| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

सफलता की कहानी

  

खरगोन में है प्रदेश का पहला रंगीन मछली उत्पादन केंद्र

भोपाल : रविवार, दिसम्बर 3, 2017, 14:22 IST

घर को सुंदर बनाने में गृहणियों की पहली पसंद फिश एक्वेरियम ही होता है। यह बहुत कम लोगों को मालूम होगा कि फिश एक्वेरियम की रंगीन मछलियों के बीज भी फार्म में ही उत्पन्न होते है।

ऐसी ही करीब 30 प्रकार की रंगीन मछलियों की प्रजाति का उत्पादन केंद्र सरफराज खान ने मत्स्य विभाग के सहयोग से खरगोन के प्रेमनगर में वर्ष 2009 में शुरू किया। खरगोन के सरफराज खान के मछली पालन के शौक को पूरा करने का संघर्ष भी उतना ही रोचक है। वे स्कूल से सीधे खरगोन की ओंडल नदी पर सिर्फ मछलियों को दाना खिलाने जाया करते थे। कुछ समय के बाद खराब आर्थिक स्थिति के कारण सरफराज खान ने ठेला लेकर शहर के फुटपाथ पर मात्र 550 रूपए के 7 फिश पॉट से अपना रंगीन मछली फार्म का सपना पूरा करने का पहला कदम रखा।

वर्ष 2009 में सरफराज खान को मत्स्य विभाग की मत्स्य कृषक विकास अभिकरण योजना द्वारा 8 लाख का लोन और 90 हजार रुपये का अनुदान स्वीकृत हुआ। इससे इन्होंने रंगीन मछलियों का बीज उत्पादन केंद्र बना लिया। खरगोन शहर के पास के गांव प्रेमनगर में एक एकड़ जमीन खरीदी और फार्म तैयार किया। इसके लिए कुआं खुदवाया और ट्यूबवेल पंप की व्यवस्था भी की। इसके बाद इन्हें विभाग द्वारा भुवनेश्वर की केंद्रीय फ्रेशवॉटर एक्वॉकल्चर संस्थान, मरीन प्रोडॅक्ट एक्सपोर्ट डेवलपमेंट अथॉरिटी के कोच्ची केंद्र और नई दिल्ली में प्रशिक्षण के लिए भेजा गया। इसके बाद सरफराज ने वो कर दिखाया जो प्रदेश में पहला उभरता रंगीन मछली बीज उत्पादन केंद्र बन गया।

पूरे मध्यप्रदेश में रंगीन मछली बीज उत्पादन के केवल 2 केंद्र है। उनमें से एक के मालिक सरफराज खान है जो प्रदेश में पहला है। सरफराज प्रदेश में 7 फ्रेंचाइजी के सहयोगी हैं और खरगोन में इनका सुंदर-सा फिश हॉउस भी है। अब सरफराज खान प्रदेश में कार्यरत दो रंगीन मछली बीज उत्पादन केंद्र में एक के मालिक है।

प्रेमनगर में सरफराज के फार्म पर आज गोल्ड फिश, एंजल, चिचलेड, मौली, गप्टी और कार्प, कामन कॉर्प सहित प्लेटी प्रजाति की कई प्रकार की मछलियां है। इनकी एक-एक प्रजाति में 100-100 प्रकार की मछलियां होती है। उनको इस बात की ज्यादा खुशी है कि एक समय वो ओंडल नदी में मौली और गप्टी को दाना खिलाते थे। आज वो बैंकाक की कार्प, ब्रुजल और एंजल तथा एक दर्जन से अधिक रंगीन मछलियों को दाना देते है। सरफराज के फार्म की मछलियां अब मुंबई, चेन्नई और कलकत्ता के बाजार की ज़ीनत हैं। अब सरफराज शुद्ध रूप से प्रतिमाह 40 से 50 हजार की कमाई करने के साथ 5 लोगों को रोजगार भी उपलब्ध करवा रहे है।

 
सफलता की कहानी
जैविक खेती से किसान चित्तरंजन को मिली अलग पहचान
मत्स्य पालकों की आय में 10 गुना वृद्धि
मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना की मदद से शिवराम की आय हुई दुगुनी
अब पक्के मकान में रहता है रामकिशन का परिवार
विद्युत शैलचॉक से बढ़ी उदयलाल की आमदनी
भावांतर भुगतान योजना में मक्का के मिल रहे अच्छे भाव
स्व-सहायता समूह द्वारा निर्मित चिक्की ने महिलाओं को दिया आर्थिक संबल
सरसों और प्याज की खेती में अव्वल भिण्ड जिले के किसान
अन्त्यावसायी स्व-रोजगार योजना से कपड़ा व्यवसायी बना राजेश
गौ-संवर्धन योजना से किसान बना धनवान
किसानों को मिल रहा उपज का लाभकारी मूल्य
रेखा को जन्म के 7 साल बाद मिली आंखों की रोशनी
फसलों के भाव में उतार-चढ़ाव की चिन्ता से मुक्त हुए किसान
सौरभ का रेडीमेड गार्मेन्ट पन्ना में अब अपरिचित नहीं रहा
माँ के लिए नौकरी छोड़ी तो स्व-रोजगार योजना बनी सहारा
भावांतर भुगतान योजना से निराशा से मुक्त हुए किसान
स्वरोजगार अपनाकार आरती ने दूसरों को दिया रोजगार
फसल की लाभकारी कीमत मिलने की गारंटी है भावांतर भुगतान योजना
सुमरी बाई का है पक्का घर और शौचालय
बेवा कुसमा बाई को मिला पक्का घर
किसानों को मिलीं कीमतें बेहतर- अफवाहें हुईं बेअसर
भावांतर भुगतान योजना से किसानों को मिला आर्थिक संबल
खरगोन में है प्रदेश का पहला रंगीन मछली उत्पादन केंद्र
कृषि उपज मंडियों में किसानों को उपज की मिल रही सही कीमत
किसान अब खेती-किसानी को घाटे का धंधा नहीं मानते
स्वच्छता के रोल मॉडल तुषार को उपहार में मिली सायकिल
भावांतर राशि पाकर खुश हैं रीवा जिले के किसान
सूखा प्रभावित किसानों को भावांतर भुगतान योजना से मिली राहत
कृषि मंडियों में मिल रही फसल की सही कीमत
स्वच्छता अभियान के रोल मॉडल दिव्यांग तुषार को मिला डिजिटल श्रवण यंत्र
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10