सक्सेस स्टोरीज

आजकल सतवंती बाई के पाँव जमीं पर नहीं पड़ते

प्रधानमंत्री ने रेशम-पालन हितग्राही की मेहनत को सराहा

भोपाल : शुक्रवार, अक्टूबर 13, 2017, 15:24 IST

बालाघाट जिले की मनरेगा की रेशम परियोजना की लाभार्थी सतवंती बाई के पाँव अब जमीन पर नहीं पड़ते। यह फिल्मी गीत जैसा भले ही लगता हो परन्तु है सच। सतवंती की खुशी उस समय देखते ही बनती थी जब प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने स्वयं उसकी सफलता के मॉडल को देखा और उसका राज भी जाना। यह वाक्या है अक्टूबर माह की 11 तारीख को नई दिल्ली स्थित पूसा के मेला मैदान का। प्रधानमंत्री श्री मोदी नानाजी देशमुख के जन्म शताब्दी समारोह के अंतर्गत लगी प्रदर्शनी को देखने आये थे। प्रधानमंत्री को सतवंती ने बताया कि रेशम की खेती से उसकी आय चौगुनी हो गई और उसके परिवार के अच्छे दिन आ गए हैं।

प्रधानमंत्री के सामने मॉडल का प्रेजेंटेशन देते हुए बालाघाट जिले के बुदबुदा गाँव की सतवंती ने बताया कि वो पहले परम्परागत खेती में धान, ज्वार आदि की फसल उगाती थी, जिससे सालाना 30 से 35 हजार रुपये की आमदनी हो पाती थी। इतनी कम आय में परिवार की जरूरतें पूरी नहीं हो पाती थी। अब दो एकड़ जमीन में वह पहले से चौगुना मुनाफा कमा रही है। एक साल में चार बार रेशम का उत्पादन कर एक से सवा लाख रुपये सालाना आय हो रही है। इस आमदनी की बदौलत घर की सारी जरूरतें पूरी हो रही हैं। दोनों बच्चे अच्छी तरह पढ़-लिख पा रहे हैं।

मेले में सतवंती बाई ने रेशम उपयोजना की सफलता का मॉडल प्रस्तुत कर मध्यप्रदेश का प्रतिनिधित्व किया। कार्यक्रम में सतवंती ने देश के कई राज्यों से आए प्रतिनिधियों को अपनी सफलता की दास्तान सुनाई। सतवंती का कहना है कि प्रदेश सरकार ने उसे मेले में भेजकर प्रतिनिधित्व करने का जो अवसर दिया, उससे वह खुश है। खुशी इस बात की भी है कि प्रधानमंत्री ने उसकी मेहनत को सराहा।

सफलता की कहानी (बालाघाट)


के.के. जोशी
पटेल कृषि फार्म के मार्के से बिक रहा है एप्पल बैर
मछली पालन में पारंगत सुरेश को मिलेगा राज्य स्तरीय पुरस्कार
अब गुड़ और दलिया खाकर स्कूल जाता है सहरिया परिवार का छोटू
वंश के बोल पर मिली तालियों की गड़गड़ाहट
नर्मदा सेवा समिति हीरापुर ने श्रमदान से बना दिया एक हजार बोरियों का बंधान
"एक सड़क ने बदला गांव का जीवन : खुले तरक्की के द्वार"
स्व-रोजगार योजनाओं की मदद से युवा वर्ग बन रहे उद्यमी
सरकारी योजनाओं से कमजोर वर्गों को मिल रही नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा
आर्थिक नुकसान की आशंका से मुक्त हुए किसान
कस्टम हायरिंग सेंटर चलाने वाला प्रदेश का पहला महिला स्व-सहायता समूह
ग्राम हड़हा वासियों को मिले पक्के घर
ग्रामीण महिलायें बनीं स्वावलम्बी : गाँव हुए खुशहाल
मन की बात से प्रेरित होकर बना दिया डेयरी का आधुनिकतम संयंत्र
व्यवसायी स्वयं घर आते हैं बेर खरीदने
मिसाल बने युवा उद्यमी गौरव : मुख्यमंत्री ने दी शाबाशी
मुख्यमंत्री की किसान हितैषी घोषणाओं से किसान हुए खुशहाल
स्व-रोजगार योजनाओं से युवा बन रहे स्वावलंबी
बड़ी बीमारी के इलाज में बड़ा सहारा बनीं सरकारी योजनाएँ
छिंदवाड़ा जिले के फ्लोराइड क्षेत्र में मिलने लगा शुद्ध पेयजल
आत्म-विश्वास से लबरेज हैं पनारी गाँव की महिलाएँ
दिव्यांग रोशनी को मिला आगे बढ़ने का हौसला
सोलर पम्प यूनिट से नरेन्द्र के खेतों में हो रही सिंचाई
युवा हिमांशु बन गए बड़े व्यवसायी
उद्यानिकी प‍द्धति से बंजर भूमि पर हो रही अनार की भरपूर खेती
मिर्ची की खेती ने राकेश को बनाया लखपति
ग्रामीणों की बैंक वाली दीदी बनीं मनीषा और कविता
अंतर्राष्ट्रीय कराटे चैम्पियनशिप में रजत पदक जीती कुमारी पायल
आत्मविश्वास से लबरेज हो चली हैं पनारी गाँव की महिलाएँ
सेनेटरी पैड बना रहीं आम्बाखोदरा की पैडवुमन हेमलता, भुरी और गुडडी
शासन की मदद से स्वावलम्बी बनी आत्म-विश्वासी सीमा
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...