सक्सेस स्टोरीज

कड़कनाथ मुर्गीपालन का पोल्ट्री हब बना ग्राम सीवनपानी

देवास जिले में 400 आदिवासी महिलाएँ बनी सफल उद्यमी

भोपाल : रविवार, सितम्बर 24, 2017, 19:33 IST

कड़कनाथ मुर्गी पालन में झाबुआ अंचल के साथ अब देवास जिले का नाम भी जुड़ गया है। देवास जिले की आदिवासी महिलाओं ने कड़कनाथ मुर्गी पालन में मिसाल कायम की है। इन अदिवासी महिलाओं ने मध्यप्रदेश शासन की आदिवासी उपयोजना और आत्मा परियोजना से मदद लेकर सफल उद्यमी का दर्जा हासिल कर लिया है। अब देवास जिले के 25 गाँव में लगभग 400 आदिवासी महिलाएं कड़कनाथ मुर्गी पालन का कार्य सफलतापूर्वक कर रही हैं। इन मुर्गियों और इनके अंडों की बिक्री से इन महिलाओं की आर्थिक स्थिति में अप्रत्याशित परिवर्तन आया है। स्थिति यह है कि अब इनके बच्चे इंदौर शहर में उच्च शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं।

देवास जिला मुख्यालय से लगभग सौ किलोमीटर की दूरी पर उदय नगर तहसील का गाँव है सीवनपानी। यहां रहने वाली रमकूबाई, मीराबाई और सावित्री बाई ग्रामीण उद्यमिता की मिसाल बन गई है। इनमें इतना आत्मविश्वास आ गया है कि वो अब शहरी क्षेत्रों से आए व्यवसाइयों से व्यवसायिक दक्षता से बात करती हैं। आदिवासी बाहुल्य बागली ब्लॉक के इस गाँव की रमकूबाई कड़कनाथ मुर्गी के चूजे पालकर खुश है। रमकूबाई का कहना है कि मुर्गियां पालने का काम हम पहले से ही कर रहे थे, लेकिन कड़कनाथ पहली बार पाला और इससे हमारे मुर्गी पालन व्यवसाय में बहुत बढ़ोतरी हुई है।

आत्मा परियोजना में इस गाँव के 42 मुर्गी-पालकों का चयन किया गया। प्रथम चरण में 26 ग्रामीणों को 30 जून 2015 को चूजे दिए गए। गाँव में कड़कनाथ के 1040 चूजे नि:शुल्क दिए गए। सभी हितग्राही बीपीएल श्रेणी, अनुसूचित जनजाति वर्ग के हैं। प्रत्येक हितग्राही को 5 किलो दाना भी नि:शुल्क दिया गया। गाँव का वातावरण कड़कनाथ चूजों के लिए अनुकूल साबित हुआ। अधिकांश चूजे ‍जीवित रहे। अब यह क्षेत्र कड़कनाथ का पोल्ट्री हब बन गया है। प्रत्येक हितग्राही को 40 चूजे, दाना-पानी और बर्तन और औषधियां दी गई। प्रत्येक हितग्राही को 30 हजार रुपए से दड़बा, चूजे, 50 किलो दाना, बर्तन और दवाइयां भी दी गई।

सीवनपानी की रमकू बाई को एक वर्ष की अवधि में अंडे की बिक्री से 14 हजार रुपए की आय प्राप्त हुई। वही मुर्गे की बिक्री से 28500 रुपए की राशि प्राप्त हुई। रमकूबाई ने एक साल में 40 हजार 500 रुपए कड़कनाथ मुर्गी के पालन से कमाये। उसे लगभग साढ़े तीन हजार रुपए की प्रति माह निश्चित आय प्राप्त हुई। नानकी बाई, मीरा बाई और सुमित्रा बाई की भी यही कहानी है। वर्ष 2016 में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान दिसम्बर माह में देवास आए, तो उन्होंने स्वयं इन परिवारों से मुलाकात कर इनके काम को सराहा।

झाबुआ में कड़कनाथ दुर्लभ एवं विलुप्त हो रही मुर्गी प्रजाति है। इस विलुप्त होती प्रजाति को देवास जिले में आदिवासी महिलाओं ने संरक्षित किया है। आदिवासी महिलाओं ने इस काली मुर्गी की प्रजाति जिसे काला मासी भी कहा जाता है, को पालने में महारत हासिल कर ली है।


दुर्गेश रायकवार
पटेल कृषि फार्म के मार्के से बिक रहा है एप्पल बैर
मछली पालन में पारंगत सुरेश को मिलेगा राज्य स्तरीय पुरस्कार
अब गुड़ और दलिया खाकर स्कूल जाता है सहरिया परिवार का छोटू
वंश के बोल पर मिली तालियों की गड़गड़ाहट
नर्मदा सेवा समिति हीरापुर ने श्रमदान से बना दिया एक हजार बोरियों का बंधान
"एक सड़क ने बदला गांव का जीवन : खुले तरक्की के द्वार"
स्व-रोजगार योजनाओं की मदद से युवा वर्ग बन रहे उद्यमी
सरकारी योजनाओं से कमजोर वर्गों को मिल रही नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा
आर्थिक नुकसान की आशंका से मुक्त हुए किसान
कस्टम हायरिंग सेंटर चलाने वाला प्रदेश का पहला महिला स्व-सहायता समूह
ग्राम हड़हा वासियों को मिले पक्के घर
ग्रामीण महिलायें बनीं स्वावलम्बी : गाँव हुए खुशहाल
मन की बात से प्रेरित होकर बना दिया डेयरी का आधुनिकतम संयंत्र
व्यवसायी स्वयं घर आते हैं बेर खरीदने
मिसाल बने युवा उद्यमी गौरव : मुख्यमंत्री ने दी शाबाशी
मुख्यमंत्री की किसान हितैषी घोषणाओं से किसान हुए खुशहाल
स्व-रोजगार योजनाओं से युवा बन रहे स्वावलंबी
बड़ी बीमारी के इलाज में बड़ा सहारा बनीं सरकारी योजनाएँ
छिंदवाड़ा जिले के फ्लोराइड क्षेत्र में मिलने लगा शुद्ध पेयजल
आत्म-विश्वास से लबरेज हैं पनारी गाँव की महिलाएँ
दिव्यांग रोशनी को मिला आगे बढ़ने का हौसला
सोलर पम्प यूनिट से नरेन्द्र के खेतों में हो रही सिंचाई
युवा हिमांशु बन गए बड़े व्यवसायी
उद्यानिकी प‍द्धति से बंजर भूमि पर हो रही अनार की भरपूर खेती
मिर्ची की खेती ने राकेश को बनाया लखपति
ग्रामीणों की बैंक वाली दीदी बनीं मनीषा और कविता
अंतर्राष्ट्रीय कराटे चैम्पियनशिप में रजत पदक जीती कुमारी पायल
आत्मविश्वास से लबरेज हो चली हैं पनारी गाँव की महिलाएँ
सेनेटरी पैड बना रहीं आम्बाखोदरा की पैडवुमन हेमलता, भुरी और गुडडी
शासन की मदद से स्वावलम्बी बनी आत्म-विश्वासी सीमा
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...