social media accounts







मंत्रिपरिषद के निर्णय

वन क्षेत्रपाल के सीधी भर्ती के 200 पद को पदोन्नति से भरने की मंजूरी

विधि-विधायी के 29 अस्थाई पद फरवरी 2020 तक प्रवर्तित
मंत्रि-परिषद के निर्णय

भोपाल : मंगलवार, नवम्बर 3, 2015, 18:28 IST

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान की अध्यक्षता में आज संपन्न मंत्रि-परिषद की बैठक में मध्यप्रदेश तृतीय श्रेणी (अलिपिकीय ) वन सेवा भर्ती नियम को एक बार के लिए शिथिल करते हुए वन क्षेत्रपाल के सीधी भर्ती के रिक्त पदों में से 200 पद को पदोन्नति से भरने का निर्णय लिया गया है।

मंत्रि-परिषद ने विधि और विधायी कार्य विभाग और अधीनस्थ कार्यालयों के लिए 29 अस्थाई पद को 1 मार्च 2015 से 28 फरवरी 2020 तक प्रवर्तित किए जाने का निर्णय लिया। यह निर्णय विभाग के महत्वपूर्ण एवं तकनीकी स्वरूप के कार्य को देखते हुए लिया गया।

मंत्रिपरिषद ने प्रदेश के पाँच जिलों में नवीन एकीकृत सहकारी विकास परियोजनाएँ शुरू करने के लिए विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन (डीपीआर) राज्य शासन की अनुशंसा सहित स्वीकृति के लिए एनसीडीसी नई दिल्ली को भेजने का निर्णय लिया। मंडला जिले के लिए डीपीआर अनुसार परियोजना लागत 34 करोड़ 60 लाख 66 हजार, मुरैना के लिए 36 करोड़ 98 लाख 56 हजार , पन्ना के लिए 33 करोड़ 48 लाख 85 हजार, सतना के लिए 29 करोड़ 36 लाख 64 हजार और श्योपुर के लिए 34 करोड़ 88 लाख 97 हजार रुपए निर्धारित की गई है। पूर्व में सहकारिता विभाग द्वारा ग्वालियर एवं छतरपुर जिले में एकीकृत सहकारी विकास परियोजना शुरू करने संबंधी कार्यवाही का अनुमोदन भी मंत्रि-परिषद ने किया।

मंत्रि-परिषद ने राज्य सामान्य निर्धन वर्ग कल्याण आयोग में श्रीमती वीणा तैलंग को सदस्य सचिव के उच्च रिक्त पद के विरुद्ध उप सचिव के निम्न पद पर एक वर्ष के लिए दी गई संविदा नियुक्ति के कार्यकाल में एक वर्ष की वृद्धि भी करने का निर्णय लिया। यह वृद्धि 28 जनवरी 2015 से 27 जनवरी 2016 तक के लिए स्वीकृत की गई है।


अशोक मनवानी/दुर्गेश रायकवार
चना, मसूर और सरसों की न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदी करने का निर्णय
मंत्रि-परिषद द्वारा पट्टा नवीनीकरण प्रक्रिया का अनुमोदन
राज्य मंत्रि-परिषद की बैठक में हुए किसान हितैषी निर्णय
प्रदेश के 30 नगरीय क्षेत्रों में 43 नवीन तहसीलों के गठन की सैद्धांतिक स्वीकृति
अल्पकालीन फसल ऋण की देय तिथि 27 अप्रैल तक बढ़ाने की मंजूरी
मध्यप्रदेश मंत्रालय में ई-ऑफिस प्रणाली लागू करने की मंजूरी
मंत्रि-परिषद ने आबकारी नीति वर्ष 2018-19 को दी मंजूरी
कौशल प्रशिक्षण एवं उच्चतर शिक्षा के मध्य अंतराल मिटाने के लिये ऐतिहासिक कदम
मुख्यमंत्री तेदूंपत्ता संग्राहक कल्याण दुर्घटना सहायता योजना के लिए 12.45 करोड़ स्वीकृत
हाई स्कूल/हायर सेकेण्डरी स्कूलों के उन्नयन के लिए 335 करोड़ स्वीकृत
सहरिया, बैगा और भारिया परिवारों को कुपोषण से मुक्ति के लिए प्रतिमाह 1000 रुपए
प्रदेश के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी क्षेत्र को सुदृढ़ बनाने का फैसला
आचार्य शंकर सांस्कृतिक एकता न्यास की स्थापना की जाएगी
जनजातीय कार्य विभाग द्वारा संचालित छात्रावासों का युक्तियुक्तकरण करने की मंजूरी
प्रदेश में नई रेत खनन नीति 2017 लागू करने का निर्णय
सीप कोलार लिंक परियोजना के लिए 137 करोड़ रुपये मंजूर
प्रदेश में 225 लघु सिंचाई परियोजना के लिए 180 करोड़ रूपये मंजूर
उद्योग संवर्द्धन नीति-2014 में संशोधन की मंजूरी
उद्योग एवं रोजगार संचालनालय की योजनाओं के लिए 2195 करोड़ रुपये की राशि मंजूर
मध्यप्रदेश कृषि उत्पाद लागत एवं विपणन आयोग के लिए नए पद निर्मित
शासकीय प्राथमिक एवं माध्यमिक शालाओं के लिए ड्रिकिंग वॉटर योजना की मंजूरी
स्कूल शिक्षा विभाग की 5 योजनाओं के लिये 493.11 करोड़ रूपये स्वीकृत
प्रदेश में किसानों के लिये भावान्तर भुगतान योजना लागू करने का निर्णय
तहसीलदार और नायब-तहसीलदार के रिक्त पदों की पूर्ति संविदा पर करने की मंजूरी
देवास में उद्योगों को जल देने विकासकर्ता चयन की मंजूरी
पचमढ़ी से 11 ग्राम अभयारण्य क्षेत्र से बाहर -शेष 28 ग्राम का इनक्लोजर
शासकीय सेवकों को एक जनवरी, 2016 से पुनरीक्षित वेतनमान
विद्युत दरों पर उपभोक्ताओं को 8700 करोड़ की सब्सिडी देने का निर्णय
पुनरीक्षित दीनदयाल अंत्योदय उपचार योजना 13 जिलों में लागू होगी
स्नातक स्तर के सामान्य पाठ्यक्रमों में सेमेस्टर प्रणाली समाप्त
1 2 3 4 5 6 7 8 9