social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

प्रीति को इच्छाशक्ति ने बनाया फ्लोर मिल का मालिक

भोपाल : शनिवार, अक्टूबर 7, 2017, 19:54 IST
 

जबलपुर शहर में प्रीति सिलोरिया ने अपनी इच्छाशक्ति से फ्लोर मिल स्थापित की है। इसमें उनके जीवनसाथी जितेन्द्र ने पूरा साथ दिया है। पैसों की व्यवस्था मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना से हुई।

जबलपुर से फूड टेक्नोलॉजी में डिप्लोमा करके विवाह के बाद वर्ष 2009 में दिल्ली में कोकाकोला कम्पनी में क्वालिटी कैमिस्ट के रूप में काम करने लगीं थी प्रीति। उनके पति जितेन्द्र भी दिल्ली में ही एक फर्म में नौकरी करते थे। प्रीति के मन में स्वयं का व्यवसाय स्थापित करने की इच्छा काफी समय से थी पर इसके लिए जरूरी धनराशि का अभाव उनके उत्साह को ठण्डा कर देता था। इंटरनेट पर सर्च के दौरान प्रीति को मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना की जानकारी मिली। यहीं से उसके सपनों ने आकार लेना शुरू किया। जिला उद्योग केन्द्र जबलपुर से मई 2016 में प्रीति को उद्यम स्थापना के लिए 23 लाख रुपये का ऋण मंजूर हुआ और अगस्त में बैंक ने ऋण दे दिया।

प्रीति बताती हैं कि इस नई शुरूआत के समय वो और उनके पति दोनों काफी तनाव में थे। आखिरकार प्रीति ने अपना ड्रीम प्रोजेक्ट 9 नवम्बर को शुरू किया। उनके धैर्य, साहस और जिजीविषा के चलते प्रीतिभोज आटा अस्तित्व में आया। अत्याधुनिक मशीनों से गेहूं की पिसाई कर प्रतिदिन पांच टन आटा तैयार करती हैं। उनके प्लांट में तैयार होने वाले आटे प्रीतिभोज की बेहतरीन गुणवत्ता और बहुराष्ट्रीय कम्पनियों जैसी आकर्षक पैकेजिंग ने जल्द ही बाजार में जगह बनानी शुरू कर दी।

आज प्रीति का प्रोजेक्ट शुरू हुए केवल 9 माह ही हुए हैं। जबलपुर और आसपास के बाजारों में प्रीति के प्रीतिभोज ने तेजी से लोकप्रियता की पायदानें चढ़ना शुरू कर दिया है। उनके उत्पाद को जबलपुर के गणतंत्र दिवस समारोह में उद्योग केन्द्र की झांकी में जगह मिली। प्रीति बताती हैं कि इससे उनके द्वारा तैयार किए जा रहे आटे को खासी पहचान मिली है। आज उनके प्लांट में 10 कर्मचारी काम करते हैं। इस उत्पाद की वेबसाइट भी है और प्रीतिभोज नाम से उन्होंने फेसबुक पेज भी तैयार किया है।

फ्लोर मिल से संबंधित सभी इंतजामों की देखरेख ओर कर्मचारियों से काम लेने की जिम्मेदारी पूरी तरह प्रीति ही संभालती हैं।

सफलता की कहानी (जबलपुर)


राजेश मलिक
जिसका कोई नहीं, उसकी सरकार है न......
बेरोजगार सुरेन्द्र बन गया लखपति काश्तकार
प्रधानमंत्री आवास योजना से राजेश को भी मिला है पक्का मकान
बच्ची के चौंकने से रोये नाना-नानी, बजीं तालियाँ
कृषि उत्पादन बढ़ाने में सहायक सिद्ध हुए सोलर पम्प
पशु प्रजनन कार्यक्रम से बढ़ रहा है दुग्ध उत्पादन
सफेद मूसली की खेती से लखपति हुए कैलाशचन्द्र
आजीविका मिशन से जरूरतमंदों को मिला संबल
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क से आसान हुआ नर्मदा स्नान
अबकी बरसात नहीं टपकेगा मंजू का घर
वृद्धा शगुना बाई को घर पर मिली अंत्येष्टि और अनुग्रह सहायता राशि
सीताफल और मुनगा ने राजकुमार और रामकृष्ण को बनाया प्रगतिशील किसान
मशरूम की खेती और मधुमक्खी पालन से उन्नतशील कृषक बने लक्ष्मणदास
पक्का मकान मिलने से नायजा और मीना को मिला सम्मान
रोजगार मेले में युवाओं की रोजगार पाने की हसरत हुई पूरी
मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना से मासूम महक को मिली बोलने-सुनने की शक्ति
मुख्यमंत्री बाल हृदय योजना से श्रमिक की बेटी को मिली नई जिन्दगी
मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना से गदगद हैं किसान
बेटी बाई के खेत में समय पर पर्याप्त पानी दे रहा है सोलर पम्प
रोजगार मेला में नौकरी पाकर खिले युवाओं के चेहरे
शालिनी को अब नहीं है नौकरी की दरकार
काव्या को मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से मिली दिल की धड़कन
बैक्टिरिया और फंगस से बनी किफायती खाद से पौधे बनेंगे स्मार्ट और इंटेलिजेन्ट
गिरीजा और मीना बनी पशुपतिनाथ मंदिर की पहरेदार
लेप्रोस्कोपिक हार्ट सर्जरी के बाद स्वस्थ है दीपशिखा
जरूरतमंदों की पक्की छत का सपना पूरा कर रही प्रधानमंत्री आवास योजना
प्रधानमंत्री योजना में मिले घर से होगी रामबाई की बेटी की शादी
विदेश अध्ययन से प्राप्त ज्ञान का वायरस रहित मिर्च उत्पादन में भरपूर उपयोग कर रहे हैं महेंद्र
रामकन्या और प्रेम भैरव को मिला सपनों का घर
सौभाग्य योजना से काजल का घर हुआ रौशन
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...