| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

सफलता की कहानी

  

बलराम ताल ने भरी परिवार में खुशियाँ

भोपाल : गुरूवार, अक्टूबर 26, 2017, 15:49 IST

अनूपपुर जिले के ग्राम सोनियामार के आदिवासी कृषक पवन सिंह के परिवार में आज बलराम ताल की वजह से खुशियाँ हिलोरे ले रही हैं। पहले पवन सिंह दो एकड़ के रकबे में असिंचित फसल लेते थे। खरीफ के मौसम में किसी तरह कोदो की फसल तो हो जाती थी परंतु रबी में रोजगार की तलाश में इधर-उधर भटकना पड़ता था। परिवार की रोजमर्रा की आवश्यकताओं की पूर्ति भी बमुश्किल ही हो पाती थी।

तभी एक दिन कृषि विभाग के उप संचालक ने पवन सिंह को बलराम तालाब बनाने की जानकारी दी। औपचारिकताएँ पूरी करने के बाद उन्हें कृषि विभाग से अनुदान मिला। पूरे परिश्रम से उन्होंने बलराम तालाब का निर्माण करवाया। तालाब भरने पर उनकी जिंदगी खुशियों से लबालब हो गई। कठोर परिश्रम के बाद सीमित मात्रा में मात्र कोदो का उत्पादन करने वाला उनका खेत अब द्विफसलीय क्षेत्र में बदल चुका था। पवन सिंह खरीफ में धान की खेती, रबी में गेहूँ के साथ टमाटर, गोभी, बैंगन आदि सब्जियों का भी उत्पादन करने लगे हैं। उन्होंने तालाब की मेढ़ पर अरहर की फसल उगाकर अतिरिक्त आय भी लेना शुरू कर दिया है। सब्जी-भाजी से उन्हें हर साल 30-35 हजार रूपये की आमदनी हो जाती है।

'सब कुछ सपना सा लगता है। कभी मैं दूसरों के खेत में मजदूरी करने जाता था, आज दूसरों को रोजगार देने में समर्थ हो गया हूँ। बलराम ताल न होता तो मैं अपने परिवार की बढ़ती हुई जरूरतों को कैसे पूरा करता। आज एक संतुष्टि है कि अपने परिवार का भरण-पोषण बेहतर तरीके से कर पा रहा हूँ।' यह कहना है किसान पवन सिंह का।

बलराम ताल से न केवल पवन सिंह के खेत में हरियाली और खुशहाली आई, बल्कि गाँव के भू-जल स्तर में भी वृद्धि हुई। इससे पानी की उपलब्धता बढ़ी है और पर्यावरण संतुलन बेहतर हुआ है। अब गर्मी में भी सिंचाई के साथ-साथ पशु-पक्षियों को न केवल पीने का पानी मिल रहा है, बल्कि तालाब के किनारे ठण्डी छाँव भी मिल रही है।

सफलता की कहानी (अनूपपुर)

 
सफलता की कहानी
बहुत पसंद किये जा रहे हैं लईक के प्लास्टिक बैग
रामसुख ने बंजर जमीन में शुरू की अनार की खेती
रूबी खान ने खरगोन में स्थापित किया है नीम उद्योग
प्रधानमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना से ऊषारानी बारस्कर बनी उद्योगपति
"रोशनी" की नई किरण रजनी बाई
अनवर मियाँ अब ड्रायवर नहीं, ई-ऑटो के मालिक हैं
स्वरोजगार स्थापित कर झल्लूराम ने दिया दूसरों को रोजगार
अयूब खां ने प्लास्टिक मल्चिंग विधि अपनाकर खेती को बनाया लाभ का धंधा
उत्कृष्ट शिक्षा केन्द्र की मिसाल है ग्राम छतरपुरा का सरकारी स्कूल
बीड़ ग्राम में मछली पालन बना अतिरिक्त आमदनी का सशक्त जरिया
महिला स्व-सहायता समूहों ने ग्रामीणों को साहूकारों से दिलाई मुक्ति
बसन्तेश्वरी कस्टम हायरिंग सेन्टर का मालिक बना अनिल गुजराती
"कम्प्यूटर वाली दीदी" बनी मेघा
वेल्डर-फिटर की ट्रेनिंग के बाद 40 युवाओं को मिला देश की प्रतिष्ठित कम्पनी में रोजगार
राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम ने लौटाई बच्चों की खोई मुस्कान
डेयरी और गौशाला का मालिक है ग्रेजुएट शैलेष
"अमरदीप मसाला बना स्व-सहायता समूह की पहचान
चेहरे के साथ जिंदगी भी हुई खूबसूरत
स्वच्छता एवं आंगनबाड़ी गतिविधियों की ब्राँड एम्बेसेडर बनी काशीबाई
न बेरोजगार न कर्जदार, अब मालिक है धीरज कुमार
बलराम ताल ने भरी परिवार में खुशियाँ
दिव्यांग रतनलाल भील को मिला पक्का घर
युवा उद्यमी सीमा बनी सशक्त महिला की मिसाल
आत्म निर्भर हुए दिव्यांग मुकेश
सार्टेक्स प्लांट की मालकिन है अंजू भंसाली
रेखा पन्द्राम की मेहनत रंग लाई : कोदो-कुटकी की फसल से किसान हुए आत्म-निर्भर
स्टील फेब्रिकेशन वर्क्स की मालकिन है ज्योति
अच्छे स्कूल में पढ़ रही हैं ज्योति और जानकी की बेटियॉं
ग्रामीण महिलाओं को मिल रहा है सम्मानजनक रोजगार
ग्राम पथरिया का होनहार वीरेन्द्र बन रहा है डाक्टर
1 2 3 4 5 6 7 8 9