| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

सफलता की कहानी

  

मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना की ब्रान्ड एम्बेसेडर होगी नेहा

भोपाल : मंगलवार, अक्टूबर 10, 2017, 16:23 IST

ग्वालियर निवासी दिहाड़ी श्रमिक सोनू प्रजापति के आंगन में जब फूल सी बिटिया की किलकारी गूँजी, उसने अपनी बिटिया का नाम नेहा रखा। जैसे-जैसे समय गुजरा, नेहा पहले घुटनों के बल चली फिर अपने पैरों पर चली। मगर उसके मूँह से बोल नहीं फूटे। इतना ही नहीं वह किसी की बात भी नहीं सुन पाती थी।

जीवन के पाँच बसंत गुजर जाने के बाद भी नेहा ना तो कुछ बोल पाती थी और ना ही सुन पाती थी। जाहिर सी बात है वह अपने मन की बात किसी से बयां नही कर पाती थी। उसकी अभिव्यक्ति का माध्यम वो चंद इशारे थे, जो उसके माता-पिता ने सिखाए थे।

सोनू दम्पत्ति की चिंतायें बढ़ीं। डॉक्टर को दिखाया तो पता चला कि वह श्रवण बाधित (मूक-बधिर) दिव्यांग है। डॉक्टर ने सलाह दी कि अगर नेहा को कॉक्लियर इम्प्लांट होगा, तो वह सामान्य बच्चों की तरह बोल सकेगी, सुन सकेगी। इसमें साढ़े 6 लाख रूपए का खर्चा आएगा। सोनू के लिये एक दिहाड़ी मजदूर होने के कारण इतनी भारी-भरकम रकम का इंतजाम कर पाना नामुमकिन था।

बात लगभग डेढ़ साल पुरानी है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को प्रचार माध्यमों से नेहा की खबर मिली। उन्होंने तत्काल ग्वालियर कलेक्टर से कहा कि“मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना” के तहत नेहा को कॉक्लीयर इम्प्लांट लगवायें। कलेक्टर ने सोनू से संपर्क कर प्रकरण तैयार कराया और भोपाल के “दिव्य एडवांस ई.एण्ड.टी. क्लीनिक” में नेहा का सफल ऑपरेशन हुआ। नेहा के इलाज पर प्रदेश सरकार ने लगभग साढ़े 6 लाख रूपए खर्च किए।

मुख्यमंत्री श्री चौहान सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल का शिलान्यास करने ग्वालियर आए, तो सोनू अपनी बिटिया को लेकर मुख्यमंत्री के प्रति आभार जताने पहुँचा। मुख्यमंत्री ने नेहा को गोद में उठाकर खूब दुलारा। साथ ही उसे 50 हजार रूपए की आर्थिक सहायता भी दी। सोनू ने यह धनराशि नेहा के नाम से फिक्स डिपोजिट कर दी है।

कॉक्लियर इम्प्लांट के बाद अभी तक सरकारी खर्चे पर ही नेहा की स्पीच थैरेपी चल रही है। सोनू प्रजापति कहते हैं कि मुझे बड़ा अचंभा हुआ जब नेहा ने सबसे पहले जिस शब्द को बोलना शुरू किया, वह था “मामा”। अब वह मम्मी-पापा, पानी, रोटी एवं सब्जी जैसे शब्द बोलने लगी है। नेहा को जिस दिन से मुख्यमंत्री श्री चौहान ने गोद में लिया है तब से वह उन्हें मामा जी के रूप में पहचानती है।

पिछले हफ्ते कलेक्ट्रेट की जन-सुनवाई में सोनू अपनी बिटिया नेहा के साथ पहुँचकर नेहा की स्पीच थैरेपी आगे भी जारी रखने की जरूरत बताई और कलेक्टर से मदद माँगी। कलेक्टर ने जिला दिव्यांग पुनर्वास केन्द्र को नेहा की स्पीच थैरेपी जारी रखने के निर्देश दिए। साथ ही कहा कि नेहा अब सामान्य बालिका नहीं रहेगी। उसे श्रवण बाधित बच्चों को प्रोत्साहित करने के लिये “ब्राण्ड एम्बेसडर” बनाया जाएगा।

सफलता की कहानी (ग्वालियर)

 
सफलता की कहानी
बहुत पसंद किये जा रहे हैं लईक के प्लास्टिक बैग
रामसुख ने बंजर जमीन में शुरू की अनार की खेती
रूबी खान ने खरगोन में स्थापित किया है नीम उद्योग
प्रधानमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना से ऊषारानी बारस्कर बनी उद्योगपति
"रोशनी" की नई किरण रजनी बाई
अनवर मियाँ अब ड्रायवर नहीं, ई-ऑटो के मालिक हैं
स्वरोजगार स्थापित कर झल्लूराम ने दिया दूसरों को रोजगार
अयूब खां ने प्लास्टिक मल्चिंग विधि अपनाकर खेती को बनाया लाभ का धंधा
उत्कृष्ट शिक्षा केन्द्र की मिसाल है ग्राम छतरपुरा का सरकारी स्कूल
बीड़ ग्राम में मछली पालन बना अतिरिक्त आमदनी का सशक्त जरिया
महिला स्व-सहायता समूहों ने ग्रामीणों को साहूकारों से दिलाई मुक्ति
बसन्तेश्वरी कस्टम हायरिंग सेन्टर का मालिक बना अनिल गुजराती
"कम्प्यूटर वाली दीदी" बनी मेघा
वेल्डर-फिटर की ट्रेनिंग के बाद 40 युवाओं को मिला देश की प्रतिष्ठित कम्पनी में रोजगार
राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम ने लौटाई बच्चों की खोई मुस्कान
डेयरी और गौशाला का मालिक है ग्रेजुएट शैलेष
"अमरदीप मसाला बना स्व-सहायता समूह की पहचान
चेहरे के साथ जिंदगी भी हुई खूबसूरत
स्वच्छता एवं आंगनबाड़ी गतिविधियों की ब्राँड एम्बेसेडर बनी काशीबाई
न बेरोजगार न कर्जदार, अब मालिक है धीरज कुमार
बलराम ताल ने भरी परिवार में खुशियाँ
दिव्यांग रतनलाल भील को मिला पक्का घर
युवा उद्यमी सीमा बनी सशक्त महिला की मिसाल
आत्म निर्भर हुए दिव्यांग मुकेश
सार्टेक्स प्लांट की मालकिन है अंजू भंसाली
रेखा पन्द्राम की मेहनत रंग लाई : कोदो-कुटकी की फसल से किसान हुए आत्म-निर्भर
स्टील फेब्रिकेशन वर्क्स की मालकिन है ज्योति
अच्छे स्कूल में पढ़ रही हैं ज्योति और जानकी की बेटियॉं
ग्रामीण महिलाओं को मिल रहा है सम्मानजनक रोजगार
ग्राम पथरिया का होनहार वीरेन्द्र बन रहा है डाक्टर
1 2 3 4 5 6 7 8 9