सक्सेस स्टोरीज

बलराम ताल ने भरी परिवार में खुशियाँ

भोपाल : गुरूवार, अक्टूबर 26, 2017, 15:49 IST

अनूपपुर जिले के ग्राम सोनियामार के आदिवासी कृषक पवन सिंह के परिवार में आज बलराम ताल की वजह से खुशियाँ हिलोरे ले रही हैं। पहले पवन सिंह दो एकड़ के रकबे में असिंचित फसल लेते थे। खरीफ के मौसम में किसी तरह कोदो की फसल तो हो जाती थी परंतु रबी में रोजगार की तलाश में इधर-उधर भटकना पड़ता था। परिवार की रोजमर्रा की आवश्यकताओं की पूर्ति भी बमुश्किल ही हो पाती थी।

तभी एक दिन कृषि विभाग के उप संचालक ने पवन सिंह को बलराम तालाब बनाने की जानकारी दी। औपचारिकताएँ पूरी करने के बाद उन्हें कृषि विभाग से अनुदान मिला। पूरे परिश्रम से उन्होंने बलराम तालाब का निर्माण करवाया। तालाब भरने पर उनकी जिंदगी खुशियों से लबालब हो गई। कठोर परिश्रम के बाद सीमित मात्रा में मात्र कोदो का उत्पादन करने वाला उनका खेत अब द्विफसलीय क्षेत्र में बदल चुका था। पवन सिंह खरीफ में धान की खेती, रबी में गेहूँ के साथ टमाटर, गोभी, बैंगन आदि सब्जियों का भी उत्पादन करने लगे हैं। उन्होंने तालाब की मेढ़ पर अरहर की फसल उगाकर अतिरिक्त आय भी लेना शुरू कर दिया है। सब्जी-भाजी से उन्हें हर साल 30-35 हजार रूपये की आमदनी हो जाती है।

'सब कुछ सपना सा लगता है। कभी मैं दूसरों के खेत में मजदूरी करने जाता था, आज दूसरों को रोजगार देने में समर्थ हो गया हूँ। बलराम ताल न होता तो मैं अपने परिवार की बढ़ती हुई जरूरतों को कैसे पूरा करता। आज एक संतुष्टि है कि अपने परिवार का भरण-पोषण बेहतर तरीके से कर पा रहा हूँ।' यह कहना है किसान पवन सिंह का।

बलराम ताल से न केवल पवन सिंह के खेत में हरियाली और खुशहाली आई, बल्कि गाँव के भू-जल स्तर में भी वृद्धि हुई। इससे पानी की उपलब्धता बढ़ी है और पर्यावरण संतुलन बेहतर हुआ है। अब गर्मी में भी सिंचाई के साथ-साथ पशु-पक्षियों को न केवल पीने का पानी मिल रहा है, बल्कि तालाब के किनारे ठण्डी छाँव भी मिल रही है।

सफलता की कहानी (अनूपपुर)


सुनीता दुबे
पटेल कृषि फार्म के मार्के से बिक रहा है एप्पल बैर
मछली पालन में पारंगत सुरेश को मिलेगा राज्य स्तरीय पुरस्कार
अब गुड़ और दलिया खाकर स्कूल जाता है सहरिया परिवार का छोटू
वंश के बोल पर मिली तालियों की गड़गड़ाहट
नर्मदा सेवा समिति हीरापुर ने श्रमदान से बना दिया एक हजार बोरियों का बंधान
"एक सड़क ने बदला गांव का जीवन : खुले तरक्की के द्वार"
स्व-रोजगार योजनाओं की मदद से युवा वर्ग बन रहे उद्यमी
सरकारी योजनाओं से कमजोर वर्गों को मिल रही नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा
आर्थिक नुकसान की आशंका से मुक्त हुए किसान
कस्टम हायरिंग सेंटर चलाने वाला प्रदेश का पहला महिला स्व-सहायता समूह
ग्राम हड़हा वासियों को मिले पक्के घर
ग्रामीण महिलायें बनीं स्वावलम्बी : गाँव हुए खुशहाल
मन की बात से प्रेरित होकर बना दिया डेयरी का आधुनिकतम संयंत्र
व्यवसायी स्वयं घर आते हैं बेर खरीदने
मिसाल बने युवा उद्यमी गौरव : मुख्यमंत्री ने दी शाबाशी
मुख्यमंत्री की किसान हितैषी घोषणाओं से किसान हुए खुशहाल
स्व-रोजगार योजनाओं से युवा बन रहे स्वावलंबी
बड़ी बीमारी के इलाज में बड़ा सहारा बनीं सरकारी योजनाएँ
छिंदवाड़ा जिले के फ्लोराइड क्षेत्र में मिलने लगा शुद्ध पेयजल
आत्म-विश्वास से लबरेज हैं पनारी गाँव की महिलाएँ
दिव्यांग रोशनी को मिला आगे बढ़ने का हौसला
सोलर पम्प यूनिट से नरेन्द्र के खेतों में हो रही सिंचाई
युवा हिमांशु बन गए बड़े व्यवसायी
उद्यानिकी प‍द्धति से बंजर भूमि पर हो रही अनार की भरपूर खेती
मिर्ची की खेती ने राकेश को बनाया लखपति
ग्रामीणों की बैंक वाली दीदी बनीं मनीषा और कविता
अंतर्राष्ट्रीय कराटे चैम्पियनशिप में रजत पदक जीती कुमारी पायल
आत्मविश्वास से लबरेज हो चली हैं पनारी गाँव की महिलाएँ
सेनेटरी पैड बना रहीं आम्बाखोदरा की पैडवुमन हेमलता, भुरी और गुडडी
शासन की मदद से स्वावलम्बी बनी आत्म-विश्वासी सीमा
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...