आलेख
19 दिसम्बर - एकात्म यात्रा के शुभारंभ पर विशेष

धन्य है वह भूमि जहाँ साक्षात् शंकर के चरण पड़े

भोपाल : रविवार, दिसम्बर 17, 2017, 18:29 IST
 

अपने देश की सनातन संस्कृति के अविरल प्रवाह की प्रशस्ति के लिए सर्वप्रिय गीत.. सारे जहाँ से अच्छा हिंदोस्तां हमारा की एक पंक्ति है- कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी, सदियों रहा है दुश्मन दौर-ए-जहाँ हमारा। यूनान, मिस्र, रोमा सभी मिट गए काल के प्रवाह के साथ और हमारी सनातन संस्कृति सृष्टि की रचना के समय से अब तक निरंतर चलती चली आ रही है.. क्यों...? कवि ने ये जो ..कुछ बात.. का संकेत किया है ये कौन सी बात है? यह जिज्ञासा हम सभी के अवचेतन मन में है। 

मैं समझता हूँ कि ये जो कुछ बात है..इसके पीछे ही खड़े हैं आदिगुरू शंकराचार्य जी। साक्षात् भगवान् शंकर के अवतार। गीता में धर्म की हानि होने पर ईश्वर के मनुष्यरूप में अवतार का वर्णन है। त्रेता में राम और द्वापर में कृष्ण का अवतार हुआ। इनके जन्म की पृष्ठभूमि में राक्षसी शक्तियों का अत्याचार, अनाचार, सामाजिक पतन था। धरती में चारों तरफ हाहाकार मचा था। इन दोनों ईश्वरीय अवतारों ने मनुष्य रूप धर के जग को मुक्ति दिलाई। ईश्वर अंश होने के बावजूद दोनों ने मनुष्य रूप में जितने कष्ट होते हैं, उसको भोगा। किसी चमत्कार से नहीं बल्कि अपने मानवीयोचित पराक्रम से समाज की आदर्श व्यवस्था कायम की। युगों-युगांतरों के बाद आज भी हर भारतीय के प्राणों में बसे हैं। मनुष्य कामना करता है कि जब उसके प्राण निकले तो मुँह से गोविंद का नाम निकले राम का नाम निकले। गाँधीजी हे राम का उच्चारण करते हुए इह लोक से चले गए। राम और कृष्ण भगवान् विष्णु के अवतार थे। मनीषियों ने जगदगुरु शंकराचार्य को साक्षात् शंकर का अवतार माना है। आचार्य शंकर की अलौकिकता उनके जन्म संन्यास की दीक्षा से लेकर महाप्रयाण तक प्रकट रूप से रही। 

राम और कृष्ण के अवतार तो समय की याचना के आधार पर हुए, पर आचार्य शंकर का अवतार पूर्वाभाषी था,मैं ऐसा मानता हूँ। आठवीं शताब्दी के पूर्व भारतभूमि में जो कुछ घटा  वह यहीं की सनातन संस्कृति के गर्भ से प्रस्फुटित हो रहा था। एक तरह से वह वेदांत दर्शन का ही विस्तार था चाहे वह सिद्धार्थ का गौतम बुद्ध बन जाना हो या जैन मत का प्रादुर्भाव। विदेशी आक्रांताओं के हमले आठवीं सदी के बाद से शुरू हुए। आचार्य शंकर के जन्म लेने के बाद। ये सभी हमले राज्य के हरण से ज्यादा सांस्कृतिक, धार्मिक हमले थे। यवन, तुर्कों और मुगलों के हमले धर्म के विस्तार को लेकर हुए।  हमलावरों नें मंदिर, आश्रम, वैदिक साहित्य को अपना निशाना बनाया। सभी की कोशिश थी कि भारत भूमि की सनातनी संस्कृति का कहीं नामोनिशान न रह जाए। वेद-वेदांत दर्शन के केन्द्र नालंदा, तक्षशिला को आग के हवाले कर स्वाहा कर दिया। मुगलों के बाद अँग्रेजों का आना भी व्यवसायिक से ज्यादा धार्मिक था। वे चर्च और पादरी साथ लेकर आये। उनकी नीयत का अंदाज इसी से लगा सकते हैं कि उनके सबसे ज्यादा निशाने पर जगदगुरु शंकराचार्य की जन्म-भूमि केरल ही रही। जिस केरल की भूमि से सनातन धर्म पुनः आलोकित हुआ, पूरे देश में फैला, अँग्रजों ने ईसाइयत के विस्तार के लिए उसी को चुना। इन सबके बाद भी कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी..। 

जब इस हस्ती की रक्षा के लिए साक्षात् भगवान् शंकर ही अवतरित होकर आ गए तो फिर सृष्टि में ऐसा कौन है जो इसे मिटा दे। आचार्य शंकर ने सोलह वर्ष की उम्र में वेदांत दर्शन की व्याख्याएँ कर दीं,सहस्त्राधिक रचनाएँ रच दी। देश के चारों कोनों पर चार पीठों की स्थापना करके भारतीयता को एक सूत्र में पिरो दिया। इन चारों धाम का जब तक अस्तित्व रहेगा। हर सनातनी के ह्रदय में जब तक आचार्य शंकर का वास,मस्तिष्क में उनका दर्शन और उपदेश, आचरण में उनके द्वारा निर्धारित मर्यादाएं बनी रहेंगी तब तक हमारी सनातनी संस्कृति का प्रवाह अविरल रहेगा। भौतिक बाधाएँ चाहे कितनी ही न खड़ी कर दी जाएं।

मध्यप्रदेश प्रदेश की भूमि धन्य और पवित्र है। आचार्य शंकर का समूचा वांगमय यहीं रचा गया,ओंकारेश्वर में गुरु गोविंदपादाचार्य के सान्निध्य में। मध्यप्रदेश की भूमि उनकी गुरु भूमि है। यहीं से शंकर दिग्विजय यात्रा शुरू हुई। मालवा के प्रख्यात विद्वान मंडन मिश्र से शास्त्रार्थ यहीं महिष्मति जिसे आज माहेश्वर कहा जाता है में हुआ। इस कड़ी में हमारी विन्ध्य भूमि की महत्ता आचार्य शंकर के श्रीचरणों ने और बढ़ा दी। विद्वानों के शोध बताते हैं कि उनकी दक्षिण से उत्तर की यात्रा का वही पथ था जो भगवान् राम का चित्रकूट से दंडकारण्य का था। वे अब के बस्तर की इंद्रावती और महानदी को पार करते हुए अमरकंटक पहुँचे। यहाँ माँ नर्मदा का ध्यान किया और यहीं से प्रदक्षिणा करते हुए ओंकारेश्वर पहुँचे। ओंकारेश्वर में गुरु गोविंदपादाचार्य के दर्शन कर उनका शिष्यत्व ग्रहण किया। वेदांत सूत्र, उपनिषदों के भाष्य और प्रस्थानत्रयी की रचना यहीं हुई। विद्वानों के अनुसार 16वर्ष की आयु में ये सब रचकर वे बौद्धिक दिग्विजय यात्रा पर निकले।

नर्मदा मैय्या की सबसे श्रेष्ठ कर्णप्रिय और पवित्र स्तुति -त्वदीय पाद पंकजम् नमामि देवि नर्मदे..। की भी एक रचना कथा है। ओंकारेश्वर आश्रम में उनके गुरु साधना रत थे। तभी माँ नर्मदा ने विकराल रूप किया। जनजीवन जल प्लवित होने लगा तब शंकराचार्य जी ने नर्मदाष्टक रचकर माँ की आराधना की।

रीवा की भूमि को भी आचार्य शंकर ने पवित्र किया। यहाँ पुण्य-सलिला बीहर के तट पर एक आश्रम है पंचमठा। यह नाम बाद में दिया गया है। शंकराचार्य चारों मठ स्थापित करने के बाद काशी से प्रयाग होते हुए महिष्मति की यात्रा में थे तब यहाँ उनका प्रवास हुआ। वे यहाँ एक सप्ताह रहे। सन् 1986 में काँची कामकोटि के शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती जी अपने उत्तराधिकारी विजयेन्द्र जी के साथ यहाँ प्रवास पर आए थे। अपना उत्तराधिकार सौंपने के पूर्व वे आदि शंकराचार्य जी के प्रदिक्षणा पथ की यात्रा में थे। पंचमठा का प्रवास इसी क्रम में था। काँची कामकोटि में आदिगुरू शंकराचार्य की यात्राओं और प्रवासों का यथार्थ वृतांत है उसमें रीवा शहर स्थित पंचमठा भी शामिल है। यह मठ ब्रह्मलीन स्वामी ऋषिकुमार संचालित करते थे। उनके शिष्य जो स्वयं इस मठ में चालीस साल बिताए डा. कुशल प्रसाद शास्त्री बताते हैं कि पंचमठा महानिर्वाणी अखाड़े के साधुओं का भी प्रवास स्थल रहा है। उज्जैन और प्रयाग के महाकुंभों के समय वे यहाँ लाव लश्कर के साथ आते थे। उनके आने व प्रवास के पीछे भी शंकराचार्य का इस भूमि से जुड़ाव था। उन साधुओं के महामंडलेश्वर के पास एक ताम्रपत्र था जिसमें पूरा वृत्तांत उल्लिखित है। डा. शास्त्री ने जानकारी दी कि एक बार पुरी के शंकराचार्य निरंजन तीर्थ का भी पंचमठा प्रवास हुआ था। वे भी जगदगुरू की स्मृतियों को सहेजने ही आए थे। पंचमठा का प्रसंग आदि गुरू के जीवन के उतरार्द्ध काल का है इसलिए न तो इसका ज्यादा महात्‍म्य बना और न ही जगदगुरू के पाँचवें मठ के रूप में प्राण प्रतिष्ठा ही हो पायी।

19 दिसम्बर से प्रारंम्भ होने वाली आदि गुरू शंकराचार्य को समर्पित एकात्म यात्रा के शुभारंभ के लिए रीवा के पंचमठा का भी चयन इसीलिए किया गया है। तीन अन्य यात्राएँ अमरकंटक, उज्जैन और ओंकारेश्वर से निकलेंगी। समापन 22 जनवरी को ओंकारेश्वर में होगा। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आदि गुरू शंकराचार्य जी की आध्यात्मिक धरोहर और स्मृतियों को सहेजने का जो स्तुत्य कार्य प्रारंभ किया है उसे पीढ़ियाँ याद रखेंगी। आदि गुरु साक्षात् शंकरावतार ने अपने चरणों से मध्यप्रदेश की भूमि को पवित्र और कालजयी ऋचाओं से सुवासित किया है उनके संरक्षण और लोक-व्यापीकरण के इस ऐतिहासिक प्रयोजन को युगों-युगों तक स्मरण किया जाएगा।

नोट: कृपया आलेख 19 दिसम्बर के अंक में प्रकाशित करने का कष्ट करें।


जयराम शुक्ल - लेखक वरिष्ठ पत्रकार, स्तंभकार है।
हर पैरामीटर पर प्रगति करता मध्यप्रदेश
कृषि में मध्यप्रदेश की प्रगति अविश्वसनीय
मध्यप्रदेश में समृद्ध शैव परम्परा
खिलाड़ियों ने अंतर्राष्ट्रीय स्पर्धाओं में फहराया मध्यप्रदेश का परचम
मध्यप्रदेश में सुशासन में सूचना प्रौद्योगिकी का प्रभावी उपयोग
आदि शंकर का अद्वैत-एकात्म दर्शन
मध्यप्रदेश सरकार द्वारा हर युग की निधि आदि शंकराचार्य का स्मरण : एक स्तुत्य प्रयास
धन्य है वह भूमि जहाँ साक्षात् शंकर के चरण पड़े
स्व-सहायता समूहों के जरिए महिला स्वावलम्बन की नींव रखता मध्यप्रदेश
"नमामि देवि नर्मदे"-नर्मदा सेवा यात्रा की उपलब्धियों का वर्ष
पुरा-सम्पदा के संरक्षण एवं संवर्धन को मिली प्राथमिकता
मध्यप्रदेश आज सड़के सपनों को साकार करने का जरिया
बारह वर्ष में लोक निर्माण विभाग की उपलब्धियाँ
स्मार्ट मध्यप्रदेश के सहज मुख्यमंत्री शिवराज - माया सिंह
मुख्यमंत्री पद की मिसाल हैं श्री शिवराज सिंह चौहान - अंतर सिंह आर्य
चिकित्सा शिक्षा व्यवस्था में अग्रणी मध्यप्रदेश
बेहतर पर्यटन सुविधाओं का साक्षी बना मध्यप्रदेश
स्वराज संस्थान और शौर्य स्मारक से प्रदेश को मिली नई पहचान
विमुक्त, घुमक्कड़ एवं अर्द्ध-घुमक्कड़ जनजातीय कल्याण योजनाओं का प्रभावी क्रियान्वयन
दीनदयाल वनांचल सेवा : शिक्षा, स्वास्थ्य की नई परिभाषा
युवाओं का कौशल उन्नयन कर रोजगार के योग्य बनाती मध्यप्रदेश सरकार
मालवा का खोया वैभव लौटाने की ऐतिहासिक पहल
राजस्व प्रकरणों के निराकरण के लिए महा-अभियान
सुशासन का नया अध्याय
महिला सशक्तिकरण की सार्थक पहल "तेजस्विनी"
हनुवंतिया में अलार्म नहीं चिडि़यों के चहचहाने से जागते हैं सैलानी
स्वच्छता से सेवा की दिशा में मध्यप्रदेश के तेज डग
आत्मिक शांति का अनुभव कराता है ओरछा
क्लीन सिटी, ग्रीन सिटी, यही है मेरी ड्रीम सिटी की दिशा में बढ़ता मध्यप्रदेश
नगरीय क्षेत्रों के सुनियोजित विकास पर तेजी से काम
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...