सक्सेस स्टोरीज

बीड़ ग्राम में मछली पालन बना अतिरिक्त आमदनी का सशक्त जरिया

भोपाल : शनिवार, नवम्बर 11, 2017, 20:50 IST

 

अनूपपुर जिले के ग्राम बीड़ में अच्छी अतिरिक्त आमदनी के लिये ग्रामीणों में मछली पालन के प्रति रूझान बढ़ रहा है। नारायण सिंह जैसे 12 महिला एवं पुरुषों ने मिलकर मछुआ समूह बनाकर ग्राम में मछली पालन करना प्रारम्भ किया है। समूह ने ग्राम पंचायत के चार तालाबों के साथ-साथ लगभग 4.00 हेक्टेयर के नकटी जलाशय में भी मछली पालन का कार्य प्रारंभ किया गया है। वर्ष 2013-14 से यह समूह मछली पालन विभाग की मदद और आपसी सहयोग से मछली बीज का तालाबों एवं जलाशय में संचयन एवं उत्पादन कर रहा है।

समूह के सदस्य स्वयं जाल की मदद से मछली निकाल कर नजदीक के लपटा, खूंटाटोला, वेंकटनगर और जैतहरी आदि गाँवों के हाट-बाजारों में बिक्री कर अपने सदस्यों को लाभ दिलाने के साथ-साथ समूह के खाते में बचत भी करते है। इससे सदस्यों की अच्छी वार्षिक आय हो जाती है।

अब यह मछुआ समूह 'तिपान मछुआ सहकारी समिति' में परिवर्तित हो गया है। इसकी सदस्य संख्या बढ़कर 25 हो गई है। समिति ने राष्ट्रीय कृषि विकास योजना में मछली पालन विभाग से 0.5 हेक्टेयर जल क्षेत्र लेकर 5 लाख रूपये की लागत से 4 नर्सरी का निर्माण किया है। उन्हें मिली वित्तीय मदद में 2.50 लाख रुपये अनुदान और 2.50 लाख रुपये खूंटाटोला के क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक का ऋण है। विगत 4 साल से ये समूह मैहर एवं छत्तीसगढ़ से मछली के स्पान लेकर संचयन करते हैं और फिर फ्राय तथा फिंगरलिंग में उसे विकसित कर बिक्री करते हैं। बचे हुए बीज का अपने तालाबों और जलाशय में संचयन करते हैं। इससे समिति को मछली बीज विक्रय से तो लाभ मिल रहा है, साथ-साथ मत्स्य विक्रय और आसपास के तालाबों से भी मछली पालन से वर्ष में 3 से 4 लाख रुपए की आमदनी भी मिल रही है। गाँव में मछली पालन ग्रामीणों के लिये अतिरिक्त आमदनी का सशक्त जरिया बन गया है।

सफलता की कहानी (जिला अनूपपुर)


सुनीता दुबे
पटेल कृषि फार्म के मार्के से बिक रहा है एप्पल बैर
मछली पालन में पारंगत सुरेश को मिलेगा राज्य स्तरीय पुरस्कार
अब गुड़ और दलिया खाकर स्कूल जाता है सहरिया परिवार का छोटू
वंश के बोल पर मिली तालियों की गड़गड़ाहट
नर्मदा सेवा समिति हीरापुर ने श्रमदान से बना दिया एक हजार बोरियों का बंधान
"एक सड़क ने बदला गांव का जीवन : खुले तरक्की के द्वार"
स्व-रोजगार योजनाओं की मदद से युवा वर्ग बन रहे उद्यमी
सरकारी योजनाओं से कमजोर वर्गों को मिल रही नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा
आर्थिक नुकसान की आशंका से मुक्त हुए किसान
कस्टम हायरिंग सेंटर चलाने वाला प्रदेश का पहला महिला स्व-सहायता समूह
ग्राम हड़हा वासियों को मिले पक्के घर
ग्रामीण महिलायें बनीं स्वावलम्बी : गाँव हुए खुशहाल
मन की बात से प्रेरित होकर बना दिया डेयरी का आधुनिकतम संयंत्र
व्यवसायी स्वयं घर आते हैं बेर खरीदने
मिसाल बने युवा उद्यमी गौरव : मुख्यमंत्री ने दी शाबाशी
मुख्यमंत्री की किसान हितैषी घोषणाओं से किसान हुए खुशहाल
स्व-रोजगार योजनाओं से युवा बन रहे स्वावलंबी
बड़ी बीमारी के इलाज में बड़ा सहारा बनीं सरकारी योजनाएँ
छिंदवाड़ा जिले के फ्लोराइड क्षेत्र में मिलने लगा शुद्ध पेयजल
आत्म-विश्वास से लबरेज हैं पनारी गाँव की महिलाएँ
दिव्यांग रोशनी को मिला आगे बढ़ने का हौसला
सोलर पम्प यूनिट से नरेन्द्र के खेतों में हो रही सिंचाई
युवा हिमांशु बन गए बड़े व्यवसायी
उद्यानिकी प‍द्धति से बंजर भूमि पर हो रही अनार की भरपूर खेती
मिर्ची की खेती ने राकेश को बनाया लखपति
ग्रामीणों की बैंक वाली दीदी बनीं मनीषा और कविता
अंतर्राष्ट्रीय कराटे चैम्पियनशिप में रजत पदक जीती कुमारी पायल
आत्मविश्वास से लबरेज हो चली हैं पनारी गाँव की महिलाएँ
सेनेटरी पैड बना रहीं आम्बाखोदरा की पैडवुमन हेमलता, भुरी और गुडडी
शासन की मदद से स्वावलम्बी बनी आत्म-विश्वासी सीमा
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...