सक्सेस स्टोरीज

बालाघाट में मूलचंद ने की केले की खेती की शुरूवात

भोपाल : रविवार, फरवरी 11, 2018, 15:18 IST

बालाघाट जिला मध्यप्रदेश में धान की खेती के लिये पहचाना जाता है। जिले के ग्राम नरसिंगा के किसान मूलचन्द भी वर्षों से अपने खेत में धान की खेती कर रहे हैं। किसान मूलचन्द को धान की खेती से पिछले कुछ वर्षों से कम मुनाफा मिल रहा था। इसकी चर्चा उन्होंने अपने क्षेत्र के उद्यानिकी अधिकारी से की। उद्यानिकी अधिकारी ने उन्हें नई तकनीक के साथ केले की खेती करने की सलाह दी।

किसान मूलचन्द गजभिये ने टीसू कल्चर, जी-09 प्रजाति के 600 केले के पौधे अपने खेत में लगाये। उनके द्वारा लगाये गये ज्यादातर केले के पौधे सही सलामत हैं। मूलचन्द ने बताया कि केले की फसल लगाने में 60 हजार रुपये की राशि खर्च हुई है। उन्हें प्रति पौधे पर 30 किलोग्राम तक केला फल मिलेगा। मूलचन्द को अनुमान है कि उद्यानिकी अधिकारी के मार्गदर्शन में उन्हें 4 लाख रुपये तक की आमदनी होगी। किसान मूलचन्द ने केले के खेत के पास ही मुर्गी पालन के लिये पोल्ट्री फार्म भी खोला है। वे मुर्गियों की बीट का उपयोग केले की फसल में खाद के रूप में कर रहे हैं। इससे केले के पौधे अच्छी स्थिति में है।

बालाघाट में अभी केले की कुल मांग का केवल 2 प्रतिशत उत्पादन ही होता है। मांग की बाकी पूर्ति जिले के बाहर से की जाती है। आज मूलचंद के खेत में लगे केले के पौधों को देखकर क्षेत्र के अन्य किसानों ने भी पूछताछ शुरू कर दी है। इन किसानों ने भी अपने खेत के कुछ हिस्से में केले की फसल लेने का निर्णय लिया है। उद्यानिकी विभाग बालाघाट जिले में केले की खेती को बढ़ावा देने के लिये प्रयास कर रहा है।

सक्सेस स्टोरी(बालाघाट)


मुकेश मोदी
मजदूर से बांसकला की मास्टर ट्रेनर बनीं कमला वंशकार
प्रधानमंत्री आवास योजना से नीमच जिले में 4,209 गरीबों को मिले घर
बड़वानी में स्व-सहायता समूह की महिलाएँ करेंगी सड़कों का रख-रखाव
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना की मदद से नितिशा ने शुरू किया सिल्वर शीट निर्माण का कारखाना
किसानों को मिल रहे हैं जैविक खेती के फायदे
प्रदेश के किसानों को उद्यानिकी फसल से मिली आर्थिक समृद्धि
"माँ तुझे प्रणाम" से साहस, राष्ट्र के प्रति समर्पण और नेतृत्व करने का मिला मार्गदर्शन
चीतल मछली पालन कर मत्स्य गोपाल बने दशरथ मल्लाह
प्रधानमंत्री आवास योजना से गरीबों को मिल रहे पक्के मकान
निजी स्कूलों को मात करती है ग्राम नवादपुरा की आँगनवाड़ी
स्वास्थ्य सुविधाओं से निरोगी हो रहे हैं प्रदेश के लोग
जन्मजात रोगों से घिरे बच्चों को मध्यप्रदेश में मिल रही नि:शुल्क चिकित्सा
प्राथमिक शाला के बच्चे कर रहे हैं डिजिटल माध्यम से पढ़ाई
पटेल कृषि फार्म के मार्के से बिक रहा है एप्पल बैर
मछली पालन में पारंगत सुरेश को मिलेगा राज्य स्तरीय पुरस्कार
अब गुड़ और दलिया खाकर स्कूल जाता है सहरिया परिवार का छोटू
वंश के बोल पर मिली तालियों की गड़गड़ाहट
नर्मदा सेवा समिति हीरापुर ने श्रमदान से बना दिया एक हजार बोरियों का बंधान
"एक सड़क ने बदला गांव का जीवन : खुले तरक्की के द्वार"
स्व-रोजगार योजनाओं की मदद से युवा वर्ग बन रहे उद्यमी
सरकारी योजनाओं से कमजोर वर्गों को मिल रही नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा
आर्थिक नुकसान की आशंका से मुक्त हुए किसान
कस्टम हायरिंग सेंटर चलाने वाला प्रदेश का पहला महिला स्व-सहायता समूह
ग्राम हड़हा वासियों को मिले पक्के घर
ग्रामीण महिलायें बनीं स्वावलम्बी : गाँव हुए खुशहाल
मन की बात से प्रेरित होकर बना दिया डेयरी का आधुनिकतम संयंत्र
व्यवसायी स्वयं घर आते हैं बेर खरीदने
मिसाल बने युवा उद्यमी गौरव : मुख्यमंत्री ने दी शाबाशी
मुख्यमंत्री की किसान हितैषी घोषणाओं से किसान हुए खुशहाल
स्व-रोजगार योजनाओं से युवा बन रहे स्वावलंबी
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...