social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

बलराम ताल ने भरी परिवार में खुशियाँ

भोपाल : गुरूवार, अक्टूबर 26, 2017, 15:49 IST

अनूपपुर जिले के ग्राम सोनियामार के आदिवासी कृषक पवन सिंह के परिवार में आज बलराम ताल की वजह से खुशियाँ हिलोरे ले रही हैं। पहले पवन सिंह दो एकड़ के रकबे में असिंचित फसल लेते थे। खरीफ के मौसम में किसी तरह कोदो की फसल तो हो जाती थी परंतु रबी में रोजगार की तलाश में इधर-उधर भटकना पड़ता था। परिवार की रोजमर्रा की आवश्यकताओं की पूर्ति भी बमुश्किल ही हो पाती थी।

तभी एक दिन कृषि विभाग के उप संचालक ने पवन सिंह को बलराम तालाब बनाने की जानकारी दी। औपचारिकताएँ पूरी करने के बाद उन्हें कृषि विभाग से अनुदान मिला। पूरे परिश्रम से उन्होंने बलराम तालाब का निर्माण करवाया। तालाब भरने पर उनकी जिंदगी खुशियों से लबालब हो गई। कठोर परिश्रम के बाद सीमित मात्रा में मात्र कोदो का उत्पादन करने वाला उनका खेत अब द्विफसलीय क्षेत्र में बदल चुका था। पवन सिंह खरीफ में धान की खेती, रबी में गेहूँ के साथ टमाटर, गोभी, बैंगन आदि सब्जियों का भी उत्पादन करने लगे हैं। उन्होंने तालाब की मेढ़ पर अरहर की फसल उगाकर अतिरिक्त आय भी लेना शुरू कर दिया है। सब्जी-भाजी से उन्हें हर साल 30-35 हजार रूपये की आमदनी हो जाती है।

'सब कुछ सपना सा लगता है। कभी मैं दूसरों के खेत में मजदूरी करने जाता था, आज दूसरों को रोजगार देने में समर्थ हो गया हूँ। बलराम ताल न होता तो मैं अपने परिवार की बढ़ती हुई जरूरतों को कैसे पूरा करता। आज एक संतुष्टि है कि अपने परिवार का भरण-पोषण बेहतर तरीके से कर पा रहा हूँ।' यह कहना है किसान पवन सिंह का।

बलराम ताल से न केवल पवन सिंह के खेत में हरियाली और खुशहाली आई, बल्कि गाँव के भू-जल स्तर में भी वृद्धि हुई। इससे पानी की उपलब्धता बढ़ी है और पर्यावरण संतुलन बेहतर हुआ है। अब गर्मी में भी सिंचाई के साथ-साथ पशु-पक्षियों को न केवल पीने का पानी मिल रहा है, बल्कि तालाब के किनारे ठण्डी छाँव भी मिल रही है।

सफलता की कहानी (अनूपपुर)


सुनीता दुबे
जिसका कोई नहीं, उसकी सरकार है न......
बेरोजगार सुरेन्द्र बन गया लखपति काश्तकार
प्रधानमंत्री आवास योजना से राजेश को भी मिला है पक्का मकान
बच्ची के चौंकने से रोये नाना-नानी, बजीं तालियाँ
कृषि उत्पादन बढ़ाने में सहायक सिद्ध हुए सोलर पम्प
पशु प्रजनन कार्यक्रम से बढ़ रहा है दुग्ध उत्पादन
सफेद मूसली की खेती से लखपति हुए कैलाशचन्द्र
आजीविका मिशन से जरूरतमंदों को मिला संबल
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क से आसान हुआ नर्मदा स्नान
अबकी बरसात नहीं टपकेगा मंजू का घर
वृद्धा शगुना बाई को घर पर मिली अंत्येष्टि और अनुग्रह सहायता राशि
सीताफल और मुनगा ने राजकुमार और रामकृष्ण को बनाया प्रगतिशील किसान
मशरूम की खेती और मधुमक्खी पालन से उन्नतशील कृषक बने लक्ष्मणदास
पक्का मकान मिलने से नायजा और मीना को मिला सम्मान
रोजगार मेले में युवाओं की रोजगार पाने की हसरत हुई पूरी
मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना से मासूम महक को मिली बोलने-सुनने की शक्ति
मुख्यमंत्री बाल हृदय योजना से श्रमिक की बेटी को मिली नई जिन्दगी
मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना से गदगद हैं किसान
बेटी बाई के खेत में समय पर पर्याप्त पानी दे रहा है सोलर पम्प
रोजगार मेला में नौकरी पाकर खिले युवाओं के चेहरे
शालिनी को अब नहीं है नौकरी की दरकार
काव्या को मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से मिली दिल की धड़कन
बैक्टिरिया और फंगस से बनी किफायती खाद से पौधे बनेंगे स्मार्ट और इंटेलिजेन्ट
गिरीजा और मीना बनी पशुपतिनाथ मंदिर की पहरेदार
लेप्रोस्कोपिक हार्ट सर्जरी के बाद स्वस्थ है दीपशिखा
जरूरतमंदों की पक्की छत का सपना पूरा कर रही प्रधानमंत्री आवास योजना
प्रधानमंत्री योजना में मिले घर से होगी रामबाई की बेटी की शादी
विदेश अध्ययन से प्राप्त ज्ञान का वायरस रहित मिर्च उत्पादन में भरपूर उपयोग कर रहे हैं महेंद्र
रामकन्या और प्रेम भैरव को मिला सपनों का घर
सौभाग्य योजना से काजल का घर हुआ रौशन
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...