सक्सेस स्टोरीज

दोना-पत्तल व्यवसाय से बहुत खुश है सागर

भोपाल : शुक्रवार, जनवरी 12, 2018, 17:14 IST

खण्डवा के रामनगर निवासी सागर कोमल प्रसाद मेहरा ने मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना की मदद से दोना पत्तल व्यवसाय स्थापित किया है। इसके लिए उसे 5 लाख रूपये की मदद मिली है, जिसमें 1.50 लाख रूपये अनुदान शामिल है। सागर को केवल 3.50 लाख रूपये ऋण ही आसन किश्तों में चुकाना है। अब इस युवा का दोना-पत्तल बनाने का व्यवसाय अच्छा चल रहा है। इस व्यवसाय की कमाई से ही सागर 10 हजार 600 रूपये की मासिक किश्त नियमित रूप से जमा कर रहा है। सागर को अब अपने व्यवसाय से लगभग 20 हजार रूपये महीने की आय आसानी से प्राप्त होने लगी है।

सागर ने पॉलीटेक्निक डिप्लोमा तक पढ़ाई की है। जब वह फाईनल ईयर में था, तभी उसके पिता के अचानक गुजर जाने से परिवार पर भीषण संकट आ गया था। ऐसे में सबसे पहली जरूरत रोजगार की ही थी। इसलिए सागर ने पढ़ाई बीच में छोड़कर स्व-रोजगार स्थापित करने के लिए अपने दोस्तों से सलाह ली। उसे मालूम हुआ कि अनुसूचित जाति वर्ग के युवाओं को स्व-रोजगार के लिए अन्त्यवसायी समिति द्वारा मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना में मदद दी जाती है। इस वित्तीय मदद में लगभग एक तिहाई राशि अनुदान स्वरूप भी मिलती है।

सागर ने अन्त्यवसायी कार्यालय जाकर आवेदन दिया। उसका दोना-पत्तल व्यवसाय स्थापित करने के लिए प्रकरण स्वीकृत हो गया और बैंक ऑफ इंडिया द्वारा 5 लाख रूपये उसे दिये गए। सागर ने अपने भाई जयंत के साथ दोना-पत्तल बनाने की दो मशीने खरीदीं। कच्चा माल इंदौर से लाकर अपना व्यवसाय प्रारंभ किया। मात्र 3-4 माह पूर्व प्रारंभ इस व्यवसाय में अभी से उसे लगभग 20 हजार रूपये मासिक बचत आसानी से हो जाती है। अब सागर कुछ समय में दोना-पत्तल निर्माण के लिए और मशीन लाकर अपने व्यवसाय को बढ़ाना चाहता है ताकि आमदनी बढ़े। इस व्यवसाय से सागर अपने परिवार का अच्छी तरह पालन पोषण करके बहुत खुश है।

सक्सेस स्टोरी (खण्डवा)


बृजेन्द्र शर्मा/ राजेश पाण्डेय
बलराम तालाब से महिला कृषक श्रीमती आशा बाई ने खेती को बनाया लाभ का धंधा
मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना से सफल उद्यमी बने चन्द्रप्रकाश कोरी
शासकीय योजना का लाभ लेकर प्रिया द्विवेदी ने खोला आधुनिक कार गैरेज
उद्यानिकी फसलों से राजकुमार की आय में 5 गुना वृद्धि
ग्रामीण आजीविका मिशन से तारा का परिवार बना आत्म-निर्भर
आजीविका मिशन से जुड़कर सफल कपड़ा व्यवसायी बनी अंजू धुर्वे
अब रंजना बेटी का दिल भी सामान्य बच्चों की तरह धड़कता है
होशंगाबाद के ग्राम मोरपानी की आदिवासी महिलाएँ हुईं आत्म-निर्भर
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से विवेक बना सफल व्यवसायी
ड्रिप सिंचाई से बंजर जमीन बनी उपजाऊ
स्वास्थ्य, स्वच्छता और आजीविका की बेहतरीन पहल बनी "मुस्कान " इकाई
उज्जवला योजना से शांति बाई को मिली धुएं से मुक्ति
जैविक खेती से प्रहलाद को मिला उत्कृष्ट कृषक पुरस्कार
आदिवासी कृषक दम्पत्ति को मिली ट्रैक्टर-ट्राली
उद्यानिकी एवं अंतरवर्ती फसलों से कृषक अजीत की आमदनी हुई दोगुनी
युवा उद्यमी योजना से सफल व्यवसायी बनी किरण
कियॉस्क एवं आधार सेवा सेंटर के मालिक बने दीपेश आचार्य
नि:शक्तजन विवाह प्रोत्साहन राशि से शुरू किया व्यवसाय
मत्स्य महिला कृषकों ने आत्म-निर्भरता से बनाई पहचान
उज्जवला योजना बनी गरीब महिलाओं की उजली मुस्कान
सोहागपुर में धर्मदास की है रंगीन फोटोकापी की दुकान
कृषक रामऔतार ने खेती को बनाया सर्वाधिक लाभ का व्यवसाय
किसान कल्याण का सशक्त माध्यम बनी भावांतर भुगतान योजना
झाबुआ के दल सिंह प्रगतिशील किसानों की श्रेणी में शामिल
राजपथ पर हरदा की जॉबाज दिव्या करेगी स्टंट
उज्जवला योजना से सकरी हटीला को मिली धुँए से मुक्ति
अब प्रिया स्वस्थ है और परिवार प्रफुल्लित
गुड्डी बाई अब नहीं रही बेसहारा, मिला आवास और गैस कनेक्शन
टिकरिया बनेगा लाख उत्पादक गांव
परम्परागत खेती के साथ उद्यानिकी फसल से मिला 10 लाख सालाना लाभ
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...