| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

सफलता की कहानी

  

बेवा कुसमा बाई को मिला पक्का घर

भोपाल : सोमवार, दिसम्बर 4, 2017, 15:10 IST

 

ग्राम धमनई जिला बड़वानी की 65 वर्षीय बेवा कुसमा बाई कनौजे का पक्का घर का सपना प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा हो गया है। अब उनकी इच्छा है कि छोटा पुत्र पटवारी बने और बड़े पुत्र की दो पुत्रियाँ पढ़कर डाक्टर बनें। इसके लिये कुसमा बाई ने अपने नव-निर्मित मकान के बाहर ओटला भी बनवाया है जिस पर उनका छोटा पुत्र मन्नालाल और दो पोतियाँ वंदना एवं पयाल शाम को बैठकर बल्ब की रोशनी में पढ़ाई करती हैं।

बड़वानी नगर से 7 किलोमीटर दूर ग्राम धमनई में कुसमा बाई, पति के गुजरने के बाद मजदूरी कर अपने परिवार का गुजर-बसर करती हैं। इनकी सवा एकड़ भूमि पर इतनी उपज नहीं होती कि अपने परिवार का साल भर अच्छी तरह से पालन-पोषण कर सकें। ऐसे में पक्के घर का सपना बस सपना ही बन गया था। जब कुसमा बाई को पता चला की प्रधानमंत्री आवास योजना में उन्हें 1 लाख 20 हजार रूपये की राशि तथा मनरेगा के तहत अलग से 18 हजार रूपये मजदूरी की राशि भी मिलने वाली है, तो सरपंच से मिलकर इस योजना का फायदा लिया। माँ-बेटे ने अपने ही मकान में मजदूरी कर निर्धारित समय में ही अपने घर के सपने को आकार दे दिया है।

ग्राम धनमई में 564 परिवार रहते हैं। इनमें से 103 परिवार पूर्व में ही मुख्यमंत्री आवास योजना के अंतर्गतअपना घर बना चुके हैं। इस गांव में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 25 और परिवारों ने भी अपने घर बना लिये हैं। 564 परिवारों में से 561 परिवार बीपीएल श्रेणी में दर्ज हैं। ऐसे में मुख्यमंत्री तथा प्रधानमंत्री आवास योजना का क्या महत्व है, यह कोई इस गांव में आकर ही महसूस कर सकता है।

सफलता की कहानी (बड़वानी)

 
सफलता की कहानी
जैविक खेती से किसान चित्तरंजन को मिली अलग पहचान
मत्स्य पालकों की आय में 10 गुना वृद्धि
मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना की मदद से शिवराम की आय हुई दुगुनी
अब पक्के मकान में रहता है रामकिशन का परिवार
विद्युत शैलचॉक से बढ़ी उदयलाल की आमदनी
भावांतर भुगतान योजना में मक्का के मिल रहे अच्छे भाव
स्व-सहायता समूह द्वारा निर्मित चिक्की ने महिलाओं को दिया आर्थिक संबल
पहले करते थे मजदूरी, अब दे रहे हैं रोजगार
मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से जिया को मिला जीवनदान
सुनने और बोलने लगे हैं भरत और प्रतिज्ञा
सरसों और प्याज की खेती में अव्वल भिण्ड जिले के किसान
अन्त्यावसायी स्व-रोजगार योजना से कपड़ा व्यवसायी बना राजेश
गौ-संवर्धन योजना से किसान बना धनवान
किसानों को मिल रहा उपज का लाभकारी मूल्य
रेखा को जन्म के 7 साल बाद मिली आंखों की रोशनी
फसलों के भाव में उतार-चढ़ाव की चिन्ता से मुक्त हुए किसान
सौरभ का रेडीमेड गार्मेन्ट पन्ना में अब अपरिचित नहीं रहा
माँ के लिए नौकरी छोड़ी तो स्व-रोजगार योजना बनी सहारा
भावांतर भुगतान योजना से निराशा से मुक्त हुए किसान
स्वरोजगार अपनाकार आरती ने दूसरों को दिया रोजगार
फसल की लाभकारी कीमत मिलने की गारंटी है भावांतर भुगतान योजना
सुमरी बाई का है पक्का घर और शौचालय
बेवा कुसमा बाई को मिला पक्का घर
किसानों को मिलीं कीमतें बेहतर- अफवाहें हुईं बेअसर
भावांतर भुगतान योजना से किसानों को मिला आर्थिक संबल
खरगोन में है प्रदेश का पहला रंगीन मछली उत्पादन केंद्र
कृषि उपज मंडियों में किसानों को उपज की मिल रही सही कीमत
किसान अब खेती-किसानी को घाटे का धंधा नहीं मानते
स्वच्छता के रोल मॉडल तुषार को उपहार में मिली सायकिल
भावांतर राशि पाकर खुश हैं रीवा जिले के किसान
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10