| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

सफलता की कहानी

  

अयूब खां ने प्लास्टिक मल्चिंग विधि अपनाकर खेती को बनाया लाभ का धंधा

भोपाल : मंगलवार, नवम्बर 14, 2017, 16:22 IST

वैज्ञानिक तकनीक से टमाटर और मिर्च का रिकॉर्ड उत्पादन कर देवास जिले के किसान अयूब खां ने उन्नत खेती की मिसाल कायम की है। कन्नौद विकासखंड की ग्राम पंचायत डाबरी बुजुर्ग के किसान अयूब खां पिता रसूल खां ने म.प्र. शासन के ध्येय वाक्य 'खेती को बनाए लाभ का धंधा' को यथार्थ के रूप में स्थापित किया है। उद्यानिकी विभाग से तकनीकी सहायता और प्रशिक्षण प्राप्त कर इन्होंने पारम्परिक खेती के साथ ही वैज्ञानिक खेती को भी आजमाया और कम समय में ही टमाटर और मिर्च से ही अच्छा खासा लाभ अर्जित किया है।

वर्ष 2012-13 तक अयूब खां पारंपरिक खेती ही करते थे। रबी और खरीफ की फसलों पर ही निर्भर रहते थे। इन्हें इन फसलों से औसतन 1.75 लाख रुपए वार्षिक आय ही होती थी। जब उन्हें उद्यानिकी विभाग की सब्जी क्षेत्र विस्तार योजना का पता लगा तो इन्होंने उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों से संपर्क कर सब्जी क्षेत्र में वैज्ञानिक तकनीकों को जाना एवं समझा। साथ ही प्रशिक्षण प्राप्त कर वर्ष 2014-15 में इन्होंने प्लास्टिक मल्चिंग से एक हैक्टेयर में टमाटर और एक हैक्टेयर में मिर्च की खेती की। इसके लिए इन्हें 57 हजार रुपए अनुदान भी मिला।

अयूब खां के पास नलकूप और कुएं की सुविधा पहले से थी। मल्चिंग अपनाने से कम पानी और कम दवा का उपयोग हुआ। इससे खेती की लागत में कमी आई और मेहनत तथा पानी दोनों की बचत भी हुई।

वर्ष 2015-16 के मध्य तक अयूब खां ने लगभग 22 टन टमाटर और 29 टन मिर्च का रिकॉर्ड उत्पादन प्राप्त किया। इन्हे टमाटर को 7 रुपए प्रति किलो की दर से बेचने से 1 लाख 54 हजार रुपए की कमाई हुई। लागत व्यय 54 हजार रुपए घटाकर इन्हें एक लाख रुपए का शुद्ध लाभ हुआ। इसी प्रकार, मिर्च में इन्होंने 18 रुपए प्रति किलो की औसत से बिक्री कर 5 लाख 22 हजार रुपए की कमाई की। इसमें से 1,25,000 रुपए का लागत व्यय घटाकर 3,97,000 रुपए का शुद्ध लाभ अर्जित किया।

इस तरह अयूब खां ने 4,97,000 रुपए का शुद्ध वार्षिक लाभ प्राप्त किया। इस बड़ी रकम से अयूब खां का जीवन खुशहाल हो गया है। इस रकम से अयूब खां ने अपने कच्चे मकान को पक्का बनवा लिया है। अपने लिये और बच्चों के लिए दो मोटर साइकिल भी खरीद ली है। गांव के आवागमन के साधनों में अब इनकी टाटा मैजिक भी शामिल हो गई है। इस मैजिक के आने से न केवल ग्रामीणों को आने-जाने की अतिरिक्त सुविधा मिली है बल्कि जरुरत अनुसार अयूब खां इसी मैजिक से अपनी सब्जियां भी मंडी तक आसानी से पहुंचाते हैं। इसी बीच इन्होंने अपनी बेटी की शादी भी धूमधाम से संपन्न कराई है। आज अयूब खां पूरे डाबरी बुजुर्ग में प्रेरणा की मिसाल बन गये हैं। ग्रामवासियों से अब अयूब खां कहते है 'आगे आएँ, लाभ उठाएँ'।

सफलता की कहानी (देवास)

 
सफलता की कहानी
जैविक खेती से किसान चित्तरंजन को मिली अलग पहचान
मत्स्य पालकों की आय में 10 गुना वृद्धि
मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना की मदद से शिवराम की आय हुई दुगुनी
अब पक्के मकान में रहता है रामकिशन का परिवार
विद्युत शैलचॉक से बढ़ी उदयलाल की आमदनी
भावांतर भुगतान योजना में मक्का के मिल रहे अच्छे भाव
स्व-सहायता समूह द्वारा निर्मित चिक्की ने महिलाओं को दिया आर्थिक संबल
पहले करते थे मजदूरी, अब दे रहे हैं रोजगार
मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से जिया को मिला जीवनदान
सुनने और बोलने लगे हैं भरत और प्रतिज्ञा
सरसों और प्याज की खेती में अव्वल भिण्ड जिले के किसान
अन्त्यावसायी स्व-रोजगार योजना से कपड़ा व्यवसायी बना राजेश
गौ-संवर्धन योजना से किसान बना धनवान
किसानों को मिल रहा उपज का लाभकारी मूल्य
रेखा को जन्म के 7 साल बाद मिली आंखों की रोशनी
फसलों के भाव में उतार-चढ़ाव की चिन्ता से मुक्त हुए किसान
सौरभ का रेडीमेड गार्मेन्ट पन्ना में अब अपरिचित नहीं रहा
माँ के लिए नौकरी छोड़ी तो स्व-रोजगार योजना बनी सहारा
भावांतर भुगतान योजना से निराशा से मुक्त हुए किसान
स्वरोजगार अपनाकार आरती ने दूसरों को दिया रोजगार
फसल की लाभकारी कीमत मिलने की गारंटी है भावांतर भुगतान योजना
सुमरी बाई का है पक्का घर और शौचालय
बेवा कुसमा बाई को मिला पक्का घर
किसानों को मिलीं कीमतें बेहतर- अफवाहें हुईं बेअसर
भावांतर भुगतान योजना से किसानों को मिला आर्थिक संबल
खरगोन में है प्रदेश का पहला रंगीन मछली उत्पादन केंद्र
कृषि उपज मंडियों में किसानों को उपज की मिल रही सही कीमत
किसान अब खेती-किसानी को घाटे का धंधा नहीं मानते
स्वच्छता के रोल मॉडल तुषार को उपहार में मिली सायकिल
भावांतर राशि पाकर खुश हैं रीवा जिले के किसान
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10