| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

सफलता की कहानी

  

व्यापारी ने दी उपज की कीमत, सरकार ने दी भावांतर राशि

खुश हैं किसान आनन्दराम यादव, जयराज दांगी, राजू वर्मा और मोहन

भोपाल : सोमवार, नवम्बर 27, 2017, 14:33 IST

मध्यप्रदेश में किसान अब इसलिए खुश हैं कि उनकी उपज कृषि मंडी में किसी भी कीमत पर बिके लेकिन उन्हें नुकसान नहीं झेलना पड़ेगा। भावांतर भुगतान योजना से राज्य सरकार ने इस नुकसान की भरपाई करने का रास्ता खोज लिया है। अब किसान को व्यापारी द्वारा कृषि उपज मंडी में उपज का तय मूल्य मिलता है और राज्य सरकार उपज के समर्थन मूल्य तथा मॉडल रेट के बीच के अन्तर की राशि को भावांतर राशि के रूप में किसान के खाते में सीधे पहुंचाती है।

भावांतर भुगतान योजना के बारे में खरगोन जिले के ठीबगांव के किसान आनन्दराम यादव, पहाड़सिंगपुरा के जयराज दांगी, बड़वाह के राजू वर्मा और खामखेड़ा के मोहन इस तरह अपने साथी किसानों को समझा रहे हैं क्योंकि उन्हें इसी तरीके से राज्य सरकार ने उपज का सही मूल्य दिलवाया है। किसानों के लिए यह योजना खेती का सुरक्षा कवच बन गई है।

ठीबगांव के आनन्दराम यादव ने अपना मक्का मंडी में बेचा, व्यापारी ने उपज का भुगतान उसी दिन कर दिया लेकिन जब उन्हें अपने बैंक खाते में 38 हजार 281 रुपये जमा होने की खबर मिली तो उन्होंने बैंक वालों से पूछा कि यह किस बात का पैसा है ? बैंक वालों ने जब उन्हें बताया कि यह उनकी उपज के समर्थन मूल्य और मॉडल रेट के बीच के अन्तर की भावांतर राशि है तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा। इसी तरह पहाड़सिंगपुरा के जयराम दांगी बैंक खाते में 35 हजार 534 रुपये भावांतर राशि मिलने पर अगली फसल की तैयारी शुरू कर दी है। ग्राम बड़वाहा के राजू वर्मा अपनी सोयाबीन की फसल की भावांतर राशि 30 हजार 174 रुपये सीधे बैंक खाते में पाकर इसलिये निश्चिंत हुए हैं कि अगली फसल के लिये कर्जा नहीं लेना पड़ेगा। ग्राम खामखेड़ा के किसान मोहन अपने बैंक खाते में 32 हजार 206 रुपये की भावांतर राशि पाकर कहते है कि अब खेती नुकसान का कारोबार नहीं रही क्योंकि सरकार उनके साथ है।

खरगोन जिले में भावांतर भुगतान योजना में 56 हजार से अधिक किसानों ने पंजीयन कराया है। दिनांक 16 से 31 अक्टूबर के बीच मंडी में कृषि उपज विक्रय करने वाले 5,773 किसानों को 3 करोड़ 73 लाख 77 हजार 46 रुपये की भावांतर राशि उनके खातों में मिली है। शेष पंजीबद्ध किसानों को योजना के द्वितीय चरण में राज्य सरकार द्वारा शीघ्र ही भावांतर राशि का भुगतान सुनिश्चित है।

सफलता की कहानी (खरगोन)

 
सफलता की कहानी
जैविक खेती से किसान चित्तरंजन को मिली अलग पहचान
मत्स्य पालकों की आय में 10 गुना वृद्धि
मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना की मदद से शिवराम की आय हुई दुगुनी
अब पक्के मकान में रहता है रामकिशन का परिवार
विद्युत शैलचॉक से बढ़ी उदयलाल की आमदनी
भावांतर भुगतान योजना में मक्का के मिल रहे अच्छे भाव
स्व-सहायता समूह द्वारा निर्मित चिक्की ने महिलाओं को दिया आर्थिक संबल
सरसों और प्याज की खेती में अव्वल भिण्ड जिले के किसान
अन्त्यावसायी स्व-रोजगार योजना से कपड़ा व्यवसायी बना राजेश
गौ-संवर्धन योजना से किसान बना धनवान
किसानों को मिल रहा उपज का लाभकारी मूल्य
रेखा को जन्म के 7 साल बाद मिली आंखों की रोशनी
फसलों के भाव में उतार-चढ़ाव की चिन्ता से मुक्त हुए किसान
सौरभ का रेडीमेड गार्मेन्ट पन्ना में अब अपरिचित नहीं रहा
माँ के लिए नौकरी छोड़ी तो स्व-रोजगार योजना बनी सहारा
भावांतर भुगतान योजना से निराशा से मुक्त हुए किसान
स्वरोजगार अपनाकार आरती ने दूसरों को दिया रोजगार
फसल की लाभकारी कीमत मिलने की गारंटी है भावांतर भुगतान योजना
सुमरी बाई का है पक्का घर और शौचालय
बेवा कुसमा बाई को मिला पक्का घर
किसानों को मिलीं कीमतें बेहतर- अफवाहें हुईं बेअसर
भावांतर भुगतान योजना से किसानों को मिला आर्थिक संबल
खरगोन में है प्रदेश का पहला रंगीन मछली उत्पादन केंद्र
कृषि उपज मंडियों में किसानों को उपज की मिल रही सही कीमत
किसान अब खेती-किसानी को घाटे का धंधा नहीं मानते
स्वच्छता के रोल मॉडल तुषार को उपहार में मिली सायकिल
भावांतर राशि पाकर खुश हैं रीवा जिले के किसान
सूखा प्रभावित किसानों को भावांतर भुगतान योजना से मिली राहत
कृषि मंडियों में मिल रही फसल की सही कीमत
स्वच्छता अभियान के रोल मॉडल दिव्यांग तुषार को मिला डिजिटल श्रवण यंत्र
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10