सक्सेस स्टोरीज

प्रीति को इच्छाशक्ति ने बनाया फ्लोर मिल का मालिक

भोपाल : शनिवार, अक्टूबर 7, 2017, 19:54 IST
 

जबलपुर शहर में प्रीति सिलोरिया ने अपनी इच्छाशक्ति से फ्लोर मिल स्थापित की है। इसमें उनके जीवनसाथी जितेन्द्र ने पूरा साथ दिया है। पैसों की व्यवस्था मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना से हुई।

जबलपुर से फूड टेक्नोलॉजी में डिप्लोमा करके विवाह के बाद वर्ष 2009 में दिल्ली में कोकाकोला कम्पनी में क्वालिटी कैमिस्ट के रूप में काम करने लगीं थी प्रीति। उनके पति जितेन्द्र भी दिल्ली में ही एक फर्म में नौकरी करते थे। प्रीति के मन में स्वयं का व्यवसाय स्थापित करने की इच्छा काफी समय से थी पर इसके लिए जरूरी धनराशि का अभाव उनके उत्साह को ठण्डा कर देता था। इंटरनेट पर सर्च के दौरान प्रीति को मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना की जानकारी मिली। यहीं से उसके सपनों ने आकार लेना शुरू किया। जिला उद्योग केन्द्र जबलपुर से मई 2016 में प्रीति को उद्यम स्थापना के लिए 23 लाख रुपये का ऋण मंजूर हुआ और अगस्त में बैंक ने ऋण दे दिया।

प्रीति बताती हैं कि इस नई शुरूआत के समय वो और उनके पति दोनों काफी तनाव में थे। आखिरकार प्रीति ने अपना ड्रीम प्रोजेक्ट 9 नवम्बर को शुरू किया। उनके धैर्य, साहस और जिजीविषा के चलते प्रीतिभोज आटा अस्तित्व में आया। अत्याधुनिक मशीनों से गेहूं की पिसाई कर प्रतिदिन पांच टन आटा तैयार करती हैं। उनके प्लांट में तैयार होने वाले आटे प्रीतिभोज की बेहतरीन गुणवत्ता और बहुराष्ट्रीय कम्पनियों जैसी आकर्षक पैकेजिंग ने जल्द ही बाजार में जगह बनानी शुरू कर दी।

आज प्रीति का प्रोजेक्ट शुरू हुए केवल 9 माह ही हुए हैं। जबलपुर और आसपास के बाजारों में प्रीति के प्रीतिभोज ने तेजी से लोकप्रियता की पायदानें चढ़ना शुरू कर दिया है। उनके उत्पाद को जबलपुर के गणतंत्र दिवस समारोह में उद्योग केन्द्र की झांकी में जगह मिली। प्रीति बताती हैं कि इससे उनके द्वारा तैयार किए जा रहे आटे को खासी पहचान मिली है। आज उनके प्लांट में 10 कर्मचारी काम करते हैं। इस उत्पाद की वेबसाइट भी है और प्रीतिभोज नाम से उन्होंने फेसबुक पेज भी तैयार किया है।

फ्लोर मिल से संबंधित सभी इंतजामों की देखरेख ओर कर्मचारियों से काम लेने की जिम्मेदारी पूरी तरह प्रीति ही संभालती हैं।

सफलता की कहानी (जबलपुर)


राजेश मलिक
पटेल कृषि फार्म के मार्के से बिक रहा है एप्पल बैर
मछली पालन में पारंगत सुरेश को मिलेगा राज्य स्तरीय पुरस्कार
अब गुड़ और दलिया खाकर स्कूल जाता है सहरिया परिवार का छोटू
वंश के बोल पर मिली तालियों की गड़गड़ाहट
नर्मदा सेवा समिति हीरापुर ने श्रमदान से बना दिया एक हजार बोरियों का बंधान
"एक सड़क ने बदला गांव का जीवन : खुले तरक्की के द्वार"
स्व-रोजगार योजनाओं की मदद से युवा वर्ग बन रहे उद्यमी
सरकारी योजनाओं से कमजोर वर्गों को मिल रही नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा
आर्थिक नुकसान की आशंका से मुक्त हुए किसान
कस्टम हायरिंग सेंटर चलाने वाला प्रदेश का पहला महिला स्व-सहायता समूह
ग्राम हड़हा वासियों को मिले पक्के घर
ग्रामीण महिलायें बनीं स्वावलम्बी : गाँव हुए खुशहाल
मन की बात से प्रेरित होकर बना दिया डेयरी का आधुनिकतम संयंत्र
व्यवसायी स्वयं घर आते हैं बेर खरीदने
मिसाल बने युवा उद्यमी गौरव : मुख्यमंत्री ने दी शाबाशी
मुख्यमंत्री की किसान हितैषी घोषणाओं से किसान हुए खुशहाल
स्व-रोजगार योजनाओं से युवा बन रहे स्वावलंबी
बड़ी बीमारी के इलाज में बड़ा सहारा बनीं सरकारी योजनाएँ
छिंदवाड़ा जिले के फ्लोराइड क्षेत्र में मिलने लगा शुद्ध पेयजल
आत्म-विश्वास से लबरेज हैं पनारी गाँव की महिलाएँ
दिव्यांग रोशनी को मिला आगे बढ़ने का हौसला
सोलर पम्प यूनिट से नरेन्द्र के खेतों में हो रही सिंचाई
युवा हिमांशु बन गए बड़े व्यवसायी
उद्यानिकी प‍द्धति से बंजर भूमि पर हो रही अनार की भरपूर खेती
मिर्ची की खेती ने राकेश को बनाया लखपति
ग्रामीणों की बैंक वाली दीदी बनीं मनीषा और कविता
अंतर्राष्ट्रीय कराटे चैम्पियनशिप में रजत पदक जीती कुमारी पायल
आत्मविश्वास से लबरेज हो चली हैं पनारी गाँव की महिलाएँ
सेनेटरी पैड बना रहीं आम्बाखोदरा की पैडवुमन हेमलता, भुरी और गुडडी
शासन की मदद से स्वावलम्बी बनी आत्म-विश्वासी सीमा
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...