| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

View in English Download Kruti News Download Chanakya News

ग्रामीण क्षेत्रों में विदयुत राजस्व संग्रहण की जिम्मेदारी महिला स्व-सहायता समूहों को देने पर विचार

प्रयोग के तौर पर राजगढ, विदिशा और रायसेन में होगी शुरूआत
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की ऊर्जा विभाग की समीक्षा
 

भोपाल : मंगलवार, नवम्बर 14, 2017, 20:12 IST
 

प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में विद्युत मीटर रीडिंग, बिल वितरण और विद्युत राजस्व संग्रहण की जिम्मेदारी महिलाओं के स्व-सहायता समूहों को देने पर विचार किया जा रहा है। प्रयोग के तौर पर इस व्यवस्था को दिसम्बर माह से राजगढ, विदिशा और रायसेन जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में लागू किया जाएगा। तीन से पांच सदस्यों वाले ग्रामीण महिला स्व-सहायता समूहों को यह जिम्मेदारी दी जायेगी। प्रत्येक दस गांवों के लिये एक महिला स्व-सहायता समूह होगा। इन समूहों को विदयुत राजस्व की शत-प्रतिशत वसूली करने पर 15 प्रतिशत प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। समूह को छह हजार रूपये प्रति माह का मेहनताना भी मिलेगा।

यह जानकारी आज यहां मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आयोजित ऊर्जा विभाग की समीक्षा बैठक में दी गई। बैठक में ग्रामीण घरेलू बिजली बिलों के निराकरण के मुददे पर पर भी चर्चा हुई।

बैठक में बताया गया कि प्रतिदिन 23 करोड़ यूनिट बिजली की आपूर्ति हो रही है और 2000 मेगावाट बिजली की बैकिंग उपलब्ध है। बिजली की कोई कमी नहीं है। खराब ट्रांसफार्मरों को बदलने के काम में तेजी लाते हुए अब तक 2050 खराब ट्रांसफार्मरों को बदल दिया गया है। कृषि पंपों को अस्थाई कनेक्शन देने की योजना से 30 हजार किसानों को लाभ मिला है। अस्थाई कनेक्शन की राशि 13 हजार रूपये से घटाकर 8,400 रूपये कर दी गई है। बिलिंग सिस्टम को और ज्यादा प्रभावी बनाया जा रहा है। प्रत्येक जिले को पूर्णत: विद्यतीकृत बनाने की दिशा में काम चल रहा है।

समीक्षा बैठक में ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन, अपर मुख्य सचिव ऊर्जा श्री इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री अशोक बर्णवाल, सचिव मुख्यमंत्री श्री विवेक अग्रवाल और विदयुत वितरण कंपनियों के मुख्य प्रबंध संचालक उपस्थित थे।

Youtube
 
समाचारो की सूची
जनजातीय कार्य विभाग द्वारा संचालित छात्रावासों का युक्तियुक्तकरण करने की मंजूरी
प्रदेश में नई रेत खनन नीति 2017 लागू करने का निर्णय
ग्रामीण क्षेत्रों में विदयुत राजस्व संग्रहण की जिम्मेदारी महिला स्व-सहायता समूहों को देने पर विचार
सभी जिलों और तहसीलों में समाधान-एक दिन व्यवस्था लागू होगी
समाज के साथ नैतिक आंदोलन चलाने की आवश्यकता
स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में भोपाल को देश का नम्बर एक शहर बनाने में योगदान दें - मुख्यमंत्री श्री चौहान
"बिल्डिंग टूमॉरोस चैम्पियन" कार्यक्रम में खेल मंत्री श्रीमती सिंधिया होंगी मुख्य अतिथि
अयूब खां ने प्लास्टिक मल्चिंग विधि अपनाकर खेती को बनाया लाभ का धंधा
प्रदेश में टी.बी. के मरीजों को रोजाना दवा मिलना शुरू : स्वास्थ्य मंत्री श्री सिंह
महिला बाल विकास मंत्री श्रीमती चिटनिस ने बाल दिवस से आरंभ किया "मिशन पालना"
बच्चों को निर्भीक बनाएं : राज्य मंत्री श्रीमती ललिता यादव
राजस्व मंत्री द्वारा कोटरा में पेबिंग ब्लॉक का भूमि-पूजन
राजस्व मंत्री ने बाल दिवस पर विद्यार्थियों को किया पुरस्कृत
मुख्य सचिव ने केंद्रीय दल को प्रदेश में सूखे की स्थिति की दी जानकारी
अध्यापक संवर्ग के 4607 आवेदकों का हुआ अंतर-निकाय संविलियन
मुख्यमत्री बाल श्रवण योजना से लब्धि को मिली बोलने-सुनने की शक्ति
आयुर्वेद चिकित्सालय में हर माह दूसरे सोमवार को होगा नि:शुल्क मधुमेह परीक्षण
विश्व मधुमेह दिवस पर जे.पी. अस्पताल में हुई जागरूकता रैली
रेत खनन नीति - 2017 के प्रमुख बिन्दु
प्रत्येक पंचायत में होगी राशन दुकान : हर दुकान पर होगा स्वतंत्र विक्रेता
1