में होगी राशन दुकान : हर दुकान पर होगा स्वतंत्र विक्रेता
1