social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

नेत्र ज्योति के साथ मंजू के जीवन में भी लौटीं खुशियाँ

भोपाल : शुक्रवार, जनवरी 12, 2018, 17:15 IST

देवास जिले के ग्राम डोकाकुई निवासी मंजू की ज़िंदगी हँसी-खुशी चल रही थी कि 5 वर्ष पहले उसे टायफाइड हुआ और धीरे-धीरे दोनों आँखों से दिखाई देना बंद हो गया। चालीस वर्षीय मंजू के जीवन में जैसे अँधेरा ही अँधेरा छा गया। कुछ लोगों ने उचित इलाज कराने की भी सलाह दी पर मंजू के परिवार का मानना था कि टायफाइड के दौरान उसने किसी नुक्ते में खाना खा लिया, इसलिये माता के प्रकोप से उसकी आँखों की रोशनी चली गई। परिवार अनेक धर्म-स्थल पर जाकर आँखें ठीक होने की मन्नत माँगता रहा पर कुछ नहीं हुआ। परिवार थक-हारकर बैठ गया।

एक तरफ गरीबी और दूसरी तरफ घर की धुरी गृहणी की आँखों की रोशनी जाना परिवार में जैसे सब-कुछ छिन्न-भिन्न हो गया था। बच्चों के पालन-पोषण पर इसका बहुत खराब असर पड़ रहा था। तभी एक दिन स्वास्थ्यकर्मी मंजू के घर पहुँचे और उसे समझा-बुझाकर कन्नौद के सिविल अस्पताल लाया गया। चिकित्सकों ने मंजू और उसके परिवार वालों को समझाया कि देवास जाकर आँखों की जाँच करवाओ तो संभवत: आँखें ठीक हो जायेंगी। पर परिवार मान कर बैठा था कि अब कुछ नहीं हो सकता।

स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी फिर भी निरंतर प्रयास करते रहे। गत 22 दिसम्बर, 2017 को सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण विभाग द्वारा कन्नौद शासकीय स्कूल में शिविर का आयोजन किया गया, जहाँ स्वास्थ्यकर्मी पुन: मंजू को लेकर शिविर में गये। शिविर में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एस.के. सरल ने उसका परीक्षण किया। डॉ. सरल ने उसे समझाया कि यह माता का प्रकोप नहीं बल्कि उसकी आँखों में मोतियाबिंद हुआ है। ऑपरेशन से उसकी आँखों की रोशनी वापस आ जायेगी। बमुश्किल परिवार को ऑपरेशन के लिये राजी किया गया। परिवार ने कहा कि वे ऑपरेशन का खर्च नहीं उठा सकते।

डॉ. सरल ने उन्हें बताया कि देवास आने-जाने का खर्च, अस्पताल में जाँच, ऑपरेशन, उपचार, दवाइयाँ और भोजन सब नि:शुल्क रहेगा। मंजू का ऑपरेशन वह स्वयं करेंगे। इस पर मंजू एवं परिजन मान गये। गत 27 दिसम्बर को डॉ. सरल ने देवास में मंजू की एक आँख का सफल ऑपरेशन किया। उसके बाद 30 दिसम्बर को दूसरी आँख का भी ऑपरेशन सफल रहा।

मंजू और उसका परिवार आज बहुत खुश है। उसकी आँखों की रोशनी वापस आ गई है। घर का वातावरण बदल गया है। पूरा परिवार डॉ. सरल, राज्य शासन और अस्पताल के कर्मचारियों को दुआ देते नहीं थक रहा है।

सक्सेस स्टोरी (देवास)


सुनीता दुबे
जैविक खाद-बीज के प्रयोग से मुनाफा कमा रहे हैं अतरसिंह
राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त किसान अरुणा जोशी अन्य किसानों को सिखा रही कृषि तकनीक
खेती के साथ दुग्ध व्यवसाय कर खुशहाल है बाबूलाल
किसानों की चिंता करने वाली सरकार है शिवराज सरकार
श्रमिक रामप्रसाद, बंसत और खरगोबाई को मिले अपने पक्के मकान
लोक सेवा केन्द्रों से अब एक दिन में मिलते हैं वांछित दस्तावेज
मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना से किसानों को मिली आर्थिक ताकत
उद्यानिकी फसलों के उत्पादन में अग्रणी उज्जैन संभाग के किसान
मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना से बस गया बेसहारा निशा का घर
आदिवासी बहुल ग्रामों में इंटरनेट सुविधा के नवाचार को "न्यू पाथवेज में मिला स्थान
महिलाओं में आर्थिक आत्म निर्भरता का सबब बनी रोजगार योजनाएं
पिंक ड्रायविंग लायसेंस मिलने से निडर बनीं छात्राएँ
सरकार ने साकार किया गरीबों का घर का सपना
मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना से किसानों को मिला आर्थिक सम्बल
प्रशासन ने रोका बाल विवाह : परिजन भी हुए राजी
गेंदा उत्पादन से सालाना एक लाख कमा रहे राधेश्याम
जैविक खेती बनी किसानों की पहली पसंद
समाधान एक दिवस ने दिलायी कार्यालयों के चक्कर लगाने से मुक्ति
सामाजिक सहभागिता से रुके बाल विवाह
मैकेनिक से आटो पार्टस की दुकान का मालिक बना नितिन
खेती के मुनाफे को बढ़ाने में जुटे किसान
हरदा के वनांचल में हैं सुव्यवस्थित हाई स्कूल और आकर्षक भवन
आदिवासी परिवारों के भोजन और आर्थिक उन्नति का आधार है मुनगा वृक्ष
गुरूविन्दर के मेडिकल स्टोर पर मिलने लगी हैं सभी दवायें
किसानों ने खेती को बना लिया लाभकारी व्यवसाय
ग्रामीण आजीविका मिशन से उड़की बना समृद्ध ग्राम
नूरजहाँ और राजबहादुर के कूल्हे का हुआ नि:शुल्क ऑपरेशन
सुदूर अंचल के ग्रामीणों को भी मिली इंटरनेट सुविधा
अब खिलखिलाने लगी है नन्हीं बच्ची भावना
रेज्डबेड पद्धति से 4.5 क्विंटल प्रति बीघा हुआ सोयाबीन उत्पादन
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...