| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

सफलता की कहानी

  

स्वरोजगार अपनाकार आरती ने दूसरों को दिया रोजगार

भोपाल : गुरूवार, दिसम्बर 7, 2017, 14:24 IST

सिवनी जिले की श्रीमती आरती उईके आज अगरबत्ती निर्माण यूनिट की मालिक हैं। अपनी यूनिट में जरूरतमंदों को रोजगार भी उपलब्ध करवा रही हैं। मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना से ही श्रीमती आरती के लिये संभव हो सका है।

श्रीमती आरती उईके ग्राम लकवाह पोस्ट पौनार, विकासखण्ड छपारा जिला सिवनी की निवासी हैं। पति शिक्षित बेरोजगार होने के कारण परिवार का जीवन आर्थिक तंगी से गुजर रहा था। अखबारों में मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के बारे में पढ़ा तथा योजना का लाभ लेने के लिये आदिवासी वित्त एवं विकास निगम कार्यालय में सम्पर्क किया। निगम से नि:शुल्क सहयोग मिला तथा आई.डी.बी.आई. बैंक से अगरबत्ती निर्माण इकाई के लिए एक लाख 50 हजार रूपये का ऋण मिला। शासन की ओर से 45 हजार रूपये अनुदान का फायदा भी मिला।

श्रीमती आरती उईके एवं उनके पति श्री शिवनंदन उईके ने आवश्यक प्रशिक्षण प्राप्त कर सिवनी में किराए के मकान में पूर्ण लगन एवं परिश्रम से कारखाने का संचालन प्रारंभ किया। अगरबत्ती निर्माण के लिये आवश्यक कच्चा माल शहर से लाकर बनाई गई अगरबत्तियां शहर में आसानी से बिकने से कारखाने का संचालन सुगम होता चला गया।

आरती ने लगन एवं अथक परिश्रम से मात्र 10 माह में ही इतना लाभ कमाया कि एक नई मशीन भी खरीद ली है। इससे यूनिट में पहले से अधिक उत्पादन होने लगा है। इस व्यवसाय से सभी खर्चों को निकालने के बाद आरती को 500-600 रूपये प्रतिदिन का फायदा मिल रहा है। अब शासन की मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना को बेरोजगारों के लिये वरदान मानने लगी हैं आरती।

सफलता की कहानी (जिला सिवनी)

 
सफलता की कहानी
जैविक खेती से किसान चित्तरंजन को मिली अलग पहचान
मत्स्य पालकों की आय में 10 गुना वृद्धि
मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना की मदद से शिवराम की आय हुई दुगुनी
अब पक्के मकान में रहता है रामकिशन का परिवार
विद्युत शैलचॉक से बढ़ी उदयलाल की आमदनी
भावांतर भुगतान योजना में मक्का के मिल रहे अच्छे भाव
स्व-सहायता समूह द्वारा निर्मित चिक्की ने महिलाओं को दिया आर्थिक संबल
पहले करते थे मजदूरी, अब दे रहे हैं रोजगार
मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से जिया को मिला जीवनदान
सुनने और बोलने लगे हैं भरत और प्रतिज्ञा
सरसों और प्याज की खेती में अव्वल भिण्ड जिले के किसान
अन्त्यावसायी स्व-रोजगार योजना से कपड़ा व्यवसायी बना राजेश
गौ-संवर्धन योजना से किसान बना धनवान
किसानों को मिल रहा उपज का लाभकारी मूल्य
रेखा को जन्म के 7 साल बाद मिली आंखों की रोशनी
फसलों के भाव में उतार-चढ़ाव की चिन्ता से मुक्त हुए किसान
सौरभ का रेडीमेड गार्मेन्ट पन्ना में अब अपरिचित नहीं रहा
माँ के लिए नौकरी छोड़ी तो स्व-रोजगार योजना बनी सहारा
भावांतर भुगतान योजना से निराशा से मुक्त हुए किसान
स्वरोजगार अपनाकार आरती ने दूसरों को दिया रोजगार
फसल की लाभकारी कीमत मिलने की गारंटी है भावांतर भुगतान योजना
सुमरी बाई का है पक्का घर और शौचालय
बेवा कुसमा बाई को मिला पक्का घर
किसानों को मिलीं कीमतें बेहतर- अफवाहें हुईं बेअसर
भावांतर भुगतान योजना से किसानों को मिला आर्थिक संबल
खरगोन में है प्रदेश का पहला रंगीन मछली उत्पादन केंद्र
कृषि उपज मंडियों में किसानों को उपज की मिल रही सही कीमत
किसान अब खेती-किसानी को घाटे का धंधा नहीं मानते
स्वच्छता के रोल मॉडल तुषार को उपहार में मिली सायकिल
भावांतर राशि पाकर खुश हैं रीवा जिले के किसान
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10