सक्सेस स्टोरीज

महिला स्व-सहायता समूहों ने ग्रामीणों को साहूकारों से दिलाई मुक्ति

भोपाल : गुरूवार, नवम्बर 9, 2017, 16:27 IST

बड़वानी जिले के सेधवा विकासखंड में एक छोटा-सा गांव है वासवी। इस गांव में 372 परिवार रहते हैं। अधिकांश परिवार रोजगार और खेती-बाड़ी के लिये साहूकारों के पास अपने गहने जमानत पर रखकर 5 प्रतिशत ब्याज पर कर्जा लेते रहे। इससे ग्रामीणों की गरीबी तो दूर नहीं हुई बल्कि ये साहूकारों के चंगुल में फंसकर रह गये।

ग्रामीण महिलाओं ने सजगता दिखाई, एकजुट हुईं और 21 स्व-सहायता समूह बनाकर ग्रामीणों को साहूकारों के चंगुल से मुक्त कराने की ठानी। इन स्व-सहायता समूहों ने गांव के करीब 222 परिवारों को रोजगार स्थापित करने और खेती-बाड़ी के लिये बिना जमानत के 2 प्रतिशत ब्याज पर ऋण देने की योजना बनाई। आज गांव में साहूकारी प्रथा पूरी तरह समाप्त हो चुकी है।

स्व-सहायता समूहों से आर्थिक मदद लेकर गांव के 9 परिवार डेयरी पालन कर रहे हैं, 7 परिवारों के पास टाटा मैजिक वाहन है जिसे किराये पर चलाकर अच्छा कमा रहे हैं, 16 परिवार बकरी पालन, 8 सब्जी की दुकान, 6 किराना दुकान, 2 आटा चक्की, 6 मोटर बांइडिंग, 20 सेन्टरिंग और 2 परिवार कटलरी की दुकान का व्यवसाय कर रहे हैं। गांव के 180 लोगों ने फसल उत्पादन और 13 लोगों ने फूलों की खेती और सब्जी उत्पादन के लिये स्व-सहायता समूहों की मदद ली है। आज ये सभी परिवार सुखी हैं, न्यूनतम ब्याज पर कर्जा चुका रहे हैं, परिवार का पालन-पोषण करने में सक्षम हो गये हैं और ग्रामीण समाज में इज्जत के साथ जीवनयापन कर रहे हैं।

ग्राम संगठन की अध्यक्ष श्रीमती रेशा बाई सिकराम और कोषाध्यक्ष श्रीमती शांता बाई सोलंकी ग्रामीण परिवारों की तरक्की का लगातार मूल्यांकन करती हैं, उन्हें जरूरी सलाह देती हैं और उनकी शंकाओं का समाधान भी करती हैं। अब सभी ग्रामीण गांव के विकास कार्यों में रूचि ले रहे हैं। ग्रामीणों की भागीदारी से ग्रामीण नल-जल योजना की शुरूआत हो गई है। इस योजना से गाँव में घर-घर शुद्ध पानी भी मिलने लगा है।

सफलता की कहानी(बड़ावानी)


ऋषभ जैन
पटेल कृषि फार्म के मार्के से बिक रहा है एप्पल बैर
मछली पालन में पारंगत सुरेश को मिलेगा राज्य स्तरीय पुरस्कार
अब गुड़ और दलिया खाकर स्कूल जाता है सहरिया परिवार का छोटू
वंश के बोल पर मिली तालियों की गड़गड़ाहट
नर्मदा सेवा समिति हीरापुर ने श्रमदान से बना दिया एक हजार बोरियों का बंधान
"एक सड़क ने बदला गांव का जीवन : खुले तरक्की के द्वार"
स्व-रोजगार योजनाओं की मदद से युवा वर्ग बन रहे उद्यमी
सरकारी योजनाओं से कमजोर वर्गों को मिल रही नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा
आर्थिक नुकसान की आशंका से मुक्त हुए किसान
कस्टम हायरिंग सेंटर चलाने वाला प्रदेश का पहला महिला स्व-सहायता समूह
ग्राम हड़हा वासियों को मिले पक्के घर
ग्रामीण महिलायें बनीं स्वावलम्बी : गाँव हुए खुशहाल
मन की बात से प्रेरित होकर बना दिया डेयरी का आधुनिकतम संयंत्र
व्यवसायी स्वयं घर आते हैं बेर खरीदने
मिसाल बने युवा उद्यमी गौरव : मुख्यमंत्री ने दी शाबाशी
मुख्यमंत्री की किसान हितैषी घोषणाओं से किसान हुए खुशहाल
स्व-रोजगार योजनाओं से युवा बन रहे स्वावलंबी
बड़ी बीमारी के इलाज में बड़ा सहारा बनीं सरकारी योजनाएँ
छिंदवाड़ा जिले के फ्लोराइड क्षेत्र में मिलने लगा शुद्ध पेयजल
आत्म-विश्वास से लबरेज हैं पनारी गाँव की महिलाएँ
दिव्यांग रोशनी को मिला आगे बढ़ने का हौसला
सोलर पम्प यूनिट से नरेन्द्र के खेतों में हो रही सिंचाई
युवा हिमांशु बन गए बड़े व्यवसायी
उद्यानिकी प‍द्धति से बंजर भूमि पर हो रही अनार की भरपूर खेती
मिर्ची की खेती ने राकेश को बनाया लखपति
ग्रामीणों की बैंक वाली दीदी बनीं मनीषा और कविता
अंतर्राष्ट्रीय कराटे चैम्पियनशिप में रजत पदक जीती कुमारी पायल
आत्मविश्वास से लबरेज हो चली हैं पनारी गाँव की महिलाएँ
सेनेटरी पैड बना रहीं आम्बाखोदरा की पैडवुमन हेमलता, भुरी और गुडडी
शासन की मदद से स्वावलम्बी बनी आत्म-विश्वासी सीमा
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...