social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

स्प्रिंकलर सिंचाई से अमरूद और मूसली की लाभकारी खेती

भोपाल : शुक्रवार, जनवरी 12, 2018, 18:22 IST

टीकमगढ़ जिले में जतारा जनपद के ग्राम बगौरा के किसान गोकुल रजक को सूखे के कारण खरीफ और रबी फसलों की पारम्परिक खेती में लगातार नुकसान हो रहा था। इससे उनकी आर्थिक स्थिति भी खराब हो गई थी। ऐसे हालात में उद्यानिकी विभाग की मदद से उन्होंने अमरूद के पौधे लगाए। पौधों की बीच की खाली जगह में सफेद मूसली की खेती की। दो-तीन साल की मेहनत में ही अब इनके खेतों में लाखों की उपज पैदा होने लगी है।

किसान गोकुल ने करीब 3 साल पहले उद्यानिकी विभाग में सम्पर्क किया। उन्होंने अधिकारियों को बताया कि मेरे पास जमीन तो है, लेकिन पानी की कमी है। विद्युत पम्प केवल 15 से 20 मिनट चलता है। किसान की बात सुनने के बाद अधिकारियों ने उन्हें अमरूद का बगीचा लगाने की सलाह दी। गोकुल ने एक एकड़ जमीन में 140 अमरूद के पौधे लगाए। इसमें करीब 15 हजार रूपये की लागत आई। दो साल तक देख-रेख करने के बाद पेड़ों में फल लगना शुरू हो गए। जब बाजार में फसल बेची तो पहले की तुलना में आय में करीब 4 गुना बढोत्तरी हो गई। इसके बाद उद्यानिकी अधिकारी से सम्पर्क कर पेड़ों के बीच में सफेद मूसली की खेती भी शुरू कर दी। इसमें करीब 5 हजार रूपये का खर्च आया। अब कृषक गोकुल रजक की सालाना आमदनी करीब 3 लाख रुपये हो गई है।

क्षेत्र में पानी कम होने के कारण कृषक गोकुल रजक अमरूद के पौधों और सफेद मूसली की फसलों में ड्रिप सिस्टम और स्प्रिंकलर प्रणाली से सिंचाई करते हैं। इससे कम पानी होने पर भी फसलों की बेहतर सिंचाई संभव हो जाती है। साथ ही, उत्पादन भी भरपूर होता है।

टीकमगढ़ जिले में शासन की ओर से किसानों को सब्जी और मसाले की खेती के लिए सब्सिडी दी जा रही है। प्रधानमंत्री ड्रिप और स्प्रिंकलर योजना के तहत सामान्य, सीमांत और लघु किसानों को 60 प्रतिशत अनुदान भी दिया जा रहा है। जिले में गोकुल रजक अब किसानों के लिये मिसाल बन चुके हैं। जिले के अन्य किसानों को गोकुल रजक के खेत पर ले जाकर समय-समय पर नई तकनीक के बारे जानकारी दी जाती है।          


सुनीता दुबे
जैविक खाद-बीज के प्रयोग से मुनाफा कमा रहे हैं अतरसिंह
राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त किसान अरुणा जोशी अन्य किसानों को सिखा रही कृषि तकनीक
खेती के साथ दुग्ध व्यवसाय कर खुशहाल है बाबूलाल
किसानों की चिंता करने वाली सरकार है शिवराज सरकार
श्रमिक रामप्रसाद, बंसत और खरगोबाई को मिले अपने पक्के मकान
लोक सेवा केन्द्रों से अब एक दिन में मिलते हैं वांछित दस्तावेज
मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना से किसानों को मिली आर्थिक ताकत
उद्यानिकी फसलों के उत्पादन में अग्रणी उज्जैन संभाग के किसान
मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना से बस गया बेसहारा निशा का घर
आदिवासी बहुल ग्रामों में इंटरनेट सुविधा के नवाचार को "न्यू पाथवेज में मिला स्थान
महिलाओं में आर्थिक आत्म निर्भरता का सबब बनी रोजगार योजनाएं
पिंक ड्रायविंग लायसेंस मिलने से निडर बनीं छात्राएँ
सरकार ने साकार किया गरीबों का घर का सपना
मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना से किसानों को मिला आर्थिक सम्बल
प्रशासन ने रोका बाल विवाह : परिजन भी हुए राजी
गेंदा उत्पादन से सालाना एक लाख कमा रहे राधेश्याम
जैविक खेती बनी किसानों की पहली पसंद
समाधान एक दिवस ने दिलायी कार्यालयों के चक्कर लगाने से मुक्ति
सामाजिक सहभागिता से रुके बाल विवाह
मैकेनिक से आटो पार्टस की दुकान का मालिक बना नितिन
खेती के मुनाफे को बढ़ाने में जुटे किसान
हरदा के वनांचल में हैं सुव्यवस्थित हाई स्कूल और आकर्षक भवन
आदिवासी परिवारों के भोजन और आर्थिक उन्नति का आधार है मुनगा वृक्ष
गुरूविन्दर के मेडिकल स्टोर पर मिलने लगी हैं सभी दवायें
किसानों ने खेती को बना लिया लाभकारी व्यवसाय
ग्रामीण आजीविका मिशन से उड़की बना समृद्ध ग्राम
नूरजहाँ और राजबहादुर के कूल्हे का हुआ नि:शुल्क ऑपरेशन
सुदूर अंचल के ग्रामीणों को भी मिली इंटरनेट सुविधा
अब खिलखिलाने लगी है नन्हीं बच्ची भावना
रेज्डबेड पद्धति से 4.5 क्विंटल प्रति बीघा हुआ सोयाबीन उत्पादन
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...