social media accounts

आज के समाचार

पिछला पृष्ठ

पोषण जागरूकता को पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा : मंत्री श्रीमती चिटनीस

पोषण जागरूकता की अन्तर्राष्ट्रीय कार्यशाला के समापन पर ''भोपाल घोषणा-पत्र'' जारी 

भोपाल : बुधवार, मई 16, 2018, 19:48 IST
 

महिला बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनीस कहा है कि पोषण जागरूकता का विषय प्रदेश के शालेय तथा महाविद्यालयीन पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा। प्रत्येक घर-परिवार तक पोषण सुरक्षा सुनिश्चित करना ही पोषण संवेदनशील कृषि तथा पोषण जागरूकता का उद्देश्य है। श्रीमती चिटनीस भोपाल में तीन दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय कार्यशाला के समापन अवसर को संबोधित कर रही थी।

श्रीमती चिटनीस ने कहा कि पोषण की स्थिति में सुधार करना इस कालखण्ड की महत्वपूर्ण सामाजिक तथा नैतिक जिम्मेदारी है। इसकी अनदेखी से देश की अगली पीढ़ी प्रभावित होगी। उन्होंने कहा कि महिला बाल विकास विभाग सहित स्वास्थ्य, कृषि, पशु पालन, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति तथा स्कूल शिक्षा विभाग समन्वित रूप से पोषण की स्थिति में सुधार के लिए निरन्तर प्रयासरत हैं। श्रीमती चिटनीस ने कहा कि कार्यशाला में हुए छः तकनीकी सत्रों में प्राप्त निष्कर्षों को क्रमशः कृषि, पोषण प्रबंधन, नीतिगत पहल, सामाजिक तथा व्यवहारिक नवाचार, और पोषण साक्षरता के क्षेत्र में किए जाने वाले कार्यों को भोपाल घोषणा-पत्र में शामिल किया गया है।

राष्ट्रीय महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष सुश्री ललिता कुमार मंगलम् ने कहा कि भारत में कृषि श्रमिकों में 67 प्रतिशत् महिलाएं हैं। उन्होंने कृषि उपकरणों तथा कृषि मशीनरी की डिजाईनिंग महिलाओं की सुविधा के अनुसार करने की आवश्यकता बताई।

समापन अवसर पर भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के उप-महानिदेशक डॉ. ए.के.सिंह ने कहा कि पोषण संवेदनशील कृषि और पोषण जागरूकता के क्षेत्र में मध्यप्रदेश की पहल देश की अन्य राज्यों के लिए अनुकरणीय है। श्री सिंह ने कहा कि तेजस्विनी जैसे अन्य समूह विकसित हों और न्यूट्रीशन थाली, तिरंगा थाली, किचन गार्डन के विचार का घर-घर प्रचार हो और वह व्यवहार में भी आए। इसके लिए सतत प्रयास करने की आवश्यकता है। डॉ. मीरा मिश्रा ने कहा कि पोषण में कमी एक वैश्विक समस्या है। उन्होंने पोषण में कमी की पहचान, निरन्तर निगरानी और महिला समूहों के क्षमता विकास संबंधी विषयों पर अपने विचार रखें।

कार्यशाला में पोषण पर भोपाल घोषणा-पत्र जारी किया गया। इस अवसर पर प्रमुख सचिव महिला एवं बाल विकास श्री जे.एन.कांसोटिया, दीनदयाल शोध संस्थान दिल्ली के श्री अभय महाजन तथा श्री अतुल जैन और भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद अटारी जबलपुर के संचालक डॉ.अनुपम मिश्र, यूनिसेफ म.प्र. के प्रमुख श्री माईकल जूमा तथा संचालनालय महिला एवं बाल विकास आयुक्त डॉ. अशोक कुमार भार्गव उपस्थित थे।

कार्यशाला में यूनिसेफ, इन्टरनेशनल फण्ड फॉर एग्रीकल्चर डेव्हलपमेन्ट, जर्मनी की संस्था जी.आई.जेड., इन्टरनेशनल राईस रिसर्च इंस्टीट्यूट, ग्लोबल इन्वायरमेन्ट फेसिलिटेटर प्रोजेक्ट, इन्टरनेशनल इंस्टीट्यट फॉर मेज़ एण्ड व्हीट ने सहभागिता की।

समापन अवसर पर महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती चिटनीस ने सभी विषय विशेषज्ञों का सम्मान किया। इस अवसर पर आयुक्त, संचालनालय महिला एवं बाल विकास डॉ. अशोक भार्गव ने आभार व्यक्त किया।


संदीप कपूर
उप-राष्ट्रपति श्री नायडू को मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दी भावभीनी विदाई
श्री ओ.पी. कोहली ने मध्यप्रदेश के राज्यपाल के पद की शपथ ली
मुख्यमंत्री श्री चौहान को बहुजन संघर्ष दल के प्रतिनिधि-मंडल ने ज्ञापन सौंपा
उप राष्ट्रपति श्री नायडू का प्रदेश आगमन पर भव्य स्वागत
स्वच्छता सर्वेक्षण में मध्यप्रदेश को सम्मान दिलाने के लिये जनता का हृदय से धन्यवाद - मुख्यमंत्री श्री चौहान
माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय का तृतीय दीक्षांत समारोह
दो अप्रैल की घटना की निष्पक्ष जांच होगी
मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा बोर्ड परीक्षाओं में उच्च स्तर पर सफल विद्यार्थियों को बधाई
जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र रीवा प्रवास पर
सड़क सुरक्षा अध्ययन दल ने किया चण्ड़ीगढ़ में यातायात सिस्टम का निरीक्षण
माँ तुझे प्रणाम योजना के तहत नाथुला दर्रा बार्डर की अनुभव यात्रा के लिए युवाओं का दल रवाना
आज रायसेन में दो छात्रावास का शिलान्यास करेंगे वन मंत्री डॉ. शेजवार
राष्ट्रीय स्वच्छता सर्वेक्षण में इंदौर प्रथम और भोपाल द्वितीय रहा
एसटी-एससी वर्ग की योजनाओं के लिये "हितग्राही प्रोफाइल पंजीकरण" व्यवस्था शुरू
राज्य संग्रहालय में 18 मई को विश्व की प्रमुख धरोहरों की छायाचित्र प्रदर्शनी
पोषण जागरूकता को पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा : मंत्री श्रीमती चिटनीस
तकनीकी शिक्षण संस्थाओं में प्रवेश के लिये काउंसलिंग में आधार को जोड़ने का प्रस्ताव
राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य का दौरा कार्यक्रम
धारा कार्यक्रम में हुई मध्यप्रदेश के ममता अभियान की सराहना
दुर्गम इलाकों के स्कूली बच्चों को मिलेगी बेहतर परिवहन व्यवस्था
मुख्य बाजार में है हीरालाल का "कान्हा फर्नीचर मार्ट
1