| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

सफलता की कहानी

  

"रोशनी" की नई किरण रजनी बाई

भोपाल : शुक्रवार, नवम्बर 17, 2017, 14:47 IST

हम बात कर रहे हैं सीहोर जिले के बुधनी विकासखंड से 20 किलोमीटर दूर ग्राम रामनगर की रजनी बाई की। ग्राम पंचायत जहानपुर के समीप ग्राम रामनगर में 8 स्व-सहायता समूह में से 2 फरवरी 2016 को गठित एक समूह 'रोशनी' की सचिव हैं रजनी बाई।

कम पढ़ी-लिखी रजनी बाई की पारिवारिक स्थिति अत्यन्त दयनीय थी। आय के साधन भी संतोषजनक नहीं थे। मजदूरी कर बच्चों की शिक्षा-दीक्षा, खान-पान, रहन-सहनइ व्यवस्थित कर पाना मुश्किल था। ऐसे में रजनी बाई ने अपने घर के बाहर चाय, बिस्किट की छोटी-सी दुकान खोली। इससे वह घर पर रहकर ही 50 से 80 रुपये प्रति दिन कमा लेती थी। इससे भी परिवार का गुजारा नहीं हो पा रहा था।

एक दिन रजनी बाई को बुधनी के राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन प्रभारी ने बाद्राभान घाट पर दुकान खोलने की सलाह दी। बुधनी घाट पर लोगों का आवागमन अधिक होने से रजनी बाई की दुकान अच्छी चलने लगी। अब वह 300 से 400 रुपये प्रति-दिन अपनी दुकान से कमाने लगी है। रजनी बाई को उनके पति जगदीश प्रसाद भी भरपूर सहयोग करते हैं। जगदीश प्रसाद ने पत्नी की दुकान के पास ही गाड़ियों के पंचर सुधारने का काम भी शुरू कर दिया है।

रजनी बाई और उसके पति को जनपद पंचायत बुधनी ने अजीविका मिशन में मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना द्वारा लाभांवित किया। रजनी बाई आज ग्रामीण स्व-सहायता समूह के अन्य सदस्यों के लिये प्रेरणा बन गई हैं। रजनी बाई और उसके परिवार को अब गांव में मान-सम्मान मिल रहा है।

सफलता की कहानी (सीहोर)

 
सफलता की कहानी
जैविक खेती से किसान चित्तरंजन को मिली अलग पहचान
मत्स्य पालकों की आय में 10 गुना वृद्धि
मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना की मदद से शिवराम की आय हुई दुगुनी
अब पक्के मकान में रहता है रामकिशन का परिवार
विद्युत शैलचॉक से बढ़ी उदयलाल की आमदनी
भावांतर भुगतान योजना में मक्का के मिल रहे अच्छे भाव
स्व-सहायता समूह द्वारा निर्मित चिक्की ने महिलाओं को दिया आर्थिक संबल
पहले करते थे मजदूरी, अब दे रहे हैं रोजगार
मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से जिया को मिला जीवनदान
सुनने और बोलने लगे हैं भरत और प्रतिज्ञा
सरसों और प्याज की खेती में अव्वल भिण्ड जिले के किसान
अन्त्यावसायी स्व-रोजगार योजना से कपड़ा व्यवसायी बना राजेश
गौ-संवर्धन योजना से किसान बना धनवान
किसानों को मिल रहा उपज का लाभकारी मूल्य
रेखा को जन्म के 7 साल बाद मिली आंखों की रोशनी
फसलों के भाव में उतार-चढ़ाव की चिन्ता से मुक्त हुए किसान
सौरभ का रेडीमेड गार्मेन्ट पन्ना में अब अपरिचित नहीं रहा
माँ के लिए नौकरी छोड़ी तो स्व-रोजगार योजना बनी सहारा
भावांतर भुगतान योजना से निराशा से मुक्त हुए किसान
स्वरोजगार अपनाकार आरती ने दूसरों को दिया रोजगार
फसल की लाभकारी कीमत मिलने की गारंटी है भावांतर भुगतान योजना
सुमरी बाई का है पक्का घर और शौचालय
बेवा कुसमा बाई को मिला पक्का घर
किसानों को मिलीं कीमतें बेहतर- अफवाहें हुईं बेअसर
भावांतर भुगतान योजना से किसानों को मिला आर्थिक संबल
खरगोन में है प्रदेश का पहला रंगीन मछली उत्पादन केंद्र
कृषि उपज मंडियों में किसानों को उपज की मिल रही सही कीमत
किसान अब खेती-किसानी को घाटे का धंधा नहीं मानते
स्वच्छता के रोल मॉडल तुषार को उपहार में मिली सायकिल
भावांतर राशि पाकर खुश हैं रीवा जिले के किसान
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10