| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

सफलता की कहानी

  

महिलाओं की जिद और जुनून से घर-घर बने शौचालय

भोपाल : मंगलवार, अक्टूबर 3, 2017, 19:24 IST

जीवन की आखिरी दहलीज पर खड़ी जेबो बाई ने शौचालय बनवाने के लिये बकरियाँ बेच दीं तो विधवा महिला पाँचो बाई ने अपनी भैंस। गीता बघेल की शौचालय बनाने की जिद जब पिता ने पूरी नहीं की तो वह खुद फावड़ा लेकर गड्डा खोदने जुट गई और पिता को शौचालय बनवाने के लिये विवश होना पड़ा। इन सभी से और आगे सपना परिहार की पहल है, जिन्होंने न केवल खुद की ग्राम पंचायत बल्कि समीपवर्ती आधा दर्जन से अधिक ग्राम पंचायतों को खुले में शौच मुक्त कराया है। ग्वालियर जिले की ऐसी ही अन्य महिलाओं ने स्वच्छता प्रेरक बनकर सम्पूर्ण जिले को खुले में शौचमुक्त जिला बनाने में अहम भूमिका निभाई है।

ग्वालियर जिले की जनपद पंचायत भितरवार के ग्राम किशोरगढ़ निवासी श्रीमती जेबो बाई जीवन के लगभग 100 बसंत देख चुकीं हैं। उन्होंने गाँव में सबसे पहले स्वच्छता मिशन के तहत शौचालय का निर्माण कराया। शौचालय का काम शुरू करने के लिये उन्होंने अपनी बकरियाँ तक बेच दीं। इस मिशन में उनके पति श्री बच्चू सिंह का भी उन्हें पूरा सहयोग मिला। इसी तरह बागवाला गाँव में जब शौचालय बनवाने पर चर्चा चल रही थी, तब गाँव की एक विधवा महिला श्रीमती पाँचो बाई खड़ी हो गईं और बोली आप सब बहस करो, हम अपनी भैंस बेचकर शौचालय बनवायेंगे। उन्होंने ऐसा किया भी। इन दोनों महिलाओं के प्रोत्साहन से उनके गाँव के हर घर में शौचालय बन गए हैं।

ग्राम देवगढ़ की कु. गीता बघेल ने भी शौचालय बनवाने की जिद पकड़ ली। मगर उसके पिता इस ओर ध्यान नहीं दे रहे थे। गीता यहीं नहीं रूकीं, उसने स्वयं फावड़ा उठाया और शौचालय के लिये धीरे-धीरे गड्डा खोद डाला और पिता को पक्का शौचालय बनवाने के मजबूर होना पड़ा।

ग्राम ररूआ निवासी कु. सपना परिहार की कहानी सबसे अधिक प्रेरणादायक है। गाँव की इस बालिका ने “स्वच्छता समग्र जागृति” नाम से एक प्रेरक दल बनाया और हर घर में शौचालय की सफल कहानी लिख दी। सपना ने पहले अपनी ग्राम पंचायत को शौच मुक्त किया। फिर उसके बाद समीपवर्ती चीनौर, किशोरगढ़, पुरी व ररूआ सहित लगभग एक दर्जन ग्राम पंचायतों को खुले में शौच मुक्त करा दिया। शौचालयों का उपयोग भी हो, इसके लिये सपना समय-समय पर तड़के 4 बजे से अपनी सहेलियों के साथ गाँव में फोलोअप के लिये भी निकलती हैं। इन जागरूक महिलाओं के चर्चे ग्वालियर जिले के ग्रामीण अंचल की चौपालों में प्रमुखता से छाए रहते हैं।

ऐसे प्रेरकों के समर्पण और अथक मेहनत की बदौलत ही ग्रामीण स्वच्छता में ग्वालियर जिला देश के अव्वल जिलों में चयनित हुआ है। स्त्री-पुरूष अनुपात में पिछड़े जिलों में शुमार ग्वालियर जिले में इन महिला प्रेरकों ने महिला सशक्तिकरण की नई इबारत लिखी है।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा स्वच्छता का संदेश दिए जाने के बाद ग्वालियर जिले के गाँव-गाँव की चौपाल पर भी शौचालय बनवाने की चर्चा आम थी। कोई कहता फसल बिके तब घर में शौचालय बनवाऊँ तो किसी का कहना था कि सरकार की आर्थिक मदद आए तब शौचालय का निर्माण शुरू करूँ। घर में शौचालय न होने से सबसे ज्यादा कष्ट जाहिर तौर पर महिलाओं को उठाना पड़ता है। जब हर घर में शौचालय की बातें गाँव की महिलाओं ने सुनीं तो उनके मन में उम्मीद की किरण जागी। गाँव के पुरूष अभी इसी उधेड़बुन में थे कि शौचालय का निर्माण कैसे शुरू करूँ, तभी गाँव की कुछ महिलाओं ने ऐसी मिसाल कायम कर दी कि एक घर में क्या गाँव के सभी घरों में शौचालय बन गए और ग्वालियर जिला अब खुले में शौचमुक्त जिला है।

 
सफलता की कहानी
बहुत पसंद किये जा रहे हैं लईक के प्लास्टिक बैग
रामसुख ने बंजर जमीन में शुरू की अनार की खेती
रूबी खान ने खरगोन में स्थापित किया है नीम उद्योग
प्रधानमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना से ऊषारानी बारस्कर बनी उद्योगपति
"रोशनी" की नई किरण रजनी बाई
अनवर मियाँ अब ड्रायवर नहीं, ई-ऑटो के मालिक हैं
स्वरोजगार स्थापित कर झल्लूराम ने दिया दूसरों को रोजगार
अयूब खां ने प्लास्टिक मल्चिंग विधि अपनाकर खेती को बनाया लाभ का धंधा
उत्कृष्ट शिक्षा केन्द्र की मिसाल है ग्राम छतरपुरा का सरकारी स्कूल
बीड़ ग्राम में मछली पालन बना अतिरिक्त आमदनी का सशक्त जरिया
महिला स्व-सहायता समूहों ने ग्रामीणों को साहूकारों से दिलाई मुक्ति
बसन्तेश्वरी कस्टम हायरिंग सेन्टर का मालिक बना अनिल गुजराती
"कम्प्यूटर वाली दीदी" बनी मेघा
वेल्डर-फिटर की ट्रेनिंग के बाद 40 युवाओं को मिला देश की प्रतिष्ठित कम्पनी में रोजगार
राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम ने लौटाई बच्चों की खोई मुस्कान
डेयरी और गौशाला का मालिक है ग्रेजुएट शैलेष
"अमरदीप मसाला बना स्व-सहायता समूह की पहचान
चेहरे के साथ जिंदगी भी हुई खूबसूरत
स्वच्छता एवं आंगनबाड़ी गतिविधियों की ब्राँड एम्बेसेडर बनी काशीबाई
न बेरोजगार न कर्जदार, अब मालिक है धीरज कुमार
बलराम ताल ने भरी परिवार में खुशियाँ
दिव्यांग रतनलाल भील को मिला पक्का घर
युवा उद्यमी सीमा बनी सशक्त महिला की मिसाल
आत्म निर्भर हुए दिव्यांग मुकेश
सार्टेक्स प्लांट की मालकिन है अंजू भंसाली
रेखा पन्द्राम की मेहनत रंग लाई : कोदो-कुटकी की फसल से किसान हुए आत्म-निर्भर
स्टील फेब्रिकेशन वर्क्स की मालकिन है ज्योति
अच्छे स्कूल में पढ़ रही हैं ज्योति और जानकी की बेटियॉं
ग्रामीण महिलाओं को मिल रहा है सम्मानजनक रोजगार
ग्राम पथरिया का होनहार वीरेन्द्र बन रहा है डाक्टर
1 2 3 4 5 6 7 8 9