social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

ग्राम कवछा की पहचान-भिकली दीदी की आजीविका फ्रेश दुकान

भोपाल : रविवार, सितम्बर 24, 2017, 19:39 IST

आलीराजपुर जिले के अति दुर्गम विकासखण्ड कट्ठीवाड़ा के ग्राम कवछा में भिकली दीदी सब्जी बेचकर अपना गुजारा चलाती थी। भिकली दीदी का परिवार बहुत ही गरीब था,उनका घर भी कच्चा था। परिवार की वे सबसे बड़ी सदस्य है, पिता का आसरा पहले ही छूट चुका था, अतः परिवार की सारी जिम्मेदारी उन्होंने अपने उपर ली। पारिवारिक सम्पत्ति के रुप में एक छोटा सा खेत, जिसमें वे सब्जी उगाकर फेरी लगाकर बेचतीं और दैनिक आमदनी के रुप में बमुश्किल 100रू आय कमा पाती थी। सिंचाई सुविधा के नाम पर एक कच्चा कुऑ भी था किन्तु परिवार के भरण पोषण के लिए उनकी आय काफी नहीं थी। इस कारण उनके दोनों भाई मजदूरी करने जाते थे।

भिकली दीदी को आजीविका मिशनकर्मी से समूह बनाने की जानकारी मिली। समूह से संगठन की शक्ति एवं गरीबी से बाहर निकलने की झटपटाहट ने उन्हें स्वयं सहायता समूह से जोड़ा। समूह से जुडने पर उन्होनें छोटे-छोटे ऋण का लेन-देन किया। समूह में चर्चा एवं सहयोग ने उन्हें अपनी स्वंय की सब्जी की एक छोटी दुकान खोलने के लिये प्रोत्साहित। परिणाम स्वरुप उन्होंने समूह से बड़े ऋण के रुप में 15,000 रुपये लिये और हाट में दुकान लगाना प्रारंभ किया।

भिकली दीदी ने अपनी दुकान का नाम 'आजीविका फ्रेश रखा। भिकली गांव के परिवारों के यहां होने वाले छोटे-बड़े आयोजनो में सब्जी लाकर देने लगी, धीरे-धीरे उनके सब्जी के व्यापार में उत्तरोत्तर वृद्धि होना प्रारंभ हो गई। अब उसकी दैनिक आय 300 से 500 रू हो गई।

जब इन्सान की सोच बदलती है तो अभिनव प्रयास पनपने लगते है। भिकली दीदी ने सब्जी लाने के लिये पुरानी लेकिन अच्छी हालत का क्वालिस वाहन खरीद लिया है। अब वो प्रातः अपने स्वंय के वाहन से जाती हैं, अच्छी गुणवत्ता एवं ताजी सब्जी खरीद कर जल्दी वापिस आ पाती है। भिकली दीदी स्कूल के मध्यान्ह भोजन तैयार करने वाले समूह की महिलाओं से संपर्क कर आसपास के चार गांव के 8 स्कूलों मे सब्जी की पूर्ति करने लगी है। वर्तमान में भिकली दीदी की दैनिक आय 600 से 800 रू है। शादी ब्याह एवं अन्य आयोजन के समय भिकली दीदी की आय 1000 से 3000 रू. तक भी हो जाती है। भिकली दीदी ने अपना घर भी पक्का बना लिया है ओर पंचायत के सहयोग से घर में शौचालय भी बना लिया है। साथ ही कुआं भी पक्का करवा लिया है।

भिकली दीदी ने अपने ख्रेत में सिंचाई के लिये विद्युत मोटर लगवा ली हैं तथा नाबार्ड के बाड़ी कार्यक्रम के तहत सब्जी के अधिक उत्पादन के लिए बाड़ी और खाली पड़ी मेढों पर आम के पेड़ लगाये है। भिकली दीदी ने अपने क्वालिस वाहन को किराये पर भी चलाना शुरू कर दिया है। अपने भाई को भी सब्जी के व्यवसाय मे लगा दिया है जिससे उसके रोजगार में भी वृदि्ध हुई है। वर्तमान में भिकली दीदी की मासिक आय 20 से 24 हजार हो गई है। दीदी ने घर मे साधन सुविधाये जैसे-टीवी, पंखा आदि भी जुटा लिये हैं।

सामाजिक बदलाव के रुप में उन्होंने अपने दोनों भाईयों की शादियां की एवं छोटे भाई की शादी अपनी जिद़ पर पढ़ी-लिखी लड़की से ही करने पर जोर दिया और सफल भी रहीं।

आज भिकली दीदी अपने समूह की अध्यक्ष है और समूह की सक्रिय महिला भी है। दीदी ने ग्राम में 4 और समूह बनवाने मे भी सहयोग प्रदान किया है। भिकली दीदी भविष्य में गांव के बाजार में अपनी सब्जी की बड़ी दुकान और घर बनाना चाहती है। अपनी दुकान मे सब्जियों को ताजा रख्रने के लिये छोटा फ्रिजर भी रखना चाहती है।


मुकेश मोदी
जिसका कोई नहीं, उसकी सरकार है न......
बेरोजगार सुरेन्द्र बन गया लखपति काश्तकार
प्रधानमंत्री आवास योजना से राजेश को भी मिला है पक्का मकान
बच्ची के चौंकने से रोये नाना-नानी, बजीं तालियाँ
कृषि उत्पादन बढ़ाने में सहायक सिद्ध हुए सोलर पम्प
पशु प्रजनन कार्यक्रम से बढ़ रहा है दुग्ध उत्पादन
सफेद मूसली की खेती से लखपति हुए कैलाशचन्द्र
आजीविका मिशन से जरूरतमंदों को मिला संबल
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क से आसान हुआ नर्मदा स्नान
अबकी बरसात नहीं टपकेगा मंजू का घर
वृद्धा शगुना बाई को घर पर मिली अंत्येष्टि और अनुग्रह सहायता राशि
सीताफल और मुनगा ने राजकुमार और रामकृष्ण को बनाया प्रगतिशील किसान
मशरूम की खेती और मधुमक्खी पालन से उन्नतशील कृषक बने लक्ष्मणदास
पक्का मकान मिलने से नायजा और मीना को मिला सम्मान
रोजगार मेले में युवाओं की रोजगार पाने की हसरत हुई पूरी
मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना से मासूम महक को मिली बोलने-सुनने की शक्ति
मुख्यमंत्री बाल हृदय योजना से श्रमिक की बेटी को मिली नई जिन्दगी
मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना से गदगद हैं किसान
बेटी बाई के खेत में समय पर पर्याप्त पानी दे रहा है सोलर पम्प
रोजगार मेला में नौकरी पाकर खिले युवाओं के चेहरे
शालिनी को अब नहीं है नौकरी की दरकार
काव्या को मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से मिली दिल की धड़कन
बैक्टिरिया और फंगस से बनी किफायती खाद से पौधे बनेंगे स्मार्ट और इंटेलिजेन्ट
गिरीजा और मीना बनी पशुपतिनाथ मंदिर की पहरेदार
लेप्रोस्कोपिक हार्ट सर्जरी के बाद स्वस्थ है दीपशिखा
जरूरतमंदों की पक्की छत का सपना पूरा कर रही प्रधानमंत्री आवास योजना
प्रधानमंत्री योजना में मिले घर से होगी रामबाई की बेटी की शादी
विदेश अध्ययन से प्राप्त ज्ञान का वायरस रहित मिर्च उत्पादन में भरपूर उपयोग कर रहे हैं महेंद्र
रामकन्या और प्रेम भैरव को मिला सपनों का घर
सौभाग्य योजना से काजल का घर हुआ रौशन
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...