| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

मंत्रिपरिषद के निर्णय

  

प्रदेश में शीतगृह की भण्डारण क्षमता 5 लाख मीट्रिक टन बढ़ायी जायेगी

शीतगृह निर्माण के लिये 294.69 करोड़ के प्रस्ताव ऑनलाइन लिये जायेंगे
मंत्रि-परिषद द्वारा विशेष प्रशासकीय योजना का अनुमोदन

भोपाल : मंगलवार, अगस्त 23, 2016, 16:45 IST

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आज हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में नश्वर उत्पादों की भण्डारण क्षमता में वृद्धि की विशेष योजना का प्रशासकीय अनुमोदन दिया गया। उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण विभाग द्वारा नश्वर उत्पादों की भण्डारण क्षमता में वृद्धि की 294 करोड़ 69 लाख की विशेष योजना में प्रस्ताव ऑनलाइन प्राप्त किये जायेंगे। प्राप्त प्रस्ताव को 'पहले आओ-पहले पाओ'' के सिद्धांत पर स्वीकृति दी जायेगी। योजना का विस्तार 2 वर्ष बाद समीक्षा के बाद किया जायेगा।

प्रदेश में शीतगृह निर्माण पर 50 प्रतिशत पूँजीगत अनुदान दिये जाने का निर्णय लिया गया है। पाँच हजार मीट्रिक टन क्षमता के शीतगृह निर्माण पर अधिकतम 2 करोड़ रुपये का अनुदान दिया जायेगा। प्रदेश में आगामी 2 वर्ष में शीतगृह की भण्डारण क्षमता 5 लाख मीट्रिक टन बढा़ई जायेगी।

प्रदेश में उद्यानिकी फसलों के उत्पादन में पिछले वर्षों में काफी वृद्धि हुई है। उत्पादन अधिक होने पर अक्सर किसानों को उनके उत्पाद का उचित मूल्य नहीं मिल पाता है। इस बात को ध्यान में रखते हुए नश्वर उत्पादों के भण्डारण के लिये शीतगृह, प्याज भण्डार-गृह और कृषक प्रक्षेत्रों पर कोल्ड-रूम की स्थापना को बढ़ावा दिया जायेगा। आगामी 2 वर्ष में प्याज की भण्डारण-क्षमता 5 लाख मीट्रिक टन बढ़ायी जायेगी। प्रदेश के प्याज उत्पादक प्रमुख 15 जिले को चिन्हित कर उन्हें प्राथमिकता दी जायेगी।

योजना में 50 मीट्रिक टन क्षमता के प्याज भण्डार-गृह के लिये लागत का 50 प्रतिशत पूँजीगत अनुदान के रूप में अधिकतम एक लाख 75 हजार रुपये और 25 मीट्रिक टन क्षमता के भण्डार गृह के लिये अधिकतम 87 हजार 500 रुपये का अनुदान दिया जायेगा। प्रदेश में नश्वर उत्पादों की शीत-श्रंखला निर्मित करने के लिये प्रमुख सब्जी उत्पादक 10 जिले में पॉयलट प्रयोग के तौर पर कृषक प्रक्षेत्रों में 500 कोल्ड-रूम की स्थापना सब्जी रूट के चिन्हित कलस्टरों में की जायेगी। कोल्ड-रूम की लागत का 50 प्रतिशत अधिकतम 25 हजार रुपये प्रति मीट्रिक टन पूँजीगत अनुदान दिया जायेगा।

 
मंत्रिपरिषद के निर्णय
विद्युत दरों पर उपभोक्ताओं को 8700 करोड़ की सब्सिडी देने का निर्णय
पुनरीक्षित दीनदयाल अंत्योदय उपचार योजना 13 जिलों में लागू होगी
स्नातक स्तर के सामान्य पाठ्यक्रमों में सेमेस्टर प्रणाली समाप्त
ग्राम पंचायतों में नई उचित मूल्य दुकानों में एक तिहाई दुकानें महिला संस्था को
चार हजार करोड़ रूपये से अधिक की तीन सिंचाई परियोजनाओं को स्वीकृति
शासकीय सेवकों को एक जनवरी 2017 से महँगाई भत्ते में सात प्रतिशत वृद्धि
नर्मदा नदी को न्यायिक व्यक्ति / जीवित इकाई का वैधानिक दर्जा देने का अनुमोदन
एनटीपीसी खरगोन को 0.532 हेक्टेयर शासकीय भूमि आवंटित करने का निर्णय
महिलाओं के कौशल संवर्धन के लिए "कौशल्या योजना" की मंजूरी
900 करोड़ लागत के मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम को मंजूरी
मुख्यमंत्री पुलिस आवास योजना में 25 हजार आवास का होगा निर्माण
प्रदेश में चार सिंचाई परियोजनाएँ मंजूर
मध्‍यप्रदेश टूरिज्‍म बोर्ड का होगा गठन
रेलवे नेटवर्क के विस्तार के लिए ज्वाइंट वेंचर कंपनी गठित करने की मंजूरी
73 विकासखण्ड में ग्रामीण युवा केन्द्र और संविदा समन्वयकों के पदों की स्वीकृति
प्रदेश के चिकित्सा महाविद्यालयों में 250 एमबीबीएस सीट की वृद्धि
समग्र आबकारी नीति को मंजूरी
सिंहस्थ में संलग्न रहे शासकीय सेवक को 5 हजार रुपए प्रोत्साहन राशि की मंजूरी
पूर्ण शक्ति केंद्र के पॉयलट प्रोजेक्ट को मंजूरी
शासकीय सेवकों को 7 प्रतिशत महँगाई भत्ता स्वीकृत
56 विद्यालय होंगे जिला पंचायत/नगरीय निकाय के नियंत्रण में
वरिष्ठ पत्रकारों की श्रद्धा निधि में 20 प्रतिशत वृद्धि की मंजूरी
अगले शैक्षणिक सत्र से एनसीईआरटी पाठ्यक्रम को मंजूरी
सामूहिक शक्ति प्रदेश के विकास में लगे- मुख्यमंत्री श्री चौहान
तीन सिंचाई परियोजना के लिए 1626 करोड़ की मंजूरी
खाद्य प्र-संस्करण इकाइयों के लिए विशेष पैकेज
दैनिक वेतनभोगी होंगे अब स्थायी कर्मी
गांधी चिकित्सा महाविद्यालय होगा 2000 बिस्तरीय
सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजनाओं की राशि में वृद्धि, एकरूपता भी
नागरिकों और सरकार के बीच सुझाव और संवाद के लिए बनेगा "मेरा मध्यप्रदेश" पोर्टल
1 2 3 4 5 6 7 8