सक्सेस स्टोरीज

मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना की ब्रान्ड एम्बेसेडर होगी नेहा

भोपाल : मंगलवार, अक्टूबर 10, 2017, 16:23 IST

ग्वालियर निवासी दिहाड़ी श्रमिक सोनू प्रजापति के आंगन में जब फूल सी बिटिया की किलकारी गूँजी, उसने अपनी बिटिया का नाम नेहा रखा। जैसे-जैसे समय गुजरा, नेहा पहले घुटनों के बल चली फिर अपने पैरों पर चली। मगर उसके मूँह से बोल नहीं फूटे। इतना ही नहीं वह किसी की बात भी नहीं सुन पाती थी।

जीवन के पाँच बसंत गुजर जाने के बाद भी नेहा ना तो कुछ बोल पाती थी और ना ही सुन पाती थी। जाहिर सी बात है वह अपने मन की बात किसी से बयां नही कर पाती थी। उसकी अभिव्यक्ति का माध्यम वो चंद इशारे थे, जो उसके माता-पिता ने सिखाए थे।

सोनू दम्पत्ति की चिंतायें बढ़ीं। डॉक्टर को दिखाया तो पता चला कि वह श्रवण बाधित (मूक-बधिर) दिव्यांग है। डॉक्टर ने सलाह दी कि अगर नेहा को कॉक्लियर इम्प्लांट होगा, तो वह सामान्य बच्चों की तरह बोल सकेगी, सुन सकेगी। इसमें साढ़े 6 लाख रूपए का खर्चा आएगा। सोनू के लिये एक दिहाड़ी मजदूर होने के कारण इतनी भारी-भरकम रकम का इंतजाम कर पाना नामुमकिन था।

बात लगभग डेढ़ साल पुरानी है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को प्रचार माध्यमों से नेहा की खबर मिली। उन्होंने तत्काल ग्वालियर कलेक्टर से कहा कि“मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना” के तहत नेहा को कॉक्लीयर इम्प्लांट लगवायें। कलेक्टर ने सोनू से संपर्क कर प्रकरण तैयार कराया और भोपाल के “दिव्य एडवांस ई.एण्ड.टी. क्लीनिक” में नेहा का सफल ऑपरेशन हुआ। नेहा के इलाज पर प्रदेश सरकार ने लगभग साढ़े 6 लाख रूपए खर्च किए।

मुख्यमंत्री श्री चौहान सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल का शिलान्यास करने ग्वालियर आए, तो सोनू अपनी बिटिया को लेकर मुख्यमंत्री के प्रति आभार जताने पहुँचा। मुख्यमंत्री ने नेहा को गोद में उठाकर खूब दुलारा। साथ ही उसे 50 हजार रूपए की आर्थिक सहायता भी दी। सोनू ने यह धनराशि नेहा के नाम से फिक्स डिपोजिट कर दी है।

कॉक्लियर इम्प्लांट के बाद अभी तक सरकारी खर्चे पर ही नेहा की स्पीच थैरेपी चल रही है। सोनू प्रजापति कहते हैं कि मुझे बड़ा अचंभा हुआ जब नेहा ने सबसे पहले जिस शब्द को बोलना शुरू किया, वह था “मामा”। अब वह मम्मी-पापा, पानी, रोटी एवं सब्जी जैसे शब्द बोलने लगी है। नेहा को जिस दिन से मुख्यमंत्री श्री चौहान ने गोद में लिया है तब से वह उन्हें मामा जी के रूप में पहचानती है।

पिछले हफ्ते कलेक्ट्रेट की जन-सुनवाई में सोनू अपनी बिटिया नेहा के साथ पहुँचकर नेहा की स्पीच थैरेपी आगे भी जारी रखने की जरूरत बताई और कलेक्टर से मदद माँगी। कलेक्टर ने जिला दिव्यांग पुनर्वास केन्द्र को नेहा की स्पीच थैरेपी जारी रखने के निर्देश दिए। साथ ही कहा कि नेहा अब सामान्य बालिका नहीं रहेगी। उसे श्रवण बाधित बच्चों को प्रोत्साहित करने के लिये “ब्राण्ड एम्बेसडर” बनाया जाएगा।

सफलता की कहानी (ग्वालियर)


राजेश मलिक
पटेल कृषि फार्म के मार्के से बिक रहा है एप्पल बैर
मछली पालन में पारंगत सुरेश को मिलेगा राज्य स्तरीय पुरस्कार
अब गुड़ और दलिया खाकर स्कूल जाता है सहरिया परिवार का छोटू
वंश के बोल पर मिली तालियों की गड़गड़ाहट
नर्मदा सेवा समिति हीरापुर ने श्रमदान से बना दिया एक हजार बोरियों का बंधान
"एक सड़क ने बदला गांव का जीवन : खुले तरक्की के द्वार"
स्व-रोजगार योजनाओं की मदद से युवा वर्ग बन रहे उद्यमी
सरकारी योजनाओं से कमजोर वर्गों को मिल रही नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा
आर्थिक नुकसान की आशंका से मुक्त हुए किसान
कस्टम हायरिंग सेंटर चलाने वाला प्रदेश का पहला महिला स्व-सहायता समूह
ग्राम हड़हा वासियों को मिले पक्के घर
ग्रामीण महिलायें बनीं स्वावलम्बी : गाँव हुए खुशहाल
मन की बात से प्रेरित होकर बना दिया डेयरी का आधुनिकतम संयंत्र
व्यवसायी स्वयं घर आते हैं बेर खरीदने
मिसाल बने युवा उद्यमी गौरव : मुख्यमंत्री ने दी शाबाशी
मुख्यमंत्री की किसान हितैषी घोषणाओं से किसान हुए खुशहाल
स्व-रोजगार योजनाओं से युवा बन रहे स्वावलंबी
बड़ी बीमारी के इलाज में बड़ा सहारा बनीं सरकारी योजनाएँ
छिंदवाड़ा जिले के फ्लोराइड क्षेत्र में मिलने लगा शुद्ध पेयजल
आत्म-विश्वास से लबरेज हैं पनारी गाँव की महिलाएँ
दिव्यांग रोशनी को मिला आगे बढ़ने का हौसला
सोलर पम्प यूनिट से नरेन्द्र के खेतों में हो रही सिंचाई
युवा हिमांशु बन गए बड़े व्यवसायी
उद्यानिकी प‍द्धति से बंजर भूमि पर हो रही अनार की भरपूर खेती
मिर्ची की खेती ने राकेश को बनाया लखपति
ग्रामीणों की बैंक वाली दीदी बनीं मनीषा और कविता
अंतर्राष्ट्रीय कराटे चैम्पियनशिप में रजत पदक जीती कुमारी पायल
आत्मविश्वास से लबरेज हो चली हैं पनारी गाँव की महिलाएँ
सेनेटरी पैड बना रहीं आम्बाखोदरा की पैडवुमन हेमलता, भुरी और गुडडी
शासन की मदद से स्वावलम्बी बनी आत्म-विश्वासी सीमा
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...