| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

सिहंस्थ-लेख/संदर्भ

  
संदर्भ

वेदों के गूढ़ रहस्य और भावार्थ को जानने की प्राचीन नगरी है उज्जयिनी

वैदिक शिक्षा संस्थान के नवीन भवन में वैदिक शिक्षा ग्रहण कर अगली पीढ़ी होगी तैयार

भोपाल : सोमवार, फरवरी 15, 2016, 15:09 IST

उज्जयिनी नगर प्राचीन समय में वैदिक शिक्षा का मुख्य केन्द्र माना जाता था। इस नगर की वैदिक शिक्षा की ख्याति दूर-दूर तक फैली हुई थी। तब से लेकर आज भी उज्जैन वेद शिक्षा में अपनी खास पहचान बनाये हुए है। पूरा संसार जब अज्ञान, अशिक्षा और अंधकार में भटक रहा था तथा आज के कई आधुनिक माने जाने वाले राष्ट्रों का उदय भी नहीं हुआ था, तब भारत के नाभि-स्थल उज्जयिनी में महर्षि सान्दीपनि का गुरुकुल स्थापित किया गया था। इस ख्याति को आगे बढ़ाने के लिये और वैदिक ज्ञाताओं की नई पीढ़ी तैयार करने के लिये उज्जैन महाकाल मंदिर प्रबंध समिति द्वारा नया भवन तैयार करवाया गया है। नये भवन में वैदिक शिक्षा ग्रहण कर रहे छात्रों की कक्षाएँ शीघ्र शुरू हो रही हैं।

यहाँ वेदों की प्रमुखता को ध्यान में रखते हुए अध्यापन कार्य करवाया जायेगा। महर्षि पतंजलि संस्कृत शोध संस्थान मध्यप्रदेश द्वारा तैयार किये गये नये भवन में शुक्ल यजुर्वेद के गूढ़ रहस्य उदघाटित होंगे। यहाँ प्रथमा, पूर्व मध्यमा और उत्तर मध्यमा की कक्षाएँ संचालित होंगी। प्रथमा में छठवीं, सातवीं और आठवीं की कक्षाएँ चलेगी। इन कक्षाओं में शुक्ल यजुर्वेद में वर्णित मंत्रों और पूजा-पद्धति की शिक्षा देकर नयी पीढ़ी के पंडित बनाये जायेंगे। कक्षा आठवीं के विद्यार्थियों को सभी प्रकार की पूजा में उपयोग में आने वाले मंत्रों की शिक्षा दी जायेगी। विद्यार्थियों को शुक्ल यजुर्वेद के रुद्राक्ष अध्याय में शामिल श्लोकों और मंत्रों का मंतव्य समझाया जायेगा। पूर्व मध्यमा की नवमीं और दसवीं कक्षाओं में बड़े-बड़े यज्ञों में पढ़े जाने वाले श्लोकों और मंत्रों का ज्ञान दिया जायेगा। उत्तर मध्यमा में माध्यदिनी संहिता के 40 अध्याय की शिक्षा में मूल ग्रंथ और वेदों की भाषा की तमाम जानकारी दी जायेगी।

उज्जैन में 12 करोड़ 56 लाख की लागत से यह भवन बनकर तैयार हुआ है। महाकाल मंदिर प्रबंध समिति द्वारा नये भवन में वैदिक शिक्षा ग्रहण करने वाले छात्रों को छात्रावास और भोजन की सुविधा उपलब्ध करवायी जायेगी। सिंहस्थ के दौरान उज्जैन पहुँचने वाले अनेक धर्मगुरु भी यहाँ पहुँचकर गतिविधियों की जानकारी लेंगे।

 
सिहंस्थ-लेख/संदर्भ
अन्य राज्यों के श्रद्धालु सिंहस्थ की व्यवस्थाओं से खुश
पंचक्रोशी यात्रा में उमड़ा भक्‍तों का सैलाब
पंचक्रोशी यात्रा
मालवा की महिमामयी जीवन-रेखा क्षिप्रा
क्षिप्रा गंगा से भी अधिक पवित्र और पुण्य-प्रदायिनी
पुण्य-सलिला क्षिप्रा नदी
उज्जैन की बौद्ध परम्पराएँ
सिंहस्थ महापर्व पर आने वाले प्रमुख अखाड़े
उज्जैन के दर्शनीय स्थल
अवन्ति साम्राज्य का संस्थापक - सम्राट चण्डप्रद्योत
भर्तृहरि-सिद्ध और सत्र
तीर्थ हैं क्षिप्रा के तट
महाकवि कालिदास
तान्त्रिक साधना का केन्द्र-उज्जयिनी
मालव लोक नाट्य-माच और उसकी उत्सभूमि उज्जयिनी
वेदों के गूढ़ रहस्य और भावार्थ को जानने की प्राचीन नगरी है उज्जयिनी
प्राचीन वाणिज्य-केन्द्र उज्जयिनी
विक्रमादित्य और उनके नवरत्न
उज्जैन में 6 दशक पूर्व हुआ था अर्द्ध-कुम्भ
उज्जैन की वेधशाला
अवन्ती क्षेत्र के प्राचीन अभिलेख और इतिहास चयन
भगवान श्रीकृष्ण ने उज्जयिनी में पाया था 64 कला का ज्ञान
विदेशी प्रवासियों की दृष्टि में उज्जयिनी
अकाल के कारण वर्ष 1897 में सिंहस्थ उज्जैन की जगह महिदपुर में हुआ था
बीसवीं सदी के 9 सिंहस्थ में सिर्फ एक शाही स्नान
उज्जैन की भौगोलिक स्थिति अनूठी
सिंहस्थ स्नान की परम्परा
उज्जैन में 276 वर्ष पूर्व हुआ था महाकालेश्वर मंदिर का नव-निर्माण
महाकाल: प्रमुख ज्योतिर्लिंग
1